Home News मां के डिप्रेशन को लेकर सुशांत की बहन का पुराना पोस्ट वायरल,...

मां के डिप्रेशन को लेकर सुशांत की बहन का पुराना पोस्ट वायरल, रिया के दावे के बाद किया डिलीट

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सीबीआई ने शुक्रवार को पहली बार रिया चक्रवर्ती से पूछताछ की है। इससे पहले उन्होंने सुशांत को लेकर इंटरव्यूज दिए हैं और इस दौरान उन्होंने दावा किया है कि सुशांत की तरह उनकी दिवंगत मां भी डिप्रेशन से पीड़ित थीं। रिया के इस बयान के बाद सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति का एक पुराना पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

इस पोस्ट की पुष्टि नहीं हुई है
श्वेता ने पोस्ट में लिखा था कि उन्होंने अपनी मां को डिप्रेशन के कारण खो दिया। वह नहीं चाहती हैं कि कोई और भी उसी बीमारी से पीड़ित हो, इसलिए उन्होंने इसके लिए एक समाधान निकाला है। हालांकि, कुछ समय बाद उन्होंने इस पोस्ट को डिलीट कर दिया था। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस पोस्ट की पुष्टि नहीं हुई है कि ये श्वेता की है या नहीं। फिलहाल रिया के इंटरव्यू के बाद सोशल मीडिया पर #JusticeForRhea भी ट्रेंड में है।

सुशांत का बहन का पुराना पोस्ट

सुशांत का बहन का पुराना पोस्ट

‘मैं नहीं चाहती कोई इस बीमारी से गुजरे’
श्वेता ने फेसबुक पर काफी लंबा पोस्ट शेयर किया था। इसमें उन्होंने लिखा था, ‘अपनी मां को इस बीमारी से खोने के बाद मैं नहीं चाहती कि कोई को भी इस बीमारी से गुजरे। मैं इसके लिए एक हल लेकर आई हूं। मैं सैन फ्रांसिस्को में रामना आश्रम खोले जा रही हूं। ये आश्रम सभी के लिए खुला रहेगा, लेकिन उन पर विशेष ध्यान दिया जाएगा जो ड्रिप्रेशन से जूझ रहे हैं।’

रिया ने इंटरव्यू में कहा- सुशांत की मां भी थी डिप्रेशन से पीड़ित
सुशांत सिंह राजपूत की दिवंगत मां के डिप्रेशन के बारे में बात करते हुए रिया चक्रवर्ती ने कहा, ‘उनकी जो मदर थी, जो अब नहीं है, जिनसे वो बेहद प्यार करते थे। मुझे लगता है कि उनका डिप्रेशन का बड़ा कारण ये था कि वो अपनी मां के बिना नहीं जी सकते थे। वो भी मानसिक बीमारी की शिकार थीं, उनको भी डिप्रेशन था। इसकी वजह से ही उनकी मौत हो गई थी।’

Rhea Chakraborty की बढ़ी मुश्किलें- CBI के बाद अब NCB का समन!

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ब्रेन ड्रेन को रोकना होगा

टाइम्स ऑफ इंडिया ने 17 जून के अंक में 'रेजिडेंट इंडियंस' शीर्षक से संपादकीय में लिखा है कि भारत से इमिग्रेशन भले बढ़ रहा...

टीके पर नासमझी

सरकार ने अपनी तरफ से यह स्पष्टीकरण देकर अच्छा किया है कि की कोवैक्सीन में नवजात बछड़ों का सीरम नहीं होता। सोशल मीडिया...

विरोध और आतंकवाद का फर्क

हाल के कुछ अहम फैसलों पर नजर डालें तो ऐसा लगता है जैसे अदालतें लोकतांत्रिक मूल्यों की पुनर्प्रतिष्ठा में लगी हुई हैं। राजद्रोह से...

महंगाई ने बढ़ाई मुसीबत

पेट्रोलियम गुड्स, कमॉडिटी और लो बेस इफेक्ट के कारण मई में थोक महंगाई दर 12.94 फीसदी और खुदरा महंगाई दर 6.30 फीसदी तक चली...

Recent Comments