Home News सियासी संकट थमने के बीच राजस्थान BJP चीफ बोले- हमारी पर्दे के...

सियासी संकट थमने के बीच राजस्थान BJP चीफ बोले- हमारी पर्दे के पीछे की कोई रणनीति नहीं है

सियासी संकट थमने के बीच राजस्थान BJP चीफ बोले- हमारी पर्दे के पीछे की कोई रणनीति नहीं है

राजस्थान बीजेपी अध्यक्ष बोले- हम मजबूत विपक्ष की भूमिक निभा रहे हैं (फाइल फोटो)

जयपुर:

सचिन पायलट (Sachin Pilot) और राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के ‘एकसाथ’ आने से राजस्थान में सियासी संकट (Rajasthan Govt Crisis) का करीब-करीब पटाक्षेप हो चुका है. करीब एक महीने के गतिरोध के बाद आज पहली बार गहलोत और पायलट मुलाकात हुई. इस बीच, राजस्थान बीजेपी के अध्यक्ष सतीश पूनिया (Satish Poonia) ने कहा कि अशोक गहलोत विश्वास प्रस्ताव लाने की तैयार कर रहे थे. हम सिर्फ कांग्रेस की रणनीति का जवाब दे रहे हैं. 

पूनिया ने कहा, “हम कोरोना जैसे आम आदमी से जुड़े मुद्दों पर चर्चा करना चाहते हैं. कम से कम इन मुद्दों पर विश्वास प्रस्ताव से पहले चर्चा होनी चाहिए. हमारे पास संख्या बल नहीं है. यह स्पष्ट है. हम मजबूत विपक्ष की भूमिका निभा रहे हैं. हमारी पर्दे के पीछे की कोई रणनीति नहीं है. बता दें कि बीजेपी ने विधानसभा में गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की घोषणा की है. राजस्थान विधानसभा में विपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया ने कहा, हम अपने सहयोगी दलों के साथ कल विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव ला रहे हैं. राजस्‍थान का विधानसभा सत्र (Special assembly session)14 अगस्‍त से प्रारंभ हो रहा है.

वहीं, राजस्‍थान में कांग्रेस विधायक दल की बैठक को संबोधित करते हुए सीएम अशोक गहलोत ने विधायकों से जो बातें हुईं, उन्‍हें भूलने को कहा. सचिन पायलट से मुलाकात करने के बाद सीएम ने बैठक में कहा, ‘जो बातें हुई उन्हें अब भूल जाओ हम इन 19 विधायकों के बिना भी बहुमत साबित कर देते लेकिन फिर वह खुशी नहीं मिलती क्योंकि अपने तो अपने होते हैं.’ सीएम ने कहा, हम खुद विधानसभा में विश्‍वास प्रस्‍ताव लाएंगे. 

वीडियो: कांग्रेस को जब बहुमत का इतना अहंकार है तो जनता का वक्त क्यों बर्बाद किया : गुलाबचंद कटारिया

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वैक्सीन में कितना अंतर हो

भारत में कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड के दो डोज के बीच अंतर को बढ़ाकर 12 से 16 सप्ताह किए जाने के फैसले पर सवाल-जवाब का...

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

गांवों में फैला कोरोना

जहां एक ओर बुरी तरह प्रभावित राज्यों और बड़े शहरों में कोरोना संक्रमण की स्थिति में हल्का सुधार दिखने से राहत महसूस की जा...

Recent Comments