Home Gadgets Lohri Recipe 2021: लोहड़ी पर मीठे में बनाएं गन्‍ने के रस की...

Lohri Recipe 2021: लोहड़ी पर मीठे में बनाएं गन्‍ने के रस की खीर, रिश्तों में भी भर जाएगी मिठास

Lohri Traditional Recipe 2021: त्योहार कोई भी हो उस दिन उससे जुड़ी कोई न कोई पारंपरिक डिश घर पर जरूर बनाई जाती है। ऐसे ही एक स्वीट डेजर्ट का नाम है गन्ने के रस की खीर। आज देशभर में लोहड़ी का त्योहार मनाया जाएगा। ऐसे में आज के दिन पंजाबी रसोई में सरसों का साग और मक्के की रोटी के अलावा गन्ने के रस की खीर भी जरूर बनाई जाती है। गन्ने के रस की खीर एक पारंपरिक पंजाबी डिश है, जिसे बनाने में बहुत मेहनत नहीं लगती है। लेकिन स्वाद के मामले में यह वाकई बेमिसाल होती है।

गन्ने के रस की खीर बनाने के लिए सामग्री :  
1 लीटर गन्‍ने का रस 
150 ग्राम चावल 
1 चम्मच इलायची पाउडर
5-6 बारीक कटे हुए काजू
5-6 बारीक कटे हुए बादाम
5-6 बारीक कटे हुए पिस्ता
2 चम्मच किशमिश

विधि :
सबसे पहले चावलों को धोकर भिगो दें। अब एक पैन में गन्ने का रस उबलने के लिए रख दें। उबलते समय गन्ने के रस के ऊपर गंदगी आने लगती है। इसे चम्मच की मदद से उतारते रहें। 

रस में जब उबाल आ जाए तब इसमें भिगोए हुए चावल पानी से निकालकर डालें। चावल डालकर धीमी आंच पर पकने दें। कुछ देर बाद चेक कर लें कि चावल पक गए हैं या नहीं। चावल पकने के बाद इसमें ड्राय फ्रूट्स और इलायची पाउडर डालें।

गन्ने की खीर को ठंडा करके सर्व करें। अगर आप कम मीठा पसंद करते हैं, तो इसमें थोड़ी फीकी रबड़ी भी मिला सकते हैं। वैसे तो यह खीर बिना दूध के ही बनाई जाती है, अगर आप इसमें दूध मिलाना चाहते हैं तो गरम रस में दूध न मिलाएं। इससे खीर फट सकती है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

चेहरे के पुराने से पुराने दाग-धब्बों को भी ठीक कर देगा शहद से बना यह फैस पैक

कई बार ऐसा होता है कि हमारे चेहरे पर ग्लो तो होता है लेकिन दाग-धब्बे और झाईयां हमारे चेहरे की नेचुरल सुंदरता को कुछ...

लोक परंपरा व संस्कृति के रंगों से सराबोर हुई कुंभनगरी हरिद्वार

आगामी कुंभ के लिए तैयार हो रही धर्म नगरी हरिद्वार लोक परंपराओं व संस्कृति के रंगों से सराबोर हो उठी है जो श्रद्धालुओं के...

भारत का पहला श्रमिक आंदोलन संग्रहालय केरल में खुलेगा

विश्व श्रमिक आंदोलन के इतिहास को दर्शाने वाला देश का पहला श्रमिक आंदोलन संग्रहालय केरल के अलाप्पुझा में शुरू किया जाएगा। राज्य के पर्यटन...

पक्षियों में विकसित क्षमता की वजह से बर्ड फ्लू के मामलों में दर्ज हुई कमी

मध्यप्रदेश के इंदौर जिले में मौसम के बदलाव और पक्षियों की रोग प्रतिरोधक क्षमता के विकसित होने की वजह से बर्ड फ्लू के मामलों...

Recent Comments