Home Sport मोहम्मद यूसुफ: कभी चलाते थे रिक्शा, किया दर्जी का काम, अब पाकिस्तान...

मोहम्मद यूसुफ: कभी चलाते थे रिक्शा, किया दर्जी का काम, अब पाकिस्तान क्रिकेट में बने बैटिंग कोच

नई दिल्ली
पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने गुरुवार को पूर्व कप्तान मोहम्मद यूसुफ को लाहौर स्थित राष्ट्रीय हाई परफॉरमेंस सेंटर का बल्लेबाजी कोच नियुक्त किया। टेस्ट क्रिकेट में 7530 और वनडे में 9720 रन बनाने वाले यूसुफ इस केंद्र में प्रशिक्षकों की अगुवाई करेंगे, जबकि मुश्ताक अहमद इस केंद्र के स्पिन गेंदबाजी सलाहकार हैं। हम आपको बता दें कि मोहम्मद यूसुफ बेहद गरीब परिवार में जन्मे थे और लंबे संघर्ष के बाद इस मुकाम तक पहुंचे।

गरीब फैमिली में हुआ था जन्म
आपको फ्लैशबैक में ले चलते हैं। यूसुफ लाहौर में एक पैदा हुए थे और उनका पूरा नाम यूसुफ योहाना (इस्लाम अपनाने के बाद मोहम्मद युसूफ बने) था। उनके पिता रेलवे में सफाई कर्मचारी थे। यूसुफ बचपन में परिवार को सपॉर्ट करने के लिए रेलवे स्टेशन पर काम करने लगे। क्रिकेटर बनने की चाह थी, लेकिन क्रिकेट किट या बैट खरीदने के पैसे नहीं थे। उन्होंने लकड़ी के फट्टे से बैट बनाकर टेनिस गेंद से अभ्यास शुरू किया।

रोहित का फैन है यह पाकिस्तानी बल्लेबाज, बताई चाहत


रिक्शा चलाया, दर्जी की दुकान पर काम किया, पर नहीं टूटने दिया सपना
वह 12 वर्ष की उम्र में गोल्डेन जिमखाना क्लब से जुड़े और अपने सपने को नया आयाम देने लगे। इसके बाद वह लाहौर के फोरमैन क्रिश्चन कॉलेज से जुड़े और यहां से उनके क्रिकेट करियर को सपॉर्ट मिला। इस दौरान वह फैमिली को पालने के लिए रिक्शा चलाते और दर्जी का काम भी करते रहे। 1998 में उन्होंने पाकिस्तान के लिए साउथ अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट का आगाज किया, जबकि पहला वनडे जिम्बाब्वे के खिलाफ सी वर्ष खेला। वह कई बार यह भी कह चुके हैं कि उन्हें इसका भरोसा नहीं था कि कभी नैशनल टीम की ओर से खेलेंगे और यहां तक का सफर तय करेंगे।

विराट की फिटनेस देख आती थी शर्म, अब करते हैं फॉलो


कोच बनने के बाद यह कहा
यूसुफ ने पीसीबी के बयान में कहा, ‘कोचिंग में करियर बनाने की मेरी महत्वकांक्षा एक खुला रहस्य है लेकिन यह सही समय और हमारी भविष्य की क्रिकेट के लिए उचित रोडमैप से जुड़ा था जिसमें मैं प्रभावी तरीके से योगदान दे सकता हूं।’ उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि यह मेरे लिए अपनी दूसरी पारी शुरू करने का सही समय है क्योंकि मैं इसके प्रति आशान्वित हूं। मैं यह अवसर मिलने से खुश हूं और मुझे पूरा विश्वास है कि मैं अपने ज्ञान और अनुभव से युवा क्रिकेटरों की मदद कर सकता हूं।’

बाबर आजम ने कहा, मेहनत का कोई विकल्प नहीं

सबसे सफल बल्लेबाजों शामिल
यूसुफ ने टेस्ट करियर में 90 मैच खेलते हुए 24 शतक (4 दोहरे शतक) और 33 अर्धशतक की मदद से 7530 रन बनाए, जबकि 288 वनडे में 15 शतक और 64 फिफ्टी की बदौलत 9720 रन बनाए। उन्हें पाकिस्तान के सबसे सफल बल्लेबाजों शामिल किया जाता है। यूसुफ के साथ पूर्व विकेटकीपर अतीक उज जमां और तेज गेंदबाज मोहम्मद जाहिद भी इस केंद्र से जुड़ेंगे। अतीक ने एक टेस्ट और तीन वनडे जबकि जाहिद ने पांच टेस्ट और 11 वनडे खेले हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सीबीआई पर बंदिशें

जिस तरह से ने सीबीआई को राज्य में जांच पड़ताल करने के लिए मिली आम इजाजत को वापस लिया है, वह देश में...

केदारनाथ का ऐसा वीडियो कभी नहीं देखा होगा, मंदिर के पीछे बादल से झांकता हिमालय

सोशल मीडिया भारत की खूबसूरती को दिखाने वाले कई वीडियो वायरल होते रहते हैं। लॉकडाउन के दौरान प्रदूषण में भारी कमी देखने को...

बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ा है कोरोना महामारी का असर, बाल आयोग ने शुरू की ‘संवेदना’ पहल

कोरोना संक्रमण के चलते मानसिक रूप से प्रभावित हो रहे बच्चों के लिए बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने नई पहल की है। आयोग ने...

जुनून ने प्रोफेसर को बना दिया चंदन के बाग का मालिक, पढ़ें दिलचस्प किस्सा

उत्तर-प्रदेश के सुल्तानपुर  में एक  प्रोफेसर के कुछ अलग करने के जुनून ने उन्हें 'चंदन'के बाग का मालिक बना  दिया। अब वह अपने भाई...

Recent Comments