Home Sport कोरोना वायरस: फ्रेंच ओपन में दर्शकों की संख्या 1000 तक सीमित

कोरोना वायरस: फ्रेंच ओपन में दर्शकों की संख्या 1000 तक सीमित

फ्रेंच ओपन के लिए पहले से तय कम दर्शकों की संख्या में और कटौती कर दी गई है। पेरिस में कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे है, जिसकी वजह से एक दिन में सिर्फ 1000 दर्शक तक सीमित कर दी गई है ।

इससे पहले फ्रांस के प्रधानमंत्री जीन कैस्टेक्स ने पांच हजार दर्शकों की अनुमति दी थी, लेकिन उनके कार्यलय ने शुक्रवार को इसे कम करने की घोषणा की। इसका असर हालांकि खिलाड़ियों, कोच और सहयोगी सदस्यों के अलावा स्टेडियम के कर्मचारियों पर नहीं पड़ेगा।

गुरप्रीत और संजू को एआईएफएफ का ‘प्लेयर ऑफ द ईयर’ पुरस्कार

क्ले कोर्ट ग्रैंड स्लैम फ्रेंच ओपन मई में होना था, लेकिन इसे स्थगित कर दिया गया था और अब इसका आयोजन 27 सितम्बर से 11 अक्टूबर तक खेला जा रहा है। सभी खिलाड़ियों को आयोजकों द्वारा बुक किए गए दो होटलों में रोका गया और इसमें कोई छूट नहीं दी गई है।

एथलीटों को ओलंपिक क्वालीफाई करने के मौके पहली दिसम्बर से

आयोजकों ने अभूतपूर्व पहल करते हुए शुरुआत में हारने वाले खिलाड़ियों को ज्यादा पुरस्कार राशि देने का फैसला किया है, क्योंकि कोरोना के कारण खिलाड़ियों के लिए यह काफी बुरा साल रहा है। पहले राउंड में हारने वाले खिलाड़ी को पिछले वर्ष के मुकाबले 30 फीसदी ज्यादा पुरस्कार राशि दी जाएगी जो 60 हजार यूरो होगी। क्वॉलिफाइंग राउंड में भी वृद्धि की गई है और क्वॉलिफाइंग के पहले राउंड में हारने पर भी 10 हजार यूरो का चेक मिलेगा।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

चेहरे के पुराने से पुराने दाग-धब्बों को भी ठीक कर देगा शहद से बना यह फैस पैक

कई बार ऐसा होता है कि हमारे चेहरे पर ग्लो तो होता है लेकिन दाग-धब्बे और झाईयां हमारे चेहरे की नेचुरल सुंदरता को कुछ...

लोक परंपरा व संस्कृति के रंगों से सराबोर हुई कुंभनगरी हरिद्वार

आगामी कुंभ के लिए तैयार हो रही धर्म नगरी हरिद्वार लोक परंपराओं व संस्कृति के रंगों से सराबोर हो उठी है जो श्रद्धालुओं के...

भारत का पहला श्रमिक आंदोलन संग्रहालय केरल में खुलेगा

विश्व श्रमिक आंदोलन के इतिहास को दर्शाने वाला देश का पहला श्रमिक आंदोलन संग्रहालय केरल के अलाप्पुझा में शुरू किया जाएगा। राज्य के पर्यटन...

पक्षियों में विकसित क्षमता की वजह से बर्ड फ्लू के मामलों में दर्ज हुई कमी

मध्यप्रदेश के इंदौर जिले में मौसम के बदलाव और पक्षियों की रोग प्रतिरोधक क्षमता के विकसित होने की वजह से बर्ड फ्लू के मामलों...

Recent Comments