Home News सुशांत केस में मुंबई पुलिस ने क्यों नहीं दर्ज की FIR? राजनीतिक...

सुशांत केस में मुंबई पुलिस ने क्यों नहीं दर्ज की FIR? राजनीतिक विश्लेषक संजय गुप्ता ने दिया जवाब

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में मुंबई पुलिस अपनी जांच को लेकर शुरुआत से ही लोगों के निशाने पर है। सुशांत के चाहने वाले लगातार इस बात को उठा रहे हैं कि मामले को लेकर मुंबई पुलिस ने अभी तक एफआईआर क्यों दर्ज नहीं की है? क्या महाराष्ट्र सरकार मुंबई पुलिस को बचा रही है? यहां तक कि अघाड़ी सरकार व्यक्तिगत हमलों पर उतर आई है। इन सब सवालों के जवाब राजनीतिक विश्लेषक संजय गुप्ता ने दिए हैं।

हमारे सहयोगी चैनल टाइम्स नाउ से बात करते हुए राजनीतिक विश्लेषक संजय गुप्ता ने बताया कि सुशांत सिंह राजपूत से मुंबई पुलिस या महाराष्ट्र सरकार की कोई दुश्मनी नहीं है। कई राजनीतिक पार्टियां बयानबाजी करती हैं कि मुंबई पुलिस या महाराष्ट्र सरकार सुशांत के खिलाफ है, जबकि ऐसा नहीं है। अघाड़ी सरकार ऐसा बिल्कुल नहीं चाहती है कि सुशांत की मौत के जिम्मेदार लोगों को बचाया जाए।

संजय गुप्ता ने आगे बताया कि जब हत्या और आत्महत्या में शक होता है तो एडीआर (ADR) यानी एक्सीडेंटल डेथ रिपोर्ट दाखिल की जाती है। इसलिए मुंबई पुलिस ने एफआईआर की जगह एडीआर दर्ज की है। जब तक किसी व्यक्ति पर ऐसा आरोप सिद्ध नहीं हो जाता है, जो कि आपराधिक होता है तब तक वह एफआईआर में नहीं बदलती है।

बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत की फैमिली के वकील विकास सिंह पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट पर भी सवाल उठा चुके हैं। उन्होंने बताया कि उन्होंने रिपोर्ट देखी जिसमें मरने का वक्त नहीं है दिखा। यह काफी अहम जानकारी होती है। उनकी मौत मरने से हुई या फिर मारकर लटकाया गया, मरने के वक्त से यह बात साफ हो जाती।

परिवार के वकील का दावा- सुशांत सिंह राजपूत की ऑटोप्सी रिपोर्ट में मृत्यु का समय दर्ज नहीं

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वैक्सीन में कितना अंतर हो

भारत में कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड के दो डोज के बीच अंतर को बढ़ाकर 12 से 16 सप्ताह किए जाने के फैसले पर सवाल-जवाब का...

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

गांवों में फैला कोरोना

जहां एक ओर बुरी तरह प्रभावित राज्यों और बड़े शहरों में कोरोना संक्रमण की स्थिति में हल्का सुधार दिखने से राहत महसूस की जा...

Recent Comments