Home Sport MS Dhoni Retirement: एमएस धोनी के हास्य से भरे ‘वन लाइनर’, जानें...

MS Dhoni Retirement: एमएस धोनी के हास्य से भरे ‘वन लाइनर’, जानें कब कैसे की सबकी बोलती बंद

नई दिल्ली
महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) को कई बार मैदान के अंदर और बाहर की घटनाओं के बारे में पूछा जाता और हालांकि उन्हें शब्दों को घुमाने में महारत हासिल नहीं लेकिन वह अपने ‘हेलीकॉप्टर’ शॉट की तरह हास्यास्पद तरीके के ‘वन लाइनर’ से इनका जवाब देते। टीम में मतभेदों की अटकलों का मजाक उड़ाने से लेकर खेल में तकनीक की ‘वारंटी’ के संबंध में, रणनीति के काम करने या नहीं करने के बारे में जब भी सवाल पूछे गए तो उनका मजाकिया लहजा उनके काफी काम आया।

जोगिंदर शर्मा पर दिया था यह जवाब
वर्ष 2007 विश्व कप टी20 की घटना को ही लें, जिसमें किसी ने भी भारत के जीतने की उम्मीद नहीं थी। चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ तनावपूर्ण फाइनल और धोनी ने कम अनुभवी जोगिंदर शर्मा को गेंदबाजी के लिए लगा दिया। उन्होंने दाव खेला और यह कारगर रहा। उन्होंने इसका जवाब दिया, ‘मैंने सोचा कि मुझे गेंद उसे देनी चाहिए जो सचमुच अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अच्छा करना चाहता है।’

भगवान भी उन्हीं की मदद करता है जो खुद की मदद करते हैं
भारत को 2011 विश्व कप ट्रोफी दिलाने तक वह जोखिम उठाने में माहिर हो चुके थे। उन्होंने फिर फाइनल को चुना और खुद को फॉर्म में चल रहे युवराज सिंह से आगे पांचवें नंबर पर उतारने का फैसला किया। श्रीलंका के खिलाफ मुश्किल लक्ष्य का पीछा करने से पहले उन्होंने ड्रेसिंग रूम की बात पर मजाक करते हुए कहा, ‘भगवान उनकी मदद करता है जो खुद अपनी मदद करते हैं। मैंने कहा कि भगवान हमें बचाने नहीं आ रहा है।’ उन्होंने छक्के से इस मैच में जीत दिलायी। कप्तान को सिर्फ रणनीति बनाने की बातों तक सीमित नहीं होना पड़ता है बल्कि सितारों से भरे ड्रेसिंग रूम को संभालना और खिलाड़ी आपस में मिलकर नहीं चल रहे, ऐसी अटकलों से भी निपटना होता है।

धोनी एक कदम आगे की सोचते हैं: लालचंद राजपूत

झगड़े पर कर दी सबकी बोलती बंद
ऑस्ट्रेलिया के 2014 के दौर में ऐसी अटकलें चल रही थीं कि विराट कोहली और शिखर धवन में खटपट चल रही थी क्योंकि धवन ने हल्की चोट के कारण बल्लेबाजी करने पर अनिच्छा व्यक्त की थी। धोनी ने इस पर कहा, ‘सही बताऊं, विराट ने एक चाकू लिया। उसने शिखर को मारा जो इससे बच गया और फिर हमने उसे बल्लेबाजी के लिए भेजा। ये सभी कहानियां हैं। वॉर्नर बंधुओं या किसी और को इस पर एक अच्छी मूवी बनानी चाहिए।’ उनके करियर के दौरान इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में टीम का वाइटवाश होना भी शामिल है। उनसे जब पूछा गया कि इनमें से कम दर्दनाक कौन सा था तो उन्होंने अपने चिर परिचित अंदाज में जवाब दिया, ‘आप मरते हो तो आप यह नहीं देखते कि कौन सा मरने का बेहतर तरीका है।’

वीडियो: महेंद्र सिंह धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को कहा अलविदा

डीआरएस पर दिया था यह जवाब
इसके अलावा वह उस तकनीक पर भरोसा नहीं करते थे जो फूलप्रूफ नहीं हो और वह कभी डीआरएस के पक्ष में नहीं थे, हालांकि इसे कब इस्तेमाल करना है, उन्हें इसका महारथी माना जाता था। उनका मानना था, ‘अगर मैं एक ‘लाइफ जैकेट’ खरीदता हूं जो वारंटी के साथ नहीं है तो यह थोड़ा परेशानी भरा है। विशेषकर जब आपने इसके लिए काफी ज्यादा पैसा लगाया है। मैं इसके लिए किसी तरह की वारंटी चाहूंगा। जैसे ही ऐसा हो, मैं खुश हो जाऊंगा।’

‘धोनी का रवैया और उनका व्यक्तित्व मेरे लिए कहीं अधिक महत्वपूर्ण था’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सीबीआई पर बंदिशें

जिस तरह से ने सीबीआई को राज्य में जांच पड़ताल करने के लिए मिली आम इजाजत को वापस लिया है, वह देश में...

केदारनाथ का ऐसा वीडियो कभी नहीं देखा होगा, मंदिर के पीछे बादल से झांकता हिमालय

सोशल मीडिया भारत की खूबसूरती को दिखाने वाले कई वीडियो वायरल होते रहते हैं। लॉकडाउन के दौरान प्रदूषण में भारी कमी देखने को...

बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ा है कोरोना महामारी का असर, बाल आयोग ने शुरू की ‘संवेदना’ पहल

कोरोना संक्रमण के चलते मानसिक रूप से प्रभावित हो रहे बच्चों के लिए बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने नई पहल की है। आयोग ने...

जुनून ने प्रोफेसर को बना दिया चंदन के बाग का मालिक, पढ़ें दिलचस्प किस्सा

उत्तर-प्रदेश के सुल्तानपुर  में एक  प्रोफेसर के कुछ अलग करने के जुनून ने उन्हें 'चंदन'के बाग का मालिक बना  दिया। अब वह अपने भाई...

Recent Comments