Home Reviews आखिर अमेरिका में सरकार

आखिर अमेरिका में सरकार

संदेह, आशंका और कशमकश के तीन हफ्ते बीत जाने के बाद आखिर अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने इशारों-इशारों में हार मान ली और वहां नए राष्ट्रपति जो बाइडन को सत्ता हस्तांतरित करने की प्रक्रिया औपचारिक रूप से शुरू हो गई। ट्रंप ने खुलकर हार अभी भी नहीं मानी है, लेकिन उन्होंने एक ट्वीट में इतना कह दिया कि जनरल सर्विस एडमिनिस्ट्रेशन के लिए ‘जो भी करने की जरूरत है वह करने का समय आ गया है’।

इसके बाद प्रशासन और वाइट हाउस के स्टाफ ने जो बाइडन और उनकी टीम को रिपोर्ट करना शुरू कर दिया है, इसलिए अब माना जा सकता है कि आगे सत्ता हस्तांतरण का काम सहज रूप में संपन्न हो जाएगा। इससे पहले 3 नवंबर को संपन्न हुए राष्ट्रपति चुनाव के बाद ट्रंप जिस तरह इसके नतीजों की अनदेखी करते हुए खुद को विजेता घोषित करते रहे, वह अमेरिकी लोकतंत्र और इसकी आधारभूत संस्थाओं की मजबूती को लेकर बनी-बनाई धारणाओं पर गंभीर सवाल खड़े करता है।

गनीमत रही कि डेमोक्रैटिक पार्टी के प्रत्याशी जो बाइडन और सिटिंग प्रेजिडेंट के बीच मतों का अंतर अच्छा-खासा रहा। उनकी जीत का फासला अगर 60 लाख के बजाय 10-20 लाख का होता तो ट्रंप संदेह का लाभ उठाते हुए अपनी हार को जीत में बदलने के लिए किस हद तक जाते और फिर अमेरिकी लोकतांत्रिक व्यवस्था की क्या गत बनती, इसका सिर्फ अंदाजा ही लगाया जा सकता है।

बहरहाल, जैसे भी हो यह खतरा इस बार टल गया है। उम्मीद की जाए कि इस मौके का फायदा उठाते हुए अमेरिका का नया निजाम अपने यहां लोकतांत्रिक संस्थाओं और मूल्यों को इतनी मजबूती देगा कि भविष्य में जनादेश के अपहरण की आशंका दोबारा सिर न उठा सके। राहत की बात है कि निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन के कदम इसी दिशा में बढ़ते हुए नजर आ रहे हैं। उन्होंने अपनी जो टीम चुनी है, मंत्रिमंडलीय सहयोगियों के जो नाम फाइनल किए हैं, वे न सिर्फ कार्यकुशलता और अनुभव की कसौटी पर खरा उतरते हैं बल्कि चेहरों के स्तर पर शासन में विविधता की जरूरत भी पूरी करते हैं।

जमैकन-भारतीय मूल की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से आगे बढ़ें तो आंतरिक सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालने जा रहे अलेजांद्रो मेयरकास का परिवार क्यूबा से अमेरिका में बतौर रिफ्यूजी आया था। जहां तक इस नई सरकार की नीतियों का सवाल है तो विदेश मंत्री की जिम्मेदारी पूर्व राष्ट्रपति ओबामा के समय विदेश उपमंत्री रहे एंटनी ब्लिंकेन को सौंपना इस बात का संकेत देता है कि विदेश नीति में अचानक कोई बड़ी उठापटक नहीं देखने को मिलेगी।

यूं भी कुछ दिन पहले एक कार्यक्रम में ब्लिंकेन कह चुके हैं चीन की बढ़ती आक्रामकता अमेरिका और भारत दोनों के सामने साझा चुनौती है, जिसका मुकाबला वे भारत से रिश्ते और बेहतर बनाकर करना चाहेंगे। ऐसे में उत्सुकता एक ही बची है कि पाकिस्तान के प्रति बाइडन सरकार क्या रुख अपनाती है। इतना तय है कि भारत-अमेरिका संबंध ट्रंप के दौर से नीचे नहीं जाने वाले।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वेट कंट्रोल करने के लिए रोजाना पिएं तीन चीजों से मिलाकर बना आयुर्वेदिक काढ़ा, थकावट भी होगी दूर

वजन कम करने के लिए हम क्या-क्या जतन नहीं करते लेकिन कई बार ऐसा होता है कि वजन कम करने के लिए डाइटिंग और...

खादी उत्पादों की बढ़ रही है मांग, खादी मेले में लौटी रौनक

राजस्थान के उदयपुर में राज्य कायार्लय खादी एवं ग्रामोद्योग भारत सरकार के संयोजन में अम्बेडकर विकास समिति चोमूं द्वारा टाउनहॉल में आयोजित किये जा...

Raj Kachori Recipe : घर पर इस हेल्दी तरीके से बना सकते हैं राज कचौड़ी, जानें रेसिपी

कचौड़ी किसी पसंद नहीं है। वहीं चाय के साथ कचौड़ी का साथ मिल जाए, तो टी टाइम और भी स्पेशल बन जाता है। आज...

ठंड में गले की खराश से मुक्ति दिलाएंगे ये पांच आयुर्वेदिक उपाय, खांसी-जुकाम से भी मिलेगी राहत 

सर्दियों में गले की खराश होना आम बात है लेकिन लम्बे समय तक ऐसी स्थिति रहने पर गले में चोट भी आ सकती है...

Recent Comments