Home News मुर्दाघर में सुशांत के शव को देखकर रोने लगी थीं रिया, सीने...

मुर्दाघर में सुशांत के शव को देखकर रोने लगी थीं रिया, सीने पर हाथ रखकर कहा- ‘सॉरी बाबू’

सुशांत सिंह राजपूत की अचानक मौत ने उनके चाहने वालों को गहरा धक्का पहुंचाया। इस समय उनकी मौत के मामले की जांच सीबीआई की टीम कर रही है। इसके साथ ही केस में रोजाना नए खुलासे हो रहे हैं। इसी बीच सामने आया कि सुशांत की मौत के एक दिन बाद यानी 15 जून को रिया चक्रवर्ती को मुर्दाघर गई थीं और उन्होंने सुशांत के शव को देखकर माफी मांगी।

रिया की मां और भाई देखना चाहते सुशांत का शव
रिपब्लिक टीवी के अनुसार, सुरजीत सिंह राठौड़ नाम का एक शख्स 15 जून को रिया चक्रवर्ती के साथ मुर्दाघर गया था। उसने बताया कि जब रिया ने सुशांत का शव देखा तो उन्होंने कहा ‘सॉरी बाबू।’ उन्होंने आगे खुलासा किया कि रिया का भाई शौविक चक्रवर्ती और उसकी मां भी सुशांत का शव देखना चाहते थे। हालांकि, मुंबई पुलिस ने उन्हें जाने नहीं दिया। सुरजीत ने बताया कि उसने पुलिस आधिकारी से बात की और इसके बाद वह और रिया सुशांत के शव को देखने के लिए अंदर गए।

सुशांत सिंह राजपूत केस: रिया चक्रवर्ती के पीछे पावरफुल लोगों का हाथ?

सुशांत की गर्दन पर निशान थे
सुरजीत सिंह राठौड़ ने आगे बताया, ‘मैंने सुशांत के चेहरे से सफेद कपड़ा हटाया और उसकी गर्दन पर निशान थे। मुझे उस समय संदेह हुआ। जिस समय मैंने कपड़ा हटाया, रिया ने अपना हाथ सुशांत की सीने पर रखा और कहा ‘सॉरी बाबू।’ मैंने सोचा वह अब सॉरी क्यों कह रही थी? मैं तब उसे बाहर ले गया क्योंकि वह रोने लगी थी।’

मनी लॉन्ड्रिंग ऐंगल से जांच कर रहा ईडी
बता दें कि सुशांत की मौत के मामले में सीबीआई के अलावा प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) मनी लॉन्ड्रिंग के ऐंगल से जांच कर रहा है। ईडी ने अब तक रिया, उनके भाई शौविक चक्रवर्ती, सुशांत के दोस्त सिद्धार्थ पिठानी, बिजनेस मैनेजर श्रति मोदी सहित कई लोगों से पूछताछ कर चुकी है।

सुशांत सिंह राजपूत केस: परिवार के वकील ने पूछा- रिया चक्रवर्ती को मुर्दाघर में जाने की इजाजत कैसे मिली

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ब्रेन ड्रेन को रोकना होगा

टाइम्स ऑफ इंडिया ने 17 जून के अंक में 'रेजिडेंट इंडियंस' शीर्षक से संपादकीय में लिखा है कि भारत से इमिग्रेशन भले बढ़ रहा...

टीके पर नासमझी

सरकार ने अपनी तरफ से यह स्पष्टीकरण देकर अच्छा किया है कि की कोवैक्सीन में नवजात बछड़ों का सीरम नहीं होता। सोशल मीडिया...

विरोध और आतंकवाद का फर्क

हाल के कुछ अहम फैसलों पर नजर डालें तो ऐसा लगता है जैसे अदालतें लोकतांत्रिक मूल्यों की पुनर्प्रतिष्ठा में लगी हुई हैं। राजद्रोह से...

महंगाई ने बढ़ाई मुसीबत

पेट्रोलियम गुड्स, कमॉडिटी और लो बेस इफेक्ट के कारण मई में थोक महंगाई दर 12.94 फीसदी और खुदरा महंगाई दर 6.30 फीसदी तक चली...

Recent Comments