Home Sport हाई कोर्ट ने एआईएफएफ के अंतिम फैसले तक U-17 वर्ल्ड कप फुटबॉलर...

हाई कोर्ट ने एआईएफएफ के अंतिम फैसले तक U-17 वर्ल्ड कप फुटबॉलर अनवर को खेलने की अनुमति दी

नई दिल्ली
दिल्ली हाई कोर्ट ने जन्मजात हृदय संबंधी विकार का सामना कर रहे भारत के अंडर -17 वर्ल्ड कप फुटबॉलर अनवर अली को बड़ी राहत देते हुए मंगलवार को उन्हें राष्ट्रीय महासंघ के अंतिम निर्णय लेने तक खेलने की अनुमति दे दी। अदालत ने अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) की मेडिकल कमिटी की उस सिफारिश पर रोक लगा दी जिसमें उन्हें प्रतिस्पर्धी फुटबॉल खेलने से रोक दिया गया था।

अली के वकील अमिताभ तिवारी ने बताया कि अदालत ने उस फुटबॉलर के पक्ष में फैसला सुनाया जिसने मोहम्मडन स्पोर्टिंग को एआईएफएफ के निर्देश को चुनौती दी थी कि वह उसे कोलकाता के इस क्लब के साथ अभ्यास ना करने दें। तिवारी ने कहा, ‘हाई कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि एआईएफएफ के अंतिम निर्णय लेने तक अली खेल सकते हैं। एआईएफएफ (मोहम्मडन स्पोर्टिंग) का सात सितंबर को लिखा पत्र किसी भी तरह से उन्हें खेलने से रोक नहीं सकता।’

पढ़ें, रोनाल्डो को कोरोना, 17 घंटे पहले ही टीम के साथ खाया था खाना

उन्होंने कहा, ‘AIFF के आखिरी फैसले के बाद भी अली फिर से अदालत का दरवाजा खटखटा सकते है।’ एआईएफएफ की कार्यकारी समिति को मामले पर अंतिम निर्णय लेना बाकी है। इस 20 वर्षीय ने एआईएफएफ द्वारा उसे खेलने से रोकने के फैसले को चुनौती देते हुए एक अक्टूबर को अदालत का दरवाजा खटखटाते हुए कहा था वह परिवार में कमाने वाले इकलौते व्यक्ति हैं और इस फैसले ने उनकी आजीविका छीन ली है।

इस खिलाड़ी को हृदय संबंधित बीमारी ‘एपसियल हाइपरकार्डियो मायोपैथी से पीड़ित पाया गया है। बीमारी का पता चलने के बाद उन्हें राष्ट्रीय शिविर से बाहर कर दिया गया था। अली ने अंडर-15, अंडर-17 और अंडर-19 में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश का प्रतिनिधित्व किया है और वह फीफा अंडर-17 विश्व कप में भारतीय टीम का भी हिस्सा थे जिसमें वह सभी मैचों में मुख्य सेंटरबैक के तौर पर खेले थे।

एआईएफएफ के महासचिव कुशल दास ने कहा था कि इस मामले में एएफसी मेडिकल कमेटी के प्रमुख दातो गुरूचरण सिंह से राष्ट्रीय महासंघ की चिकित्सा समिति द्वारा परामर्श मांगा, जिन्होंने अली के खेल को जारी रखने के खिलाफ सलाह दी थी । सिंह की सलाह के साथ-साथ अली की जांच करने वाले अन्य सलाहकारों और अस्पतालों की रिपोर्टों को ध्यान में रखते हुए, एआईएफएफ की चिकित्सा समिति ने सर्वसम्मति से युवा खिलाड़ी को फुटबॉल खेलने से परहेज करने की सलाह दी।

अदालत के फैसले के बाद अली अब किसी भी टीम से जुड़ सकते हैं। ब्रिटेन के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. संजय शर्मा ने इस खिलाड़ी के समर्थन करते हुए कहा कि एचसीएम वाले अधिकांश व्यक्तियों में ‘वार्षिक मृत्यु दर’ 0.4-0.8 प्रतिशत के बीच है। उन्होंने कहा, ‘अनवर को कोई खतरा नहीं है क्योंकि उसके परिवार में अचानक मौत का कोई मामला सामने नहीं आया है।’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

आयुर्वेद के अनुसार सर्दियों में हर व्यक्ति को करना चाहिए इन पांच चीजों का सेवन

सर्दियों का मौसम खान-पान के लिहाज से काफी अहम होता है। इस सीजन में कुछ खास फल और सब्जियां ऐसी हैं, जिन्हें खाने से...

कोरोना ने हमें दादी-नानी की रेसिपीज को फिर से याद दिलाया : शेफ गगन आनंद

आपने ‘ओल्ड इज गोल्ड’ की कहावत तो सुनी ही होगी! कोरोना महामारी ने हमें पुरानी चीजों का महत्व एक बार फिर से बता दिया।...

कोरोना महामारी ने रेस्टोरेंट और खाने की दुनिया पर क्या-क्या असर डाला, जानें दुनिया के दो मशहूर शेफ के नजरिए से

कोरोना महामारी ने हम सभी को कुछ न कुछ सिखाया। क्वारंटीन पीरियड ने हमें पहले से कहीं ज्यादा अपने दोस्तों और परिवारवालों के...

सर्दियों में सूप से ज्यादा हेल्दी है काजू-मखाने की खीर, यह है 20 मिनट रेसिपी

मीठा खाने के शौकीनों को खीर भी बेहद पसंद होती है। खीर बनाने के कई तरीके होते हैं। आज हम आपको ट्रेडिशनल चावल और...

Recent Comments