Home Sport फ्यूचर ग्रुप ने IPL 2020 से पीछे खींचे हाथ, लग सकता है...

फ्यूचर ग्रुप ने IPL 2020 से पीछे खींचे हाथ, लग सकता है जुर्माना

नई दिल्ली
इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के एक मुश्किल समाप्त होती है तो दूसरी शुरू हो जाती है। टाइटल स्पॉन्सरशिप (IPL Title Sponsor) की मुश्किलों से निकलने के बाद बोर्ड के सामने अब एक और दिक्कत आ गई है। फ्यूचर ग्रुप (Future Group) ने आईपीएल असोसिएट सेंट्रल स्पॉन्सरशिप (IPL Associate Sponsorship) से हाथ पीछे खींच लिए हैं।

बीते पांच साल से फ्यूचर ग्रुप आईपीएल के साथ जुड़ा हुआ था लेकिन इस साल उसने लीग से अपना संबंध खत्म करने का फैसला किया है। आईपीएल की आधिकारिक वेबसाइट ने भी फ्यूचर ग्रुप का नाम असोसिएट स्पॉन्सर की लिस्ट से हटा दिया है। बोर्ड फ्यूचर ग्रुप की रिप्लेसमेंट तलाश रहा है। खबर है कंपनी आईपीएल से अलग होना चाह रही थी और शायद बीच रास्ते में यूं छोड़ने पर बोर्ड उस पर पेनल्टी भी लगाए।

सूत्रों के अनुसार, ‘फ्यूचर ग्रुप के पीछे हटने की बड़ी वजह स्पॉन्सरशिप के लिए अधिक कीमत चुकाना भी है। हालांकि बोर्ड तभी राजी होगा जब फ्यूचर ग्रुप पेनल्टी भरने पर सहमत होगा।’

इससे पहले दिल्ली फ्रैंचाइजी (Delhi Capitals) के साथ 2015 से जुड़ा डायकन एयर-कंडीशनिंग ने भी अलग होने का फैसला किया था। वह दिल्ली की टीम का मुख्य स्पॉन्सर था। हालांकि दिल्ली की टीम ने जल्द ही जेएसडब्ल्यू ग्रुप को नया मुख्य स्पॉन्सर बना दिया।

टाइटल स्पॉन्सर की कहानी
वीवो इंडिया ने देश में चीन विरोधी माहौल को देखते हुए आईपीएल के टाइटल स्पॉन्सर से पीछे हटने का फैसला किया था। बीसीसीआई ने फिर इस साल के लिए नीलामी की घोषणा की। ड्रीम11 को इस साल की टाइटल स्पॉन्सरशिप 222 करोड़ रुपये में दी गई जो वीवो के 440 करोड़ रुपये के काफी कम रही। हालांकि बोर्ड ने दो अन्य असोसिएट स्पॉन्सर साथ जोड़ने की कवायद शुरू की ताकि नुकसान की भरपाई की जा सके। अब फ्यूचर ग्रुप के हटने से एक और परेशानी आ गई है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ा है कोरोना महामारी का असर, बाल आयोग ने शुरू की ‘संवेदना’ पहल

कोरोना संक्रमण के चलते मानसिक रूप से प्रभावित हो रहे बच्चों के लिए बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने नई पहल की है। आयोग ने...

जुनून ने प्रोफेसर को बना दिया चंदन के बाग का मालिक, पढ़ें दिलचस्प किस्सा

उत्तर-प्रदेश के सुल्तानपुर  में एक  प्रोफेसर के कुछ अलग करने के जुनून ने उन्हें 'चंदन'के बाग का मालिक बना  दिया। अब वह अपने भाई...

कोरोना काल में जन्म लेने वाले बच्चों के साथ जुड़े हैं ये फायदे, इस अवधि में जन्मे बच्चों को कहा जाएगा कोरोनियल

कोरोना महामारी के शुरुआती दौर में गर्भवती महिलाओं के बीच काफी डर था। महामारी के बढ़ते प्रकोप के चलते होने वाले बच्चों को क्या...

राजस्थान रॉयल्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच मुकाबला- हार करेगी प्लेऑफ की राह मुश्किल

दुबईइंडियन प्रीमियर लीग 2020 का आधे से ज्यादा सीजन बीत चुका है लेकिन व्यावहारिक रूप से देखें तो अभी कोई भी टीम प्लेऑफ की...

Recent Comments