Home Sport सुनील गावसकर बोले, बहुत से क्रिकेटर देखे लेकिन सचिन तेंडुलकर जैसी 'बल्लेबाजी...

सुनील गावसकर बोले, बहुत से क्रिकेटर देखे लेकिन सचिन तेंडुलकर जैसी ‘बल्लेबाजी पर्फेक्शन’ किसी के पास नहीं

नई दिल्ली
महान भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंडुलकर के नाम इस खेल के कई रेकॉर्ड दर्ज हैं। मैदान पर उनकी महानता के बारे में शायद ही कोई संदेह है। दिग्गज क्रिकेटर सुनील गावसकर ने कहा है कि सचिन की बल्लेबाजी पर्फेक्शन के सबसे करीब थी।

‘लिटिल मास्टर’ से मशहूर गावसकर ने इंडिया टुडे से बातचीत में कहा कि अपने करियर के दौरान उन्होंने कई महान खिलाड़ी देखे, लेकिन कोई भी सचिन के करीब नहीं था। उन्होंने कहा, ‘बल्लेबाजी में पर्फेक्शन का जहां तक सवाल है, उसमें सबसे करीब रहे सचिन। मैंने कभी किसी बल्लेबाज को उनके करीब नहीं देखा।’

पढ़ें, चैपल बोले, धोनी में फर्जी विनम्रता नहीं, बेबाकी से कहते हैं हर बात

उन्होंने आगे कहा, ‘मैं जिस समय से खेला, और जब से मैं क्रिकेट देख रहा हूं, तब से कई शानदार बल्लेबाज देखे लेकिन सचिन की बल्लेबाजी पर्फेक्शन के करीब कोई नहीं आया।’

सचिन को नहीं आता था शतक को दोहरे-तिहरे शतक में बदलना: कपिल देव

टेस्ट में सबसे पहले 10,000 रन बनाने वाले गावसकर ने कहा कि सचिन सभी तरह के शॉट्स लगाने में माहिर थे। उन्होंने कहा, ‘बैकलैफ्ट, हेड शॉट, संतुलन.. सब कुछ, जिस तरह से वह आगे झुकते, जब वह आगे बढ़कर खेलते, बैकफुट से बाहर, ऑफ साइड पर, लेग साइड पर ..तमाम शॉट। बाद में जब टी20 क्रिकेट बढ़ा, तो स्कूप शॉट खेलते हुए उन्होंने तमाम शॉट दिखाए। उनके पास सब कुछ था।’

24 साल के करियर में सचिन ने 200 टेस्ट और 463 वनडे मैच खेलने के बाद 2013 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया। वह अब भी दोनों फॉर्मेट (टेस्ट और वनडे) में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं। उन्होंने 53.79 की औसत से 15921 टेस्ट रन बनाए जबकि वनडे में उनके नाम रेकॉर्ड 18426 रन दर्ज हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ब्रेन ड्रेन को रोकना होगा

टाइम्स ऑफ इंडिया ने 17 जून के अंक में 'रेजिडेंट इंडियंस' शीर्षक से संपादकीय में लिखा है कि भारत से इमिग्रेशन भले बढ़ रहा...

टीके पर नासमझी

सरकार ने अपनी तरफ से यह स्पष्टीकरण देकर अच्छा किया है कि की कोवैक्सीन में नवजात बछड़ों का सीरम नहीं होता। सोशल मीडिया...

विरोध और आतंकवाद का फर्क

हाल के कुछ अहम फैसलों पर नजर डालें तो ऐसा लगता है जैसे अदालतें लोकतांत्रिक मूल्यों की पुनर्प्रतिष्ठा में लगी हुई हैं। राजद्रोह से...

महंगाई ने बढ़ाई मुसीबत

पेट्रोलियम गुड्स, कमॉडिटी और लो बेस इफेक्ट के कारण मई में थोक महंगाई दर 12.94 फीसदी और खुदरा महंगाई दर 6.30 फीसदी तक चली...

Recent Comments