Home Sport नहीं रहे चेतन चौहान: भारतीय क्रिकेटर, जिसने चौके-छक्के से किया था टेस्ट...

नहीं रहे चेतन चौहान: भारतीय क्रिकेटर, जिसने चौके-छक्के से किया था टेस्ट करियर का आगाज

पूर्व भारतीय ओपनर चेतन चौहान का रविवार को निधन हो गया। चौहान को कोविड-19 पॉजिटिव पाए जाने के बाद 12 जुलाई को लखनऊ के संजय गांधी पीजीआई में भर्ती कराया गया था। किडनी संबंधित बीमारियों के कारण उनका स्वास्थ्य बिगड़ गया जिससे उन्हें गुरुग्राम के मेंदाता अस्पताल में शिफ्ट किया गया। शुक्रवार रात को उनके कई महत्वपूर्ण अंगों ने काम करना बंद कर दिया और उन्हें वेंटीलेटर सपोर्ट पर रखा गया था। आइए, उनके क्रिकेट और राजनीति से जुड़े फैक्ट्स पर नजर डालते हैं…

​चौके-छक्के से क्रिकेट करियर का आगाज

चेतन चौहार के टेस्ट कारियर का आगाज 1969 में हुआ था। उन्होंने पहला मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ ब्रेबॉर्न स्टेडियम, मुंबई में खेला था। डेब्यू टेस्ट में पहला रन बनाने के लिए उन्होंने 25 मिनट का वक्त लिया था, लेकिन जब उन्होंने खाता खोला तो सभी को हैरान कर दिया। दरअसल, उन्होंने ऑफ साइड में बेजोड़ चौके के साथ करियर का आगाज किया और फिर अगली गेंद पर शानदार हुक शॉट खेलकर छक्का जड़ा। ये दोनों ही शॉट ब्रूस टेलर की गेंद पर लगाए थे।

​गावसकर के साथ जुगल जोड़ी

चौहान और सुनील गावसकर की सलामी जोड़ी टेस्ट में काफी सफल रही। दोनों ने 1970 के दशक में 11 बार शतकीय साझेदारी की और दोनों ने मिलकर 3127 रन बनाए। इन दोनों के बीच हुई बेस्ट पार्टनरशिप 1979 में इंग्लैंड के खिलाफ 213 रनों की रही। जब चौहान 1981 में रिटायर हुए तो वह और गावसकर टेस्ट में तीसरे बेस्ट ओपनिंग साझेदार थे।

​कभी नहीं बना सके टेस्ट में सेंचुरी

चेतन उन क्रिकेटरों में शामिल हैं, जो टॉप ऑर्डर बल्लेबाज थे, लेकिन कभी टेस्ट में शतक नहीं लगा पाए। वह टॉप ऑर्डर बल्लेबाज के तौर पर बिना शतक के सबसे अधिक रन बनाने वाले क्रिकेटर हैं। उन्होंने 2084 रन बनाए, लेकिन कभी तिहाई का आंकड़ा पार नहीं कर पाए। इस मामले में उनसे आगे सिर्फ शेन वॉर्न, जो मिडल ऑडर या लोअर ऑर्डर में उतरते थे, ही हैं। मूल रूप से स्पिनर वॉर्न ने 145 टेस्ट में 3154 रन बनाए। उनका बेस्ट स्कोर 99 रन था।

राजनीतिक करियर

चेतन 1981 में क्रिकेट से संन्यास के बाद 1985 में राजनीति में आए और बीजेपी जॉइन किया। उसके बाद से वह लगातार राजनीति और क्रिकेट में ऐक्टिव रहे। चौहान अमरोहा जिले की नौगांवा विधानसभा सीट से 2017 में विधायक चुने गए थे। क्रिकेट से संन्यास लेकर वह राजनीति में सक्रिय भूमिका निभा रहे थे। चौहान योगी सरकार में सैनिक कल्याण, होम गार्ड, पीआरडी, नागरिक सुरक्षा विभाग के मंत्री थे।

​वॉकआउट विवाद और सनी का साथ

चौहार और सुनील गावसकर लंबे समय तक ओपनिंग पार्टनर रहे। इस दौरान बहुचर्चित वॉकआउट कांड भी हुआ। 1981 के भारत-ऑस्ट्रेलिया मैच में जब अंपायर के फैसले के खिलाफ गावसकर ने वॉकआउट का फैसला किया था तो दूसरे छोर पर चेतन चौहान ही थे। वह अपने साथी के कहने पर बाउंड्री लाइन तक चले भी गए थे, लेकिन मैनेजर के कहने पर वापस क्रीज पर लौटे।

​मंकीगेट कांड के दौरान रहे टीम मैनेजर

चेतन 2008 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई टीम इंडिया के टीम मैनेजर थे। उस दौरे पर भज्जी और एंड्रयू साइमंड्स के बीच मंकी गेट प्रकरण काफी चर्चित रहा था, जिसकी वजह से काफी विवाद हुआ था। इस मामले को आज भी क्रिकेट के सबसे विवादित मामलों में गिना जाता है।

​ऐसा रहा इंटरनैशनल करियर

चेतन चौहान ने भारत की ओर से 40 टेस्ट में 2084 रन बनाए। इस दौरान उनका औसत 31.57 रहा, जबकि सर्वश्रेष्ठ स्कोर 97 रन रहा। इस दौरान उनके नाम 16 अर्धशतक दर्ज हुए। वनडे की बात करें तो उन्होंने 7 मैचों में 153 रन बनाए। उनका बेस्ट स्कोर 46 रन रहा।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कोरोना के इलाज की खोज के लिए भारतीय मूल की किशोरी ने जीते 25 हजार डॉलर

दुनियाभर के वैज्ञानिक कोरोनावायरस महामारी का कारगर उपचार खोजने में जुटे हुए हैं। इस कड़ी में भारतीय मूल की एक अमेरिकी किशोरी ने भी...

चेन्नै सुपर किंग्स vs राजस्थान रॉयल्स LIVE स्कोर: डु प्लेसिस के साथ सैम करन ने की पारी की शुरुआत

नई दिल्लीतीन बार की चैंपियन चेन्नै सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच अबु धाबी के शेख जायद स्टेडियम में आईपीएल-13 का 37वां मुकाबला...

DC vs KXIP: मनोबल बढ़ाने वाली जीत के बाद किंग्स इलेवन पंजाब का अब दिल्ली कैपिटल्स से होगा सामना

दुबईगत चैंपियन मुंबई इंडियंस के खिलाफ रोमांचक मुकाबले में जीत से किंग्स इलेवन पंजाब का मनोबल बढ़ा होगा लेकिन अब तब निरंतर प्रदर्शन करने...

देश में लगातार बढ़ रही हैं गर्दन और रीढ़ की हड्डी से जुड़ी समस्याएं, ये हैं कारण

दुघर्टनाओं और गलत जीवनशैली के कारण देश में गर्दन एवं रीढ़ की हड्डी(स्पाइनल कॉर्ड) के क्षतिग्रस्त होने की समस्याएं बढ़ रही हैं। देश में...

Recent Comments