Home Sport भगवान ने चाहा तो खेल रत्न का मान रखूंगी: विनेश फोगाट

भगवान ने चाहा तो खेल रत्न का मान रखूंगी: विनेश फोगाट

नई दिल्ली
भारत के सर्वोच्च खेल सम्मान, राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार (Rajiv Gandhi Khel Ratna Award 2020) के लिए नामांकित की गई एशियाई खेलों की स्वर्ण पदक विजेता पहलवान विनेश फोगाट (Vinesh Phogat) ने कहा है कि इस पुरस्कार के लिए इंतजार काफी लंबा रहा है। लेकिन उनकी खुशी भी दोगुनी हो गई है और उनके ऊपर अब जिम्मेदारी भी बढ़ गई है। 25 साल की विनेश उन 5 भारतीय खिलाड़ियों में शामिल हैं, जिनके नाम की सिफारिश इस प्रतिष्ठित पुरस्कार के लिए की गई है।

विनेश ने कहा, ‘सर्वाधिक गौरवपूर्ण क्षण। इंतजार लंबा रहा, लेकिन खुशी भी दोगुनी हो गई। भगवान ने चाहा तो इस अवॉर्ड का मान रखूंगी। अब जिम्मेदारी भी बढ़ गई है।’ विनेश एकमात्र भारतीय महिला पहलवान हैं, जिन्होंने अब तक तोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympic) के लिए क्वॉलिफाइ किया है। विनेश 2019 विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीत चुकी हैं।

विनेश को अगले साल होने वाले तोक्यो ओलिंपिक खेलों में पदक का सबसे बड़ा दावेदार माना जा रहा है। वह गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेल 2018 और 2018 जकार्ता एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान हैं। 2019 में वह लॉरेस वर्ल्ड स्पोर्ट्स अवॉर्ड के लिए नामित होने वाली पहली भारतीय ऐथलीट बनी थीं।

विनेश के अलावा भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा (Rohit Sharma), भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल (Rani Rampal), टेबल टेनिस चैम्पियन मनिका बत्रा (Manika Batra) और 2016 रियो पैरालिंपिक स्वर्ण पदक विजेता हाई जम्पर मरियप्पन थांगावेलू (Mariyappan Thangavelu) के नाम की भी सिफारिश की गई है। राष्ट्रीय पुरस्कार समिति की मंगलवार को यहां राष्ट्रीय राजधानी में एक बैठक हुई, जिसमें इस प्रतिष्ठित पुरस्कार के लिए पांच खिलाड़ियों के नामों की सिफारिश की गई।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ब्रेन ड्रेन को रोकना होगा

टाइम्स ऑफ इंडिया ने 17 जून के अंक में 'रेजिडेंट इंडियंस' शीर्षक से संपादकीय में लिखा है कि भारत से इमिग्रेशन भले बढ़ रहा...

टीके पर नासमझी

सरकार ने अपनी तरफ से यह स्पष्टीकरण देकर अच्छा किया है कि की कोवैक्सीन में नवजात बछड़ों का सीरम नहीं होता। सोशल मीडिया...

विरोध और आतंकवाद का फर्क

हाल के कुछ अहम फैसलों पर नजर डालें तो ऐसा लगता है जैसे अदालतें लोकतांत्रिक मूल्यों की पुनर्प्रतिष्ठा में लगी हुई हैं। राजद्रोह से...

महंगाई ने बढ़ाई मुसीबत

पेट्रोलियम गुड्स, कमॉडिटी और लो बेस इफेक्ट के कारण मई में थोक महंगाई दर 12.94 फीसदी और खुदरा महंगाई दर 6.30 फीसदी तक चली...

Recent Comments