Home Gadgets नेहा कक्कड़ का बिना ‘कॉपी’ किया पिंक लहंगा जिसकी कीमत जानकर फैन्स...

नेहा कक्कड़ का बिना ‘कॉपी’ किया पिंक लहंगा जिसकी कीमत जानकर फैन्स ने कहा ‘महंगा है लेकिन खुद का स्टाइल अच्छा है’ 

नेहा कक्कड़ इन दिनों अपनी रोमांटिक फोटोज और हनीमून ट्रैवल डायरी को लेकर एक बार फिर से सुर्खियां बटोर रही हैं। इससे पहले नेहा अपनी शादी के आउटफिट्स को लेकर निशाने पर थीं। दीपिका, अनुष्का और प्रियंका के वेडिंग अटायर को कॉपी करने को लेकर नेहा का सोशल मीडिया पर मजाक भी बन चुका है। इन मिलते-जुलते आउटफिट्स से अलग नेहा कक्कड़ ने अपने संगीत फंक्शन में जो लहंगा पहना था, उसे काफी पसंद किया गया था। 

नेहा कक्कड़ ने जो लहंगा पहना था वह अनीता डोंगरे का डिजाइन था। नेहा के पिंक लहंगे में सिल्वर इंब्राइडरी का थी, साथ ही लहंगे में भारी सिल्वर गोटा भी लगा था। साथ ही जरदोसी, जरी और पर्ल्स का काम भी हुआ था। नेहा ने इस लहंगे को चोकर नेकलेस और मैचिंक इयरिंग्स  के साथ पहना। सोशल मीडिया पर नेहा कक्कड़ की वह तस्वीरें खूब वायरल हुईं। इस लहंगे की कीमत 3,22,000 रुपए है।

 

 

 

अनीता डोंगरे की ऑफिशियल वेबसाइट पर इस लहंगे का प्राइज शो हो रहा है। इस लहंगे को इसलिए भी पसंद किया गया क्योंकि नेहा का यह आउटफिट किसी भी एक्ट्रेस से इंस्पार्डर नहीं था। 

 

बीते महीने ही शादी की थी. दोनों ने दिल्ली के गुरुद्वारे में फेरे लिये थे. उनकी शादी के दौरान रोके से लेकर हल्दी, मेहंदी, संगीत, रिसेप्शन और फेरे तक के वीडियो और फोटो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुए थे। हाल ही में नेहा कक्कड़ और रोहनप्रीत सिंह का गाना नेहू दा व्याह भी रिलीज हुआ है, जिसने देखते ही देखते यू-ट्यूब पर धमाल मचा दिया था। 


Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

चेहरे के पुराने से पुराने दाग-धब्बों को भी ठीक कर देगा शहद से बना यह फैस पैक

कई बार ऐसा होता है कि हमारे चेहरे पर ग्लो तो होता है लेकिन दाग-धब्बे और झाईयां हमारे चेहरे की नेचुरल सुंदरता को कुछ...

लोक परंपरा व संस्कृति के रंगों से सराबोर हुई कुंभनगरी हरिद्वार

आगामी कुंभ के लिए तैयार हो रही धर्म नगरी हरिद्वार लोक परंपराओं व संस्कृति के रंगों से सराबोर हो उठी है जो श्रद्धालुओं के...

भारत का पहला श्रमिक आंदोलन संग्रहालय केरल में खुलेगा

विश्व श्रमिक आंदोलन के इतिहास को दर्शाने वाला देश का पहला श्रमिक आंदोलन संग्रहालय केरल के अलाप्पुझा में शुरू किया जाएगा। राज्य के पर्यटन...

पक्षियों में विकसित क्षमता की वजह से बर्ड फ्लू के मामलों में दर्ज हुई कमी

मध्यप्रदेश के इंदौर जिले में मौसम के बदलाव और पक्षियों की रोग प्रतिरोधक क्षमता के विकसित होने की वजह से बर्ड फ्लू के मामलों...

Recent Comments