Home News CM उद्धव ठाकरे बोले, ‘महाराष्‍ट्र में कोरोना का प्रकोप दोबारा न बढ़े,...

CM उद्धव ठाकरे बोले, ‘महाराष्‍ट्र में कोरोना का प्रकोप दोबारा न बढ़े, इसके लिए कर रहे पूरी कोशिश

CM उद्धव ठाकरे बोले, 'महाराष्‍ट्र में कोरोना का प्रकोप दोबारा न बढ़े, इसके लिए कर रहे पूरी कोशिश

भारत में कोरोना के सबसे ज्‍यादा केस महाराष्‍ट्र में ही हैं

मुंंबई:

Coronavirus Pandemic: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi)द्वारा आहूत एक बैठक में कहा कि राज्य सरकार पूरी कोशिश कर रही है कि प्रदेश में कोविड-19 (Covid-19)का दोबारा प्रकोप न फैल पाए.आधिकारिक बयान के अनुसार, ठाकरे ने यह भी कहा कि महामारी उन्मूलन के लिए राज्य के प्रत्येक जिले में अस्पताल बनाए जाएंगे. सीएम ने कहा कि महाराष्ट्र ने कोरोना वायरस संक्रमण या संक्रमण हुई मौत का एक भी मामला नहीं छुपाया है और पूरी पारदर्शिता के साथ आंकड़े साझा किए हैं. पीएम मोदी ने मंगलवार को गुजरात, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, पंजाब, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, तेलंगाना, तमिलनाडु, बिहार और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस पर बात कर कोविड-19 से निपटने के उपायों की समीक्षा की. बैठक में प्रधानमंत्री ने कोविड-19 से होने वाली मौतों का दर एक प्रतिशत से भी कम करने की जरुरत पर बल दिया. 

यह भी पढ़ें

देश में तेजी से बढ़ा कोरोना का ग्राफ, 7 दिनों में अमेरिका-ब्राजील से ज्यादा कोरोना मामले : WHO

बयान के अनुसार, ठाकरे ने कहा, ‘‘राज्य में मृत्यु दर को कम किया जा रहा है और मुंबई के धारावी और वर्ली में हालात नियंत्रित करने लिए तारीफ हो रही है.”उन्होंने कहा, ‘‘लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है. प्रयास जारी हैं कि राज्य में कोविड-19 दोबारा सर ना उठा सके.”मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसा देखा गया है कि कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त होने के बाद उन लोगों को अन्य संक्रमण हो गया, ऐसे लोगों के इलाज के लिए तंत्र तैयार किया जाना चाहिए.उन्होंने अलग-अलग तरह के वायरस कैसे और कहां से आते हैं, यह पता लगाने के लिए अनुसंधान पर भी जोर दिया.

ठाकरे ने गैर-पेशेवर पाठ्यक्रमों के लिए अंतिम वर्ष की परीक्षा नहीं लेने की बात भी दोहरायी ताकि स्‍टूडेंट्स के जीवन को खतरे में ना डाला जाए.उन्होंने कहा कि राज्य में 3.5 लाख बिस्तर ऐसे हैं जिनमें वेंटिलेटर और अन्य उपकरण जुड़े हुए हैं. इस बैठक में केन्द्रीय मंत्रियों राजनाथ सिंह, निर्मला सीतारमण और हर्षवर्धन ने भी भाग लिया. इसमें महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने भी हिस्सा लिया.

कोरोना: क्या एहतियातों के बीच बच्चों को संक्रमण से बचाया जा सकता है?

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वैक्सीन में कितना अंतर हो

भारत में कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड के दो डोज के बीच अंतर को बढ़ाकर 12 से 16 सप्ताह किए जाने के फैसले पर सवाल-जवाब का...

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

गांवों में फैला कोरोना

जहां एक ओर बुरी तरह प्रभावित राज्यों और बड़े शहरों में कोरोना संक्रमण की स्थिति में हल्का सुधार दिखने से राहत महसूस की जा...

Recent Comments