Home Sport राशिद लतीफ देते थे जान से मारने की धमकी, सलीम मलिक के...

राशिद लतीफ देते थे जान से मारने की धमकी, सलीम मलिक के आरोप पर बरसे शोएब अख्तर

नई दिल्लीपाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटरों में बहस होना आम बात है। उनमें आरोप-प्रत्यारोप चलता रहता है। ऐसा ही एक नया विवाद दो पूर्व कप्तानों के बीच शुरू हुआ है। दरअसल, पूर्व कप्तान और फिक्सिंग की वजह से लाइफटाइम बैन झेल रहे ने पर संगीन आरोप लगाए हैं। उन्होंने हाल ही में अपने आरोप में कहा कि राशिद लतीफ प्लेयर्स को जान से मारने की धमकी दिया करते थे। अब इस मामले में () की भी एंट्री हो गई है।

उन्होंने अपने यूट्यूब चैनल पर खुलकर राशिद लतीफ का पक्ष लिया है और सलीम मलिक के आरोपों को निराधार बताते हुए जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि यह बात मैं नहीं मान सकता। आप दोनों को इज्जत का ख्याल रखना चाहिए। आप दोनों के इस विवाद से देश और आप दोनों की बेइज्जती हो रही है। उन्होंने सलीम मलिक के बारे में कहा कि हीरो, हीरो होता है। फिल्म को ही ले लीजिए, उसमें हीरो मर भी जाता है तो भी हीरो रहता है।

शोएब ने राशिद को शरीफ और फैमिली मैन बताया है। उन्होंने कहा- आप दोनों पूर्व कप्तान हैं, एक-दूसरे की इज्जत का ख्याल रखें। राशिद भाई फैमिली मैन हैं और शरीफ आदमी हैं। वह अपने परिवार को संभाल रहे हैं। उनके पास पैसे आ रहे हैं तो किसी को जलने की जरूरत नहीं है।

कहते थे बोरों में लाशें मिलेंगी
सलीम मलिक ने इससे पहले कई अन्य खिलाड़ियों पर भी फिक्सिंग में शामिल होने का आरोप लगाया था। अब उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस लेकर राशिद लतीफ पर डर्टी गेम खेलने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा- अता उर रहमान ने राशिद के बारे में सब कुछ सही कहा। राशिद बोलते हैं कि वह यारों के यार हैं, लेकिन वह यार मार हैं। राशिद एमक्यूएम का नाम लेते थे और कहते थे कि बोरों में लाशें मिलेंगी। वह मैच फिक्सिंग के आरोप दूसरों पर लगाते थे, पर खुद कभी कसम नहीं खाई।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

इस्राइल-फलस्तीन विवाद: रुके हिंसा का यह दौर

इस्राइल और फलस्तीन के बीच पिछले एक हफ्ते से जारी भीषण गोलाबारी से चिंतित वैश्विक समुदाय ने ठीक ही अपील की है कि सबसे...

वैक्सीन में कितना अंतर हो

भारत में कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड के दो डोज के बीच अंतर को बढ़ाकर 12 से 16 सप्ताह किए जाने के फैसले पर सवाल-जवाब का...

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

Recent Comments