Home Sport मौजूदा कुश्ती कोचों को द्रोणाचार्य नहीं मिलने पर सुजीत मान ने जताई...

मौजूदा कुश्ती कोचों को द्रोणाचार्य नहीं मिलने पर सुजीत मान ने जताई नाराजगी

एक दशक से राष्ट्रीय कुश्ती टीम के साथ कोच पद की जिम्मेदारी संभाल रहे गुरु हनुमान अखाड़े के जाने माने कोच सुजीत मान ने इस साल किसी सक्रिय मौजूदा कोच के नाम की द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए सिफारिश नहीं किये जाने पर नाराजगी जताई है जबकि कुश्ती इस समय देश का एकमात्र ऐसा खेल है, जिसमें भारत ने पिछले तीन ओलंपिक में लगातार पदक जीते हैं।  राष्ट्रीय खेल पुरस्कार के लिए बनी 12 सदस्यीय समिति ने द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए इस बार कुल 13 नामों के नाम की सिफारिश की है जिसमें लाइफ टाइम वर्ग में आठ नाम और नियमित वर्ग में पांच नाम हैं। लाइफटाइम वर्ग में ओ पी दाहिया का नाम है लेकिन लगातार तीसरे वर्ष नियमित वर्ग में किसी कुश्ती कोच का नाम नहीं है। 

खुद सुजीत का लगातार तीसरे वर्ष द्रोणाचार्य के लिए नाम गया था लेकिन नियमों के अनुसार सर्वाधिक अंक होने के बावजूद उन्हें एक बार फिर नजरअंदाज कर दिया गया। पिछले दो वषोर्ं में भी उनके सर्वाधिक अंक बनते थे लेकिन वह नजरअंदाज हो गए थे। 

बॉक्सर मनोज कुमार की खेल मंत्री किरेन रीजिजू से अपील, द्रोणाचार्य अवॉर्ड के लिए मेरे भाई और कोच के नाम पर विचार करो

टोक्यो ओलंपिक में पदक की सबसे बड़ी उम्मीद बजरंग पुनिया और ओलंपिक में पदक जीत चुके सुशील कुमार और योगेश्वर दत्त जैसे दिग्गज पहलवानों के साथ राष्ट्रीय शिविर में कोच रह चुके सुजीत मान का नाम भारतीय कुश्ती महासंघ और रेलवे स्पोट्र्स प्रमोशन बोर्ड ने द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए खेल मंत्रालय को भेजा था। 

सुजीत ने नियमित वर्ग में किसी कुश्ती कोच का नाम न होने पर हैरानी और निराशा व्यक्त करते हुए बुधवार को कहा, “कुश्ती में हम पिछले तीन ओलंपिक से लगातार पदक जीत रहे हैं और अगले साल टोक्यो ओलंपिक होने हैं जहां हमें एक बार फिर कुश्ती से ही पदक की सबसे ज्यादा उम्मीदें हैं। हमारे चार पहलवान ओलंपिक कोटा हासिल कर चुके हैं और अगले साल के क्वॉलिफायर्स में और कोटा मिलने की उम्मीद है। लेकिन इसी खेल में द्रोणाचार्य के लिए कोचों को नजरअंदाज किया गया है जो कुश्ती और ओलंपिक पदक उम्मीदों के लिहाज से ठीक नहीं है।” 

43 साल के सुजीत ने सवाल उठाते हुए कहा, “मैंने मीडिया में छपे द्रोणाचार्य पुरस्कारों के नाम देखे हैं जिसमें हॉकी में लाइफटाइम और नियमित वर्ग दोनों में कोचों के नाम की सिफारिश की गयी है लेकिन कुश्ती में सिर्फ लाइफटाइम वर्ग में एक नाम है। यह लगातार तीसरा साल है जब नियमित वर्ग में किसी कुश्ती कोच का नाम नहीं है। क्या कुश्ती खेल ने देश को ओलंपिक, राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों में पदक नहीं दिए हैं जो किसी कोच का नाम नियमित वर्ग में नहीं है।” 

भारत के सुमित नागल प्राग ओपन के क्वार्टर फाइनल में, अब होगी स्टैन वावरिंका से भिड़ंत

सुजीत ने कहा, “यह लगातार तीसरा साल है जब मुझे नजरअंदाज किया गया है। मैंने 2018 और 2019 में भी अपना नाम द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए भेजा था। उन दोनों वषोर्ं में मेरे सबसे ज्यादा अंक थे और इस बार भी मेरे सबसे ज्यादा अंक बनते थे लेकिन इस बार भी मुझे निराश होना पड़ा है।”

सुजीत 2018 के एशियाई खेलों में कुश्ती टीम के कोच थे, जिसमें बजरंग ने स्वर्ण जीता। वह 2014 के ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों में भी टीम के साथ कोच थे जिसमें सुशील कुमार ने स्वर्ण जीता था। वर्ष 2014 से 2017 तक लगातार विश्व सीनियर चैंपियनशिप में टीम के साथ कोच के रूप में गये सुजीत ने 2004 के एथेंस ओलंपिक में पहलवान के रूप में हिस्सा लिया था। उन्हें 2002 में अजुर्न पुरस्कार, 2004 में हरियाणा सरकार से भीम अवार्ड और 2005 में रेल मंत्री अवार्ड मिला था। वह 2003 की राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप में स्वर्ण जीतने के अलावा सर्वश्रेष्ठ पहलवान भी रहे थे। उन्हें एशिया में चार बार पदक मिल चुके हैं जिनमें एक रजत और तीन कांस्य पदक शामिल हैं।

गुरु हनुमान बिड़ला व्यायामशाला में सुजीत देश के उभरते पहलवानों को भविष्य के लिए तैयार कर रहे हैं। सुजीत ने ओलंपिक पदक विजेता सुशील और योगेश्वर को राष्ट्रीय शिविर में ट्रेनिंग दी है। सुजीत ने इसके अलावा बजरंग पुनिया, राहुल अवारे, दीपक पुनिया, रवि कुमार, सुमित, सोमवीर, मौसम खत्री, अमित कुमार, पवन कुमार, अमित धनकड, विनोद कुमार जैसे विख्यात पहलवानों को राष्ट्रीय शिविर में ट्रेनिंग दी है। वह विश्व चैंपियनशिप, एशियाई खेल, कामनवेल्थ गेम्स और वर्ल्ड रैंकिंग चैंपियनशिप में भारतीय टीम के कोच की भूमिका निभा चुके हैं लेकिन लगातार तीसरे साल नजरअंदाज किये जाने से उन्हें गहरी निराशा हुई है।


Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

आपके किचने में रखी हैं सुंदरता बढ़ाने की ये चीजें, पार्लर या ब्यूटी प्रोडक्ट पर न करें पैसे खर्च 

हम चेहरे को निखारने के लिए कितने ही जतन करते हैं। महंगी ब्यूटी प्रोडक्ट से लेकर पार्लर में कई केमिकल वाले फेशियल भी कराते...

सीबीआई पर बंदिशें

जिस तरह से ने सीबीआई को राज्य में जांच पड़ताल करने के लिए मिली आम इजाजत को वापस लिया है, वह देश में...

केदारनाथ का ऐसा वीडियो कभी नहीं देखा होगा, मंदिर के पीछे बादल से झांकता हिमालय

सोशल मीडिया भारत की खूबसूरती को दिखाने वाले कई वीडियो वायरल होते रहते हैं। लॉकडाउन के दौरान प्रदूषण में भारी कमी देखने को...

बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ा है कोरोना महामारी का असर, बाल आयोग ने शुरू की ‘संवेदना’ पहल

कोरोना संक्रमण के चलते मानसिक रूप से प्रभावित हो रहे बच्चों के लिए बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने नई पहल की है। आयोग ने...

Recent Comments