Home News हिंदी में नहीं बोल सकने पर CISF अधिकारी ने उनसे पूछा, क्या...

हिंदी में नहीं बोल सकने पर CISF अधिकारी ने उनसे पूछा, क्या वह भारतीय हैं: कनिमोझी – Ameta

हिंदी में नहीं बोल सकने पर CISF अधिकारी ने उनसे पूछा, क्या वह भारतीय हैं: कनिमोझी

द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) सांसद कनिमोझी (फाइल फोटो).

चेन्नई/नई दिल्ली:

द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) सांसद कनिमोझी ने रविवार को आरोप लगाया कि चेन्नई हवाईअड्डे पर जब वह हिंदी में नहीं बोल सकी, तब सीआईएसएफ की एक अधिकारी ने उनसे पूछा कि ‘‘क्या वह भारतीय हैं.” इस पर, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) ने मामले की जांच का आदेश देते हुए कहा कि किसी विशेष भाषा पर जोर देना उसकी नीति नहीं है. 

यह भी पढ़ें

द्रमुक की लोकसभा सदस्य कनिमोझी ने इस घटना पर तत्काल जवाब देने और कार्रवाई करने का आश्वासन दिये जाने पर सीआईएसएफ का शुक्रिया अदा किया. द्रमुक की महिला शाखा की सचिव कनिमोझी ने ट्वीट किया, ‘‘आज हवाई अड्डे पर जब मैंने सीआईएसएफ की एक अधिकारी से कहा कि वह मुझसे तमिल या अंग्रेजी में बात करें क्योंकि मैं हिंदी नहीं जानती, तब उन्होंने मुझसे पूछा कि ‘क्या मैं भारतीय हूं’.” 

पार्टी सूत्रों ने बताया कि चेन्नई हवाई अड्डे पर यह घटना उस वक्त हुई, जब दोपहर में कनिमोझी दिल्ली की उड़ान में सवार होने के लिये वहां पहुंची थी. कनिमोझी राष्ट्रीय राजधानी पहुंच गयी हैं और वह अगले कुछ दिनों तक वहां रहेंगी, जहां उनके कुछ आधिकारिक कार्यक्रम हैं. उन्होंने ‘हिंदी थोपना’ हैशटैग के साथ ट्विटर पर लिखा, ‘‘मैं जानना चाहूंगी कि कब से भारतीय होना हिंदी जानने के समान हो गया है.” 

इसके तत्काल बाद सीआईएसएफ ने उनसे इस घटना का पूरा ब्योरा मांगा. सीआईएसएफ ने ट्वीट किया, ‘‘सीआईएएफ मुख्यालय से आपको शुभकामनाएं. हम आपके इस अरूचिकर अनुभव का गंभीरता से संज्ञान लेते हैं. कृपया हमें हवाईअड्डे का नाम, स्थान, घटना की तारीख और समय जैसी सूचनाएं भेजें, ताकि इस मामले में उपयुक्त कार्रवाई की जा सके.” शीघ्र ही सीआईएसएफ ने कहा कि उसने ‘मामले की जांच का आदेश दिया है. किसी विशेष भाषा पर जोर देना उसकी नीति नहीं है.’ बता दें कि सीआईएसएएफ केंद्रीय गृह मंत्रालय के अंतर्गत आता है.


Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ब्रेन ड्रेन को रोकना होगा

टाइम्स ऑफ इंडिया ने 17 जून के अंक में 'रेजिडेंट इंडियंस' शीर्षक से संपादकीय में लिखा है कि भारत से इमिग्रेशन भले बढ़ रहा...

टीके पर नासमझी

सरकार ने अपनी तरफ से यह स्पष्टीकरण देकर अच्छा किया है कि की कोवैक्सीन में नवजात बछड़ों का सीरम नहीं होता। सोशल मीडिया...

विरोध और आतंकवाद का फर्क

हाल के कुछ अहम फैसलों पर नजर डालें तो ऐसा लगता है जैसे अदालतें लोकतांत्रिक मूल्यों की पुनर्प्रतिष्ठा में लगी हुई हैं। राजद्रोह से...

महंगाई ने बढ़ाई मुसीबत

पेट्रोलियम गुड्स, कमॉडिटी और लो बेस इफेक्ट के कारण मई में थोक महंगाई दर 12.94 फीसदी और खुदरा महंगाई दर 6.30 फीसदी तक चली...

Recent Comments