Home News Exclusive: छोटी अम्मी मीना कुमारी से कहा था, शराब छुआ तो हाथ...

Exclusive: छोटी अम्मी मीना कुमारी से कहा था, शराब छुआ तो हाथ तोड़ दूंगा – ताजदार अमरोही

दिवंगत अभिनेत्री मीना कुमारी ( Meena Kumari ) की बायॉपिक बनने की खबर सुनकर उनके चाहने वाले तो खुश हुए हैं, लेकिन ट्रेजडी क्वीन मीना कुमारी के सौतेले बेटे ताजदार अमरोही इस खबर से बेहद खफा हैं। नवभारतटाइम्स डॉट कॉम के फेसबुक पेज पर हुई Exclusive बातचीत में ताजदार अमरोही ने अपनी कड़ी नाराजगी जाहिर करते हुए इस बायॉपिक की डायरेक्टर प्रभलीन कौर और किताब ‘महजबीन ऐज मीना कुमारी’ के लेखक अश्वनी भटनागर को कोर्ट में घसीटने तक की धमकी दे है।
पिता की छवि को नकारात्मक दिखाया जाएगा
मीना कुमारी के पति कमाल अमरोही की दूसरी पत्नी से हुए बेटे ताजदार अमरोही का कहना है कि निर्माताओं ने उनकी सौतेली मां के जीवन पर आधारित कोई प्रॉजेक्ट बनाने से पहले उनकी इजाजत नहीं ली है। उनका मानना है कि इस प्रॉजेक्ट में जरूर उनके पिता की छवि को नकारात्मक दिखाया जाएगा। उन्होंने साफ तौर पर बोल दिया है कि उनके पिता ने कभी भी अपनी पत्नी ( मीना कुमारी ) को मारा-पीटा और सताया नहीं था और न ही उनके पिता कमाल अमरोही ( Kamal Amrohi ) कभी शराब का सेवन करते थे। उन्हें अंदाजा है कि उनके पिता की यही छवि फिल्म और वेब सीरीज में दिखाई जानी है।

अब्बू कमाल अमरोही का घर छोड़ दिया था मीना कुमारी ने
इस दौरान नवभारतटाइम्स डॉट कॉम से हुई खास बातचीत में ताजदार अमरोही ने मीना कुमारी ( Meena Kumari ) की शराब की लत पर भी खुल कर बात की। यह पहला मौका है, जब मीना कुमारी के शराब पीने की आदत को उनके परिवार के किसी सदस्य ने स्वीकार किया हो। ताजदार बताते हैं, ‘यह बात उस समय की है, जब छोटी अम्मी मीना कुमारी जी मेरे अब्बू कमाल अमरोही का घर छोड़ बांद्रा के कार्टर रोड पर स्थित अपने घर में चली गई थीं।’

घर पर थीं तो हमें नहीं पता था छोटी अम्मी ( मीना कुमारी ) शराब पीती हैं
‘मैं इस दौरान छोटी अम्मी से मिलने जाया करता था। उनकी शराब पीने की आदत से मुझे बड़ी तकलीफ होती थी। जब तक छोटी अम्मी हमारे साथ हमारे घर पर थीं, हमें कभी भी पता नहीं था कि वह शराब पीती हैं। शराब की इस लत के बारे में हमें तब पता चला, जब वह कार्टर रोड और जानकी कुटीर जुहू में कैफ़ी आज़मी के घर पर रहने लगी थीं।’

meena-kumari-kamal-amrohi-R

वह ( मीना कुमारी ) शराब पीतीं तो मैं उन्हें फटकारता, डराता, खूब बातें कहता
‘कई बार मैं उनसे गुस्सा होता, शराब पीने पर उन्हें फटकारता, डराता, खूब बातें कहता, ताकि किसी तरह भी वह शराब छोड़ दें। एक दिन जब मैं उनसे मिलने गया तो गुस्से और नाराजगी में मैंने छोटी अम्मी मीना कुमारी से कहा था, छोटी अम्मी, मेरा जी चाहता है कि मैं आपके हाथ तोड़ डालूं। मेरी बात सुनकर वह ( मीना कुमारी ) मुस्कुराने लगतीं और कहती, तो तोड़ डाल न मेरे हाथ… तोड़ डाल, तोड़ता क्यों नहीं तू मेरे हाथ।’

मैं कहता… बोलो कि अब शराब नहीं पियोगी…
‘छोटी अम्मी की लाड़ भरी लड़ाई से मैं रो पड़ता था। फिर मैं कहता… बोलो कि अब शराब नहीं पियोगी। फिर मैं यह भी कहता कि मेरे जाते ही आपके कुछ लाड़ले लोग हैं, जो आपके लिए शराब लाएंगे। आपका तो शराब पीने का वक्त मुकर्रर होगा जरूर। जैसे ही मैं यहां से जाऊंगा, वह लोग जो आपके समय के हिसाब से शराब लेकर आ जाएंगे।’

मीना कुमारी को गलत किस्म की शराब पिला रहे थे लोग
‘मैं आपको बता दूं, जो लोग छोटी अम्मी मीना कुमारी के लिए शराब लाते थे, वह बड़ी ही बेकार शराब हुआ करती थी। ब्लैक लेवल जैसा कोई अच्छा ब्रैंड नहीं होता था, बल्कि वह गलत किस्म की शराब लाते थे। मेरा तो खून खौल जाता था। अरे मेरी छोटी अम्मी मीना कुमारी बड़ी मासूम थीं, उनकी आदतें बड़ी मासूम थी। जरा-जरा सी बात पर उनकी मासूमियत टपकती थी।

meena-kumari-kamal-amrohi-t

माथे पर 3 टांके लगे, लोगों ने समझा कमाल अमरोही ने मीना कुमारी की कुटाई की है
‘एक बार बाथरूम में उनके माथे पर चोट लग गई थी, उस चोट की वजह से उनको माथे पर तीन टांके लग गए थे। जब वह माथे पर बंधी पट्टी के साथ शूटिंग के लिए स्टूडियो पहुंची तो लोगों ने पूछा कि यह चोट कैसे लग गई तो वह चुप थीं, उनकी इस चुप्पी पर लोगों ने यह समझा कि कमाल अमरोही साहब ने अपनी वाइफ मीना कुमारी की कुटाई की है।’

यह चोट कैसे लगी है, लोग अनाप-शनाप बातें लिख रहे हैं
‘मैं छोटी अम्मी से कहता था कि आप लोगों को बताती क्यों नहीं कि यह चोट कैसे लगी है, लोग अनाप-शनाप बातें लिख रहे हैं। वह जवाब में मुझे कहती कि मैंने तो लोगों को ऐसा कुछ नहीं कहा। आप उस जमाने के न्यूज़ पेपर निकालकर देख लीजिए, अब्बू कमाल अमरोही ने कभी भी छोटी अम्मी के ताल्लुख में कभी कुछ भी बात नहीं की। यह सच्ची मोहब्बत, दोनों के लिए इज्जत नहीं तो और क्या है।’

बर्थडे स्पेशल: जन्म के 5 दिन बाद ही मीना कुमारी को अनाथालय छोड़ आए थे पिता

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

गांवों में फैला कोरोना

जहां एक ओर बुरी तरह प्रभावित राज्यों और बड़े शहरों में कोरोना संक्रमण की स्थिति में हल्का सुधार दिखने से राहत महसूस की जा...

तालमेल से बनेगी बात

केंद्र सरकार ने सोमवार को में वैक्सीन पॉलिसी पर अपने रुख का बचाव करते हुए कहा कि महामारी से कैसे निपटना है, यह...

Recent Comments