Home News रिया के मुर्दाघर जाने पर उठ रहे सवाल, वकील विकास सिंह बोले-...

रिया के मुर्दाघर जाने पर उठ रहे सवाल, वकील विकास सिंह बोले- सबूतों के साथ छेड़छाड़ संभव

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच आगे बढ़ रही है और सीबीआई इस केस से जुड़े लोगों से बातचीत कर रही है। इसी बीच रिया चक्रवर्ती का वीडियो सामने आया है इसमें वह अस्पताल में 45 मिनट बिताने के बाद बाहर आती दिखाई दे रही हैं। वहीं, सुशांत के परिवार के वकील ने कहा है कि रिया का मुर्दाघर जाने से सबूतों के साथ छेड़छाड़ की संभावना है।

मॉर्चरी अधिकारी ने किए सनसनीखेज खुलासे
अब सवाल उठता है कि सुशांत सिंह राजपूत पोस्टमार्टम रिजल्ट आने से पहले रिया चक्रवर्ती मुर्दाघर में क्या करने गई थीं। पोस्टमार्टम रिजल्ट आने से पहले उनका मुर्दाघर जाना उन्हें शक के घेरे में लाता है। उधर, रिया चक्रवर्ती के मुर्दाघर जाने को लेकर कूपर अस्पताल के मॉर्चरी अधिकारी ने सनसनीखेज खुलासे किए हैं। उनका कहना है कि रिया मुर्दाघर में जाने को लेकर अधिकृत नहीं हैं। उनका वहां जाना पूरी तरह अवैध है। रिया के मुर्दाघर जाने के पीछे किसी शक्तिशाली शख्स का हाथ हैं और उनकी पुलिस ने मदद की है। इस दौरान मुर्दाघर के लॉग बुक में भी रिया की एंट्री नहीं दिखाई गई है।

रिया चक्रवर्ती का मुर्दाघर जाना संदेहास्पद
सुशांत सिंह राजपूत के पिता के वकील विकास सिंह ने कहा कि रिया चक्रवर्ती का मुर्दाघर जाना बहुत ही संदेहास्पद है क्योंकि सुशांत की मौत के दिन उनका सुशांत के साथ कोई रिश्ता नहीं था। मुंबई पुलिस को जवाब देना होगा कि उन्होंने पोस्टमार्टम से पहले रिया को कैसे जाने दिया। वहां पर सबूतों के साथ छेड़छाड़ की संभावना है।

15 जून को मुर्दाघर गई थीं रिया चक्रवर्ती
बता दें कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में लिखा है कि 14 जून को दोपहर 1 बजे सुशांत की मौत हुई है और उनकी बॉडी को उसी रात के 11 बजे कूपर अस्पताल लाया गया। इसके बाद सुशांत का पोस्टमार्टम किया गया और मौत को अप्राकृतिक बताया गया था। बता दें कि सुशांत का पोस्टमार्टम 14 जून को हुआ और रिया 15 जून की सुबह मुर्दाघर गई थीं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

गांवों में फैला कोरोना

जहां एक ओर बुरी तरह प्रभावित राज्यों और बड़े शहरों में कोरोना संक्रमण की स्थिति में हल्का सुधार दिखने से राहत महसूस की जा...

तालमेल से बनेगी बात

केंद्र सरकार ने सोमवार को में वैक्सीन पॉलिसी पर अपने रुख का बचाव करते हुए कहा कि महामारी से कैसे निपटना है, यह...

Recent Comments