Home News क्‍या सुशांत केस की होगी CBI जांच? SC में फैसला कल, जानिए...

क्‍या सुशांत केस की होगी CBI जांच? SC में फैसला कल, जानिए अब तक क्‍या हुआ कोर्ट में

बॉलिवुड ऐक्‍टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में रिया चक्रवर्ती की सुप्रीम कोर्ट में दी गई याचिका पर बुधवार (19 अगस्‍त) को फैसला आ सकता है। इसमें तय होगा कि केस की जांच सीबीआई करेगी या नहीं करेगी।

बता दें, सुशांत के पिता के के सिंह की पटना में कराई गई एफआईआर के आधार पर सीबीआई ने पहले ही जांच शुरू कर दी थी। हालांकि, महाराष्‍ट्र सरकार ने इसका यह कहते हुए विरोध किया था कि यह जांच मुंबई पुलिस को करनी चाहिए।

सुशांत के पिता ने कराई थी एफआईआर
गौरतलब है कि सुशांत के पिता ने अपनी एफआईआर में रिया के खिलाफ धोखाधड़ी करने, सुशांत को आत्‍महत्‍या के लिए उकसाने जैसे सनसनीखेज आरोप लगाते हुए एफआईआर कराई थी। इसके बाद रिया ने मांग की थी कि मामले को पटना से मुंबई ट्रांसफर किया जाए। इसके लिए उन्‍होंने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दी।

वर्चस्‍व की लड़ाई में बदला केस
कोर्ट पहुंचा यह मुद्दा महाराष्‍ट्र और बिहार सरकार के बीच वर्चस्‍व की लड़ाई में बदल गया। कोर्ट ने बिहार सरकार, महाराष्‍ट्र सरकार, रिया के वकील, सुशांत के पिता के वकील से अदालत में लिखित दलील पेश करने को कहा।

महाराष्‍ट्र और बिहार सरकार आमने-सामने
इसके बाद पटना में दर्ज केस पर महाराष्ट्र सरकार ने कोर्ट में जवाब दिया कि यह गलत मंशा से दर्ज किया गया केस है। महाराष्ट्र सरकार की ओर से यह भी कहा गया कि सीबीआई को केस ट्रांसफर किया जाना सही नहीं है। सरकार की ओर से आरोप लगाया गया कि बिहार में चुनाव होने वाले हैं, इसलिए मामले का राजनीतिकरण किया जा रहा है। चुनाव बीतते ही सब भूल जाएंगे। दूसरी तरफ, बिहार सरकार ने पटना में दर्ज केस को सही बताते हुए दलील दी कि मुंबई पुलिस राजनीतिक दबाव में है और इसी कारण अभी तक मुंबई में इस मामले में केस तक दर्ज नहीं हुआ है। बिहार सरकार की तरफ से कहा गया कि सीबीआई जांच जल्दी से जल्दी पूरी होनी चाहिए। सीबीआई की जांच में कोई बाधा डालने की इजाजत नहीं होनी चाहिए।

रिया चक्रवर्ती ने क्‍या कहा?
मामले में रिया चक्रवर्ती की ओर से भी लिखित दलील पेश की गई। इसमें कहा गया कि सुशांत की मौत मामले से उसका कोई लेना-देना नहीं है। पटना में दर्ज केस गलत है। यह बिहार पुलिस का जूरिडिक्शन नहीं है और इस तरह सीबीआई को केस ट्रांसफर करना भी सही नहीं है। अपनी लिखित दलील में रिया की ओर से यह भी कहा गया है कि बिहार पुलिस ने एफआईआर दर्ज किया और केस सीबीआई को दे दिया गया, ये सब बिना जूरिडिक्शन के हुआ है। ऐसे में मामले को मुंबई ट्रांसफर किया जाए।

सुशांत की पिता की ओर से क्‍या कहा गया?
वहीं, सुशांत के पिता की ओर से दाखिल लिखित दलील में कहा गया कि मुंबई पुलिस ने कोई एफआईआर दर्ज नहीं की जबकि पटना में केस दर्ज होने के बाद 10 लोगों से पूछताछ हुई है। शुरुआती जांच में जूरिडिक्शन का सवाल नहीं उठाया जाता है और मुंबई पुलिस की जांच पर उन्हें भरोसा नहीं है। शिकायती ने कहा था कि मुंबई पुलिस ने मामले की छानबीन सही तरह से नहीं की है। ऐसे में पटना पुलिस का इस मामले में पूरा जूरिडिक्शन बनता है। सुशांत जब जिंदा था, तब भी संदिग्ध आरोपियों ने उसे पिता से बात नहीं करने दी। ऐसे में क्राइम का जूरिडिक्शन पटना का बनता है।

सीबीआई ने भी दिया जवाब
सीबीआई की तरफ से भी सुप्रीम कोर्ट में लिखित जवाब दिया गया था। जवाब में कहा गया कि कोर्ट को सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को अपनी जांच जारी रखने देना चाहिए। सीबीआई का कहना था कि केस ट्रांसफर की याचिका गलत है और कई कारणों से खारिज होने के लायक है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

अगला पोलियो मुक्त देश हो सकता है पाकिस्तान : डब्ल्यूएचओ

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार पाकिस्तान पोलियो मुक्त दुनिया की यात्रा में अपना नाम दर्ज कराने वाला अगला देश हो सकता है। शनिवार...

Covid-19:वायरस को शरीर में पहुंचाने के लिए प्रतिरक्षा तंत्र भी जिम्मेदार

प्रतिरक्षा तंत्र के कुछ अणु ऐसे प्रोटीन को बढ़ावा देते हैं, जो कोरोना वायरस को शरीर में प्रवेश करने की अनुमति देते हैं। इसकी...

इस फेस्टिव सीजन विद्या का रेड वेलवेट कुर्ता सूट आप भी कर सकती हैं ट्राई,बस इतनी है कीमत

दुर्गाष्टमी की शाम को अभिनेत्री विद्या बालन के वेलवेट कुर्ता सूट की इमेज इंस्टाग्राम पर काफी देखीं जा रही हैं। विद्या के इस...

US Election: बहस और उसके बाद

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में दोनों प्रत्याशियों के बीच टीवी डिबेट का सिलसिला खत्म हो जाने के बाद मुकाबला अंतिम चरण में पहुंच चुका है।...

Recent Comments