Home News सुशांत के पिता के वकील का मीडिया से अनुरोध, कहा- आपका यह...

सुशांत के पिता के वकील का मीडिया से अनुरोध, कहा- आपका यह कदम केस के लिए पैदा कर सकती है खतरा

सुशांत सिंह राजपूत केस में उनके पिता की ओर से लड़ रहे वकील विकास सिंह ने सभी मीडिया समूह से अपील की है कि इस मामले से जुड़ी अहम जानकारी को सामने लाने से बचें, जो कि आगे की कानूनी कार्यवाही के लिए खतरा बन सकती है।

विकास सिंह ने कहा, ‘मैं सभी मीडिया ग्रुप से निवेदन करता हूं कि सुशांत सिंह राजपूत केस से जुड़ी अहम जानकारियां बाहर न लाएं और सीबीआई को इस मामले में जी-जान लगाकर जांच करनी चाहिए।’ उन्होंने इस बा पर भी जोर देकर कहा कि सुप्रीम कोर्ट को इस केस की जांच को लेकर क्लियर आॉर्डर देना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘इस केस में काफी जरूरी है कि जितनी जल्दी हो सके मामले की जांच शुरू करे और मैं हैरान हूं कि सुप्रीम कोर्ट इसमें इतना वक्त क्यों लगा रही है। क्योंकि यदि केस सुप्रीम कोर्ट में लंबित है और जब तक मामला लंबित है कोर्ट को इस बारे में क्लियर ऑर्डर देना चाहिए।’

विकास सिंह ने कहा, ‘जब तक इस केस की सुनवाई लंबित है तब तक मामले की जांच पटना पुलिस या फिर सीबीआई के जरिए होनी चाहिए। ताकि कम से कम जांच में कोई बाधा न आए। लेकिन जिस तरह से मुकुल रोहतगी ने कहा है कि जब अगली सुनवाई तक कुछ नहीं हो सकता, यह गलत मेसेज छोड़ता है। मुझे लगता है कि यही वजह है कि सीबीआई इस केस की जांच में पूरी तरह से घुस नहीं पा रही है।’

विकास सिंह ने अपनी बात आगे जारी रखते हुए कहा कि ऐसा लगता है कि यह सुशांत सिंह के परिवार को न्याय दिलाने में बाधा पहुंचा सकती है। उन्होंने इस बात पर जोर देते हुए कहा कि सीबीआई को इस मामले में काफी तेजी से जांच शुरू करने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा, ‘आज न तो सीबीआई को कोई वापसी का आदेश है और न ही कोई मौखिक आदेश। आज केवल एक एजेंसी सीबीआई ही इस केस की जांच कर रही है, इसके अलावा कोई और नहीं। मुझे लगता है कि सीबीआई को तेजी से केस की जांच करना चाहिए क्योंकि देरी होने से सबूतों को मिटाया या बर्बाद किया जा सकता है। कहीं न कहीं इससे परिवार को नुकसान पहुंचेगा और उन्हें न्याय नहीं मिल पाएगा।’

विकास सिंह ने कहा कि सुशांत की मानसिक हालत कभी भी खराब कंडिशन में नहीं थी। उन्होंने कहा, ‘जहां तक सुशांत के मेंटल हेल्थ की बात है तो यह खराब कंडीशन में कभी न रहा। किसी भी सूरत में परिवार वाले रिया चक्रवर्ती को दोषी मान रहे, चाहे मामला सीधे खुदकुशी का हो या फिर अप्रत्यक्ष ढंग से मर्डर की साजिश का।’

उन्होंने कहा, ‘साल 2019 तक, जब तक कि रिया उनकी लाइफ में नहीं आई थीं सुशांत ऊंचाइयों को छू रहा था। प्रॉब्लम की शुरुआत वहां से शुरू हुई जब रिया की एंट्री उनकी लाइफ में हुई। हमारा पूरा केस इसी सब्जेक्ट पर केन्द्रित है। जब रिया ने उन्हें छोड़ा तो उन्होंने परिवार वालों को कुछ भी नहीं बताया। यदि वह स्ट्रॉन्ग मेडिकेशन पर थे तो रिया को इस बारे में किसी को बताना चाहिए था। हमारा पूरा केस खुदकुशी के लिए उकसाने को लेकर केंद्रित है।’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

गांवों में फैला कोरोना

जहां एक ओर बुरी तरह प्रभावित राज्यों और बड़े शहरों में कोरोना संक्रमण की स्थिति में हल्का सुधार दिखने से राहत महसूस की जा...

तालमेल से बनेगी बात

केंद्र सरकार ने सोमवार को में वैक्सीन पॉलिसी पर अपने रुख का बचाव करते हुए कहा कि महामारी से कैसे निपटना है, यह...

Recent Comments