Home Reviews बिहारः असहज रिश्तों वाला चुनाव

बिहारः असहज रिश्तों वाला चुनाव

बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 71 सीटों पर चुनाव प्रचार थम चुका है। यहां मतदान बुधवार को होने वाले हैं। इन चुनावों की एक खास बात है विभिन्न परस्पर विरोधी खेमों के एक-दूसरे से बनते दिलचस्प रिश्ते। मुख्य मुकाबला तेजस्वी यादव की अगुआई वाले महागठबंधन और नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले एनडीए के बीच है। ये दोनों चेहरे पिछले विधानसभा चुनाव में एक साथ थे क्योंकि कभी करीबी दोस्त और फिर प्रबल राजनीतिक विरोधी रहे लालू प्रसाद और नीतीश कुमार ने नाटकीय ढंग से एक-दूसरे का हाथ थाम लिया था। मगर 20 महीने के अंदर नीतीश ने इस दोस्ती से खुद को अलग करते हुए फिर बीजेपी के साथ जाना उचित समझा। दोस्ती और दुश्मनी का यह पल-पल बदलता रूप इस बार दोनों खेमों के रिश्तों को असहज बनाए हुए है।

बीजेपी ने सहयोगी दल जेडीयू के लिए जो सीटें छोड़ी हैं उन सब पर एलजेपी ने अपने प्रत्याशी खड़े कर दिए हैं। हालांकि बीजेपी नेतृत्व बार-बार कह चुका है कि पार्टी का गठबंधन जेडीयू के साथ है, एलजेपी से इन चुनावों में उसका कोई संबंध नहीं है। मगर केंद्र में एलजेपी आज भी एनडीए का हिस्सा बनी हुई है और सीट बंटवारे में टिकट से वंचित हुए कई बीजेपी नेता एलजेपी से किस्मत आजमा रहे हैं। ऐसे में इस धारणा का निर्मूल होना मुश्किल है कि असल में बीजेपी ही अपनी बंदूक एलजेपी के कंधे पर रखकर चला रही है। बहरहाल, उसके नेताओं के स्पष्टीकरण का जमीन पर कितना और कैसा असर हो रहा है, इसका कुछ अंदाजा पहले दौर की वोटिंग का माहौल देखकर भी हो जाएगा। मुद्दों की बात करें तो सबसे चौंकाने वाली भूमिका बॉलिवुड ऐक्टर सुशांत सिंह की मौत की रही। बिहार के चुनावों में बिहारी अस्मिता आम तौर पर मुद्दा नहीं बनती, पर सुशांत को न्याय दिलाने की मांग जिस चमत्कारिक ढंग से सभी पार्टियों के अजेंडे में शामिल हो गई, उससे लगा कि बिहारी अस्मिता का सवाल इन चुनावों में छाया रहेगा।

लेकिन यह जिस तेजी से उठा था, उसी तेजी से फीका पड़ता गया। आलम यह है कि जेडीयू और बीजेपी भी चुनाव प्रचार में इसका जिक्र नहीं कर रही हैं। दस लाख सरकारी नौकरियों का वादा कर तेजस्वी यादव ने जरूर बिहार के चुनावों को जाति-धर्म से अलग ठोस जमीनी मुद्दों की ओर मोड़ने का प्रयास किया, लेकिन इसके जवाब में बीजेपी ने 19 लाख रोजगार का वादा कर दिया। ऐसे में तय करना मुश्किल है कि बीजेपी के इस वादे से ज्यादा परेशानी तेजस्वी को होगी या नीतीश कुमार को। कारण यह कि बीजेपी का बयान आने तक नीतीश कुमार चुनावी मंचों से कई बार तेजस्वी के इस वादे को अव्यावहारिक और असंभव करार दे चुके थे। इस चुनावी महाभारत में कौन किसके साथ खड़ा है और किसका वार दरअसल किसे घायल कर रहा है इसकी जानकारी भी अंतिम तौर पर चुनाव नतीजे घोषित होने के बाद ही हो सकेगी।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

पीरियड्स के दौरान भूलकर भी न करें ये 5 काम, सेहत को होगा बड़ा नुकसान

Common Mistakes During Periods: पीरियड्स के दौरान महिलाओं के शरीर में कई तरह के हॉर्मोनल बदलाव होते हैं। ऐसे में उन्हें अपने खानपान से...

सर्दियों में नहीं सेंक पा रहे हैं धूप तो विटामिन डी की कमी पूरी करने के लिए अपनाएं ये 5 उपाय

Vitamin D Rich Diet : हड्डियों को मजबूत बनाए रखने के लिए विटामिन डी बेहद जरूरी होता है। शरीर में मौजूद विटामिन डी इम्यूनिटी...

बालोें में डैंड्रफ से परेशान हैं, तो ये 6 होम रेमेडीज करेंगी आपकी मदद

  सर्दियों के मौसम में बालों का टूटना, गिरना या डैंड्रफ बहुत ही आम समस्या हो गई है। हम में ज्यादातर लोगों ने कभी...

Covid-19:एस्ट्राजेनेका का कोरोना टीका पूरी तरह सुरक्षित: एसआईआई

पुणे स्थित दुनिया की सबसे बड़ी टीका उत्पादक कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) ने दावा किया है कि एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के...

Recent Comments