Home News सुशांत की ऑटोप्सी पर उठ रहे हैं कई सवाल, CBI लेगी AIIMS...

सुशांत की ऑटोप्सी पर उठ रहे हैं कई सवाल, CBI लेगी AIIMS एक्सपर्ट्स की मदद

सुशांत सिंह राजपूत की मौत दुनियाभर में चर्चा का विषय है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपी है। टीम ने मुंबई पहुंचकर जांच शुरू कर दी है। टाइम्स नाऊ के हाथ सुशांत की ऑटोप्सी रिपोर्ट आई है, जिस पर कई सवाल उठ रहे हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक अब एम्स के एक्सपर्ट भी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट, वीडियोग्राफ और विसरा की जांच करेंगे।

रिपोर्ट में नहीं है मरने का वक्त
सुशांत सिंह राजपूत केस में रिया चक्रवर्ती के खिलाफ केस दर्ज होने के बाद कई नई बातें सामने आ रही हैं। अब मीडिया के सामने सुशांत की ऑटोप्सी रिपोर्ट आई है। उनकी गर्दन पर एक निशान (लिगेचर मार्क) को लेकर सवाल उठ रहे हैं। उनकी खोपड़ी पर कोई चोट नहीं हैं। वहीं सुशांत के वकील का कहना है कि सुशांत की मौत किस वक्त हुई रिपोर्ट में वो टाइम नहीं दिया है। इसी तरह कई एक्सपर्ट्स का मानना है कि हैंगिंग में जिस तरह से आंखें और जीभ बाहर आती है, सुशांत में वो कुछ नहीं दिखा था। बताया जा रहा है कि इस पर सीबीआई एम्स एक्सपर्ट्स की राय लेगी। शुक्रवार को एम्स ने पांच सदस्यों के फरेंसिक विशेषज्ञों का एक मेडिकल बोर्ड गठित कर दिया। टीम मर्डर के ऐंगल से भी जांच करेगी।

मुर्दाघर में क्या कर रही थीं रिया
साथ ही रिया चक्रवर्ती के मुर्दाघर पर मौजूद होने पर कई सवाल उठ रहे हैं। कूपर हॉस्पिटल के मॉर्च्युरी अफसर का भी कहना है कि सुशांत के परिवार तक को जाने की इजाजत नहीं थी। जबकि रिया के वहां 45 मिनट रुकने की बात सामने आ रही है।


सीबीआई ने की कई लोगों से पूछताछ
इस बीच जांच के पहले दिन शुक्रवार को सीबीआई ने कई लोगों से पूछताछ की। सुशांत के कुक नीरज से काफी देर पूछताछ चली। नीरज सुशांत की मौत के वक्त मौजूद थे। उनकी गवाही काफी अहम साबित हो सकती है।

सुशांत केसः पहले दिन CBI ने नीरज-सैमुअल से की पूछताछ, पुलिस से लिए सबूत और केस डायरी

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

इस्राइल-फलस्तीन विवाद: रुके हिंसा का यह दौर

इस्राइल और फलस्तीन के बीच पिछले एक हफ्ते से जारी भीषण गोलाबारी से चिंतित वैश्विक समुदाय ने ठीक ही अपील की है कि सबसे...

वैक्सीन में कितना अंतर हो

भारत में कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड के दो डोज के बीच अंतर को बढ़ाकर 12 से 16 सप्ताह किए जाने के फैसले पर सवाल-जवाब का...

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

Recent Comments