Home News चेतन भगत का दावा- 'छिछोरे' का क्रेडिट न मिलने से परेशान थे...

चेतन भगत का दावा- ‘छिछोरे’ का क्रेडिट न मिलने से परेशान थे सुशांत

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद उनके बारे में रोजाना नई जानकारी सामने आ रही है। सुशांत के साथ फिल्म ‘काय पो छे!’ में करने वाले मशहूर लेखक चेतन भगत ने कुछ चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। चेतन भगत ने दावा किया है सुशांत अपनी फिल्म ‘छिछोरे‘ में क्रेडिट नहीं मिलने के कारण परेशान थे।

‘मीडिया में ब्लाइंड आइटम लिखे जाने से अपसेट थे सुशांत’
हमारे सहयोगी चैनल टाइम्स नाउ को दिए गए इंटरव्यू में चेतन भगत ने खुलासा किया है कि भले ही ‘छिछोरे’ हिट थी लेकिन सुशांत सिंह राजपूत को इसका क्रेडिट नहीं दिया गया। चेतन ने आगे बताया कि सुशांत ने डायरेक्टर अभिषेक कपूर के सामने स्वीकार किया कि वह इसके बारे में कुछ नहीं कर सकते थे और यह उन्हें परेशान करते है। इसके अलावा सुशांत मीडिया में ब्लाइंड आइटम लिखे जाने से अपसेट थे।

‘सुशांत समझ नहीं पाए इंडस्ट्री की राजनीति’
चेतन भगत उन लोगों शामिल हो गए हैं जिन्हें लगता है कि सुशांत सिंह राजपूत ने आत्महत्या नहीं की। इससे पहले उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था कि सुशांत शांत और सीधे स्वभाव थे और इंडस्ट्री की राजनीति को नहीं समझते थे।

सुशांत सिंह राजपूत की मौत की गुत्थी सुलझाने के लिए दुनियाभर से उठ रही आवाज

अभिषेक कपूर ने कही यह बात
अभिषेक कपूर ने एक इंटरव्यू में कहा कि कलाकार नाजुक होते हैं और ध्यान रखना आवश्यक होता है। उन्होंने आगे कहा कि वह एक फिल्म बना सकते हैं और सुनिश्चित कर सकते हैं कि दर्शक फिल्म और ऐक्टर को पसंद करें लेकिन इसकी गारंटी नहीं दे सकते।

सुशांत केस में सीबीआई की जांच जारी
बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को मुंबई के बांद्रा स्थित घर पर मृत पाए गए थे। अब सुशांत की मौत के मामले की जांच सीबीआई के हाथों में है और वह तेजी से जांच कर रही है। सीबीआई की टीम ने मुंबई पुलिस से जरूरी दस्तावेज ले लिए हैं और लोगों से पूछताछ कर रही है।

सुशांत सिंह राजपूत केस: CBI ने मुंबई पुलिस से सभी डिजिटल सबूत लिए

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वैक्सीन में कितना अंतर हो

भारत में कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड के दो डोज के बीच अंतर को बढ़ाकर 12 से 16 सप्ताह किए जाने के फैसले पर सवाल-जवाब का...

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

गांवों में फैला कोरोना

जहां एक ओर बुरी तरह प्रभावित राज्यों और बड़े शहरों में कोरोना संक्रमण की स्थिति में हल्का सुधार दिखने से राहत महसूस की जा...

Recent Comments