Home Sport तोक्यो ओलिंपिक को खलेगी 'सुपर मारियो' शिंजो आबे की कमी

तोक्यो ओलिंपिक को खलेगी ‘सुपर मारियो’ शिंजो आबे की कमी

तोक्यो
जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे 2016 रियो ओलिंपिक के समापन समारोह में ‘सुपर मारियो’ के रूप में काफी लोकप्रिय हुए थे। वह अगले साल 23 जुलाई से शुरू होने वाले तोक्यो ओलिंपिक में शायद प्रधानमंत्री की हैसियत से शिरकत नहीं करेंगे। जापान में अब तक के इतिहास में सबसे लंबे समय तक लगातार प्रधानमंत्री का पद संभालने वाले आबे ने स्वास्थ्य संबंधी कारणों की वजह से इस्तीफा दे दिया है।

उनकी तबीयत खराब होती जा रही है। रियो में आबे ने जिस खुशमिजाज तरीके से लोगो को तोक्यो ओलिंपिक का निमंत्रण दिया था, वह पूरी दुनिया में प्रशंसकों के बीच काफी लोकप्रिय हुआ था। कोविड-19 महामारी के कारण इस साल के लिए प्रस्तावित इन खेलों को इन खेलों को अगर टाला नहीं जाता तो आबे अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति के अध्यक्ष थॉमस बाक के साथ इसके उद्घाटन समारोह में अति विशिष्ट लोगों के लिए बने स्थान पर बैठे होते।

पढ़ें, प्यारे मित्र शिंजो आबे की खराब सेहत के बारे में जानकर दुख हुआ : नरेंद्र मोदी

तोक्यो के टेंपल विश्वविद्यालय में ‘जापान की राजनीति’ विषय को पढ़ाने वाले जेफ किंगस्टन ने कहा, ‘मुझे लगता है कि इससे ज्यादा फर्क (आयोजन) नहीं पड़ेगा। उनके समर्थन से ओलिंपिक को फायदा हुआ लेकिन अब स्थिति प्रधानमंत्री के नियंत्रण के बाहर है। उनके उत्तराधिकारी शायद इन खेलों की उतनी परवाह नहीं की करें, लेकिन अब यह आईओसी, तोक्यो आयोजन समिति और दुनिया भर के खेल संघों पर निर्भर करेगा।’


आबे ने तोक्यो को मेजबानी दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी, 2013 में ब्यूनस आयर्स में जब इस शहर को मेजबानी मिलने की घोषणा हुई तो आबे वहां मौजूद थे। तोक्यो ने इस्तांबुल को पछाड़कर मेजबानी हासिल की थी। इस बीच कई सुनामी से परमाणु ऊर्जा केंद्र के क्षतिग्रस्त होने के साथ कई अन्य परेशानियां भी आईं लेकिन आबे हर बार आईओसी को समझने में सफल रहे।

तोक्यो की वसेदा यूनिवर्सिटी में राजनीति पढ़ने वाले डेविड लेहेनी ने कहा, ‘मुझे लगता है यह आबे के लिए दिल तोड़ने वाला होगा। ओलिंपिक ऐसी उपलब्धि होती जिसे वह गर्व से कहते कि, ‘हां मैंने कर दिखाया।’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वैक्सीन में कितना अंतर हो

भारत में कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड के दो डोज के बीच अंतर को बढ़ाकर 12 से 16 सप्ताह किए जाने के फैसले पर सवाल-जवाब का...

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

गांवों में फैला कोरोना

जहां एक ओर बुरी तरह प्रभावित राज्यों और बड़े शहरों में कोरोना संक्रमण की स्थिति में हल्का सुधार दिखने से राहत महसूस की जा...

Recent Comments