Home Sport रानी रामपाल को मिला खेल रत्न, बोलीं- समान मौकों के कारण महिला...

रानी रामपाल को मिला खेल रत्न, बोलीं- समान मौकों के कारण महिला टीम ने पिछले कुछ वर्षों में अच्छा प्रदर्शन किया

बेंगलुरू
प्रतिष्ठित राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल का मानना है कि पुरुषों की टीम के समान मौके मिलने से महिला हॉकी टीम के पिछले एक दशक के प्रदर्शन में सुधार हुआ है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को खेल दिवस के मौके पर रानी के अलावा मरियप्पन थंगावेलु (पैरा ऐथलीट), मनिका बत्रा (टेबल टेनिस) को देश के सर्वोच्च खेल सम्मान से नवाजा।

इसके दो और विजेता रोहित शर्मा (क्रिकेट) और विनेश फोगाट (कुश्ती) इस ऑनलाइन समारोह में शामिल नहीं हो सके। रोहित आईपीएल के लिए यूएई में हैं तो वहीं विनेश को एक दिन पहले ही कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है।

देखें, किस खिलाड़ी को मिला कौन सा राष्ट्रीय पुरस्कार, पूरी लिस्ट

रानी ने कहा, ‘जहां से मैंने शुरू किया था वहां कि तुलना में महिला हॉकी में अच्छे के लिए कई चीजें बदल गई हैं। जब मैंने खेलना शुरू किया, तो महिलाओं की टीम बहुत कम टूर्नमेंट खेलती थी। हम ज्यादातर राष्ट्रमंडल खेलों और एशियाई खेलों जैसे बड़े टूर्नमेंट में खेलते थे लेकिन अब स्थिति में काफी बदलाव हुआ है।’

उन्होंने कहा, ‘हॉकी इंडिया और प्रबंधन ने यह सुनिश्चित किया कि हम पूरे साल टूर्नामेंट खेले जिससे पिछले कुछ वर्षों में हमने बेहतर प्रदर्शन किया है और इससे महिला हॉकी को लोकप्रिय बनाने में भी मदद मिली है।’

रानी खेल रत्न से सम्मानित होने वाली पहली महिला हॉकी खिलाड़ी है। पुरुषों में उनसे पहले धनराज पिल्लै और सरदार सिंह को इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। रानी ने कहा, ‘पिछले एक सप्ताह से, जब से मेरे नाम की आधिकारिक तौर पर खेल रत्न पुरस्कार के लिए घोषणा की गई है, तब से मैं अपनी यात्रा के बारे में चर्चा कर रही हूं। इससे मुझे लगता है कि महिला हॉकी को पुरुष टीम के बराबर महत्व मिला है। एक महिला खिलाड़ी को सर्वोच्च पुरस्कार मिलने से निश्चित रूप से यह दर्शाता है कि खेल सही दिशा में आगे बढ़ रहा है।’

उन्होंने कहा, ‘मैं युवा मामलों और खेल मंत्रालय, भारतीय खेल प्राधिकरण और हॉकी इंडिया को धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने हमें अपनी क्षमता दिखाने के अवसर दिए और साथ ही साथ हमारे प्रयासों को मान्यता दी।’

अर्जुन पुरस्कार प्राप्त करने वाले पुरुष हाकी खिलाड़ी आकाशदीप सिंह ने भी अपनी खुशी का इजहार किया। उन्होंने कहा, ‘मैं उन सभी को धन्यवाद देता हूं जो अब तक मेरी यात्रा का हिस्सा रहे हैं। मैं अपने देश के लिए इस खेल के कुछ सबसे महान खिलाड़ियों के साथ खेलने के लिए बहुत भाग्यशाली रहा हूं।’

हॉकी इंडिया के कार्यवाहक अध्यक्ष ज्ञानेंद्रो निंगोबम ने सभी पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी। उन्होंने कहा, ‘रोमेश पठानिया को द्रोणाचार्य पुरस्कार, रानी को भारत रत्न पुरस्कार जीतने के लिए, आकाशदीप और दीपिका ठाकुर को अर्जुन पुरस्कार जीतने के लिए जीतने के लिए बधाई। मैं जूड फेलिक्स को द्रोणाचार्य अवॉर्ड और अजीत सिंह को ध्यानचंद जीवन पर्यन्त उपलब्धि पुरस्कार जीतने के लिए भी बधाई देता हूं। भारत में खेल के विकास के प्रति उनका योगदान शानदार रहा है।’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

इस्राइल-फलस्तीन विवाद: रुके हिंसा का यह दौर

इस्राइल और फलस्तीन के बीच पिछले एक हफ्ते से जारी भीषण गोलाबारी से चिंतित वैश्विक समुदाय ने ठीक ही अपील की है कि सबसे...

वैक्सीन में कितना अंतर हो

भारत में कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड के दो डोज के बीच अंतर को बढ़ाकर 12 से 16 सप्ताह किए जाने के फैसले पर सवाल-जवाब का...

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

Recent Comments