Home News रिया चक्रवर्ती को सुशांत केस की CBI जांच से ऐतराज नहीं, SC...

रिया चक्रवर्ती को सुशांत केस की CBI जांच से ऐतराज नहीं, SC में बिहार-महाराष्ट्र सरकार आमने-सामने

सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले में पटना में दर्ज केस पर महाराष्ट्र सरकार का जवाब आ गया है। राज्‍य सरकान ने इसे गलत मंशा से दर्ज केस बताया है। साथ ही यह भी कहा है कि सीबीआई को केस ट्रांसफर किया जाना सही नहीं है। जबकि बिहार सरकार ने पटना में दर्ज केस को सही बताते हुए दलील दी है कि मुंबई पुलिस राजनीतिक दबाव में है और इसी कारण अभी तक मुंबई में इस मामले में केस तक दर्ज नहीं हुआ है। सुप्रीम कोर्ट ने केस ट्रांसफर की याचिका पर मंगलवार को फैसला सुरक्षित रखते हुए तमाम पक्षकारों से गुरुवार तक लिखित दलील अदालत में पेश करने को कहा था।

सभी पक्षकारों ने कोर्ट को सौंपे लिख‍ित जवाब
बिहार सरकार की ओर से कोर्ट में जमा किए गए लिख‍ित दलील में महाराष्‍ट्र पुलिस पर आरोप है कि उसने जांच में बिहार पुलिस को सहयोग नहीं किया। बता दें कि रिया चक्रवर्ती ने केस पटना से मुंबई ट्रांसफर करने के लिए कोर्ट से गुहार लगाई है, जिस पर सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को फैसला सुरक्षित रखते हुए तमाम पक्षकारों से गुरुवार तक लिखित दलील अदालत में पेश करने को कहा था। अब सभी पक्षकारों ने लिखित दलीलें सुप्रीम कोर्ट के सामने पेश कर दिए।

‘राजनीति दबाव में है मुंबई पुलिस’
बिहार सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट को बताया गया कि पटना में दर्ज केस सही है और मुंबई पुलिस राजनीतिक दबाव में काम कर रही है। इसी कारण उसने बिहार पुलिस को छानबीन में सहयोग नहीं किया। साथ ही कहा कि मामले की छानबीन सीबीआई को सौंपी जा चुकी है, ऐसे में अब रिया की अर्जी का कोई औचित्य नहीं है। लिहाजा इसे खारिज किया जाए। बिहार सरकार की ओर से दाखिल लिखित दलील में यह भी कहा गया है कि सीबीआई जांच जल्दी से जल्दी पूरी होनी चाहिए। सीबीआई की जांच में कोई बाधा डालने की इजाजत नहीं होनी चाहिए।

‘गलत नीयत से पटना में दर्ज हुआ केस’
दूसरी ओर, महाराष्ट्र सरकार की ओर से कहा गया कि बिहार पुलिस ने गलत नीयत से केस दर्ज किया है। केस को सीबीआई को ट्रांसफर किया जाना सही नहीं है, क्योंकि इसके लिए कोई कारण नहीं है। मामला मुंबई ट्रांसफर किया जाए।

रिया को सीबीआई जांच से ऐतराज नहीं
इस मामले में रिया चक्रवर्ती की ओर से भी लिखित दलील पेश की गई। इसमें कहा गया कि सुशांत की मौत मामले से उसका कोई लेना देना नहीं है। पटना में दर्ज केस गलत है। यह बिहार पुलिस का जूरिडिक्शन नहीं है और इस तरह सीबीआई को केस ट्रांसफर करना भी सही नहीं है। सुप्रीम कोर्ट अगर केस सीबीआई को ट्रांसफर करता है तो उन्हें ऐतराज नहीं है। अपनी लिखित दलील में रिया की ओर से यह भी कहा गया है कि बिहार पुलिस ने एफआईआर दर्ज किया और केस सीबीआई को दे दिया गया, ये सब बिना जूरिडिक्शन के हुआ है। इसलिए मामले को मुंबई ट्रांसफर किया जाए।

हमें मुंबई पुलिस पर भरोसा नहीं: सुशांत के पिता
सुशांत के पिता की ओर से दाखिल लिखित दलील में कहा गया है कि मुंबई पुलिस ने कोई एफआईआर दर्ज नहीं की, जबकि पटना में केस दर्ज होने के बाद 10 लोगों से पूछताछ हुई है। शुरुआती जांच में जूरिडिक्शन का सवाल नहीं उठाया जाता और मुंबई पुलिस की जांच पर उन्हें भरोसा नहीं है। शिकायती का कहना है कि मुंबई पुलिस ने मामले की छानबीन सही तरह से नहीं की है। पटना पुलिस का इस मामले में पूरा जूरिडिक्शन बनता है। सुशांत जब जिंदा था तब भी उसके पिता ने कई बार बात करने की कोशिश की लेकिन संदिग्ध आरोपियों ने बात नहीं करने दी। ऐसे में क्राइम का जूरिडिक्शन पटना का बनता है।

चुनाव बीतते ही सब भूल जाएंगे: महाराष्‍ट्र सरकार
सुशांत सिंह राजपूत केस की सुनवाई के दौरान मंगलवर को कोर्ट के सामने बिहार और महाराष्ट्र सरकार ने एक दूसरे पर राजनीत करने का लगाया था। बिहार सरकार की ओर से पेश वकील ने कहा था कि महाराष्ट्र पुलिस ने अभी तक केस दर्ज नहीं किया, क्योंकि राजनीतिक दबाव है। वहीं महाराष्ट्र सरकार की ओर से आरोप लगाया गया था कि बिहार में चुनाव होने वाले हैं, इसलिए मामले का राजनीतिकरण किया जा रहा है। चुनाव बीतते ही सब भूल जाएंगे। बहरहाल, रिया चक्रवर्ती की केस ट्रांसफर करने की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था और लिखित दलील पेश करने को कहा था। गुरुवार को तमाम पक्षकारों ने लिखित दलील पेश कर दी।

कौन करेगा सुशांत केस की जांच? सुप्रीम कोर्ट में 3 घंटे की बहस का पूरा हाल

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सीबीआई पर बंदिशें

जिस तरह से ने सीबीआई को राज्य में जांच पड़ताल करने के लिए मिली आम इजाजत को वापस लिया है, वह देश में...

केदारनाथ का ऐसा वीडियो कभी नहीं देखा होगा, मंदिर के पीछे बादल से झांकता हिमालय

सोशल मीडिया भारत की खूबसूरती को दिखाने वाले कई वीडियो वायरल होते रहते हैं। लॉकडाउन के दौरान प्रदूषण में भारी कमी देखने को...

बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ा है कोरोना महामारी का असर, बाल आयोग ने शुरू की ‘संवेदना’ पहल

कोरोना संक्रमण के चलते मानसिक रूप से प्रभावित हो रहे बच्चों के लिए बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने नई पहल की है। आयोग ने...

जुनून ने प्रोफेसर को बना दिया चंदन के बाग का मालिक, पढ़ें दिलचस्प किस्सा

उत्तर-प्रदेश के सुल्तानपुर  में एक  प्रोफेसर के कुछ अलग करने के जुनून ने उन्हें 'चंदन'के बाग का मालिक बना  दिया। अब वह अपने भाई...

Recent Comments