Home News रिया चक्रवर्ती ने सुशांत के पैसों की हेरफेर पर दिया बयान, बोलीं-...

रिया चक्रवर्ती ने सुशांत के पैसों की हेरफेर पर दिया बयान, बोलीं- मैंने कभी भी उनका एक पैसा नहीं लिया

रिया चक्रवर्ती ने सुशांत के पैसों की हेरफेर पर दिया बयान, बोलीं- मैंने कभी भी उनका एक पैसा नहीं लिया

रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty)

नई दिल्ली:

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) केस में रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) का नाम सबसे ज्यादा सुर्खियों में है. सीबीआई कभी भी उनसे पूछताछ कर सकती है. इसी बीच रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) ने  NDTV के साथ खास बातचीत की है और अपना पक्ष रखा है. अभिनेता सुशांत के पिता केके सिंह ने रिया चक्रवर्ती पर एक पुलिस शिकायत में सुशांत के साथ पैसो की धोखाधड़ी करने और परेशान करने का आरोप लगाया है. रिया चक्रवर्ती ने इस मुद्दे पर NDTV से खुलकर बातचीत की और बताया कि उन्होंने कभी सुशांत का एक पैसा भी नहीं लिया.

यह भी पढ़ें

रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) ने NDTV से कहा: “मैंने कभी भी सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) से एक पैसा भी नहीं लिया है. हमारा रिलेशनशिप कभी भी आर्थिक रिलेशनशिप नहीं रहा.” रिया चक्रवर्ती ने इस तरह पैसों की हेरफेर पर अपनी सफाई दी है. उनके इस बयान पर यूजर्स जमकर रिएक्शन दे रहे हैं.

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के पिता ने रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) पर आरोप लगाया है कि रिया ने सुशांत को जहर दिया था. सुशांत सिंह राजपूत के पिता ने एक वीडियो में कहा, “रिया चक्रवर्ती लंबे समय से मेरे बेटे सुशांत को जहर दे रही थी. वह उसकी कातिल है. उसे और उसके साथियों को बिना किसी देरी के गिरफ्तार किया जाना चाहिए और सजा दी जानी चाहिए.”

रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) ने इस मामले पर कहा: “वे इस बड़े नुकसान से गुजर रहे हैं जो किसी भी व्यक्ति के लिए बेहद दुखदायी है. मैं उनके बेटे से प्यार करती थी, उसकी देखभाल करती थी. कम से कम इंसानियत दिखानी चाहिए. अगर मेरे लिए नहीं तो सुशांत के लिए ही सही.”


Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ब्रेन ड्रेन को रोकना होगा

टाइम्स ऑफ इंडिया ने 17 जून के अंक में 'रेजिडेंट इंडियंस' शीर्षक से संपादकीय में लिखा है कि भारत से इमिग्रेशन भले बढ़ रहा...

टीके पर नासमझी

सरकार ने अपनी तरफ से यह स्पष्टीकरण देकर अच्छा किया है कि की कोवैक्सीन में नवजात बछड़ों का सीरम नहीं होता। सोशल मीडिया...

विरोध और आतंकवाद का फर्क

हाल के कुछ अहम फैसलों पर नजर डालें तो ऐसा लगता है जैसे अदालतें लोकतांत्रिक मूल्यों की पुनर्प्रतिष्ठा में लगी हुई हैं। राजद्रोह से...

महंगाई ने बढ़ाई मुसीबत

पेट्रोलियम गुड्स, कमॉडिटी और लो बेस इफेक्ट के कारण मई में थोक महंगाई दर 12.94 फीसदी और खुदरा महंगाई दर 6.30 फीसदी तक चली...

Recent Comments