Home Sport सुब्रत पॉल को 2023 एशियन कप के लिए तीन साल बाद राष्ट्रीय...

सुब्रत पॉल को 2023 एशियन कप के लिए तीन साल बाद राष्ट्रीय टीम में वापसी की उम्मीद

सुब्रत पॉल (file)सुब्रत पॉल (file)

नई दिल्ली

पिछले कुछ साल से राष्ट्रीय फुटबॉल टीम में जगह बनाने में असफल रहे ‘स्पाइडरमैन’ गोलकीपर सुब्रत पॉल को उम्मीद है कि वह 2023 एशियन कप के लिए टीम में वापसी कर लेंगे। यह 33 वर्षीय खिलाड़ी पिछली बार भारतीय टीम के लिए 2017 में खेला था। इसके बाद से गुरप्रीत सिंह संधू नियमित रूप से भारतीय गोलकीपर रहे हैं।

पॉल ने इंडियर सुपर लीग (आईएसएल) में जमशेदपुर एफसी के लिए अच्छा प्रदर्शन किया है। वह अब हैदराबाद एफसी से जुड़ गए हैं। पॉल ने एआईएफएफ टीवी से कहा, ‘मुझे पूरा भरोसा है कि राष्ट्रीय टीम में योगदान देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ है। कोच (इगोर स्टिमाक) ने कहा कि जिसके पास भी भारतीय पासपोर्ट है, उसके पास देश के लिए खेलने का मौका है। मैं जगह बनाने के लिए दिन-रात मेहनत कर रहा हूं।’

पढ़ें, गोवा फुटबॉल में मैच फिक्सिंग से सनसनी, सवाल तलब

उन्होंने कहा, ‘मैं एक और बार एशियन कप खेलना चाहता हूं। यह सुनने में अजीब लग सकता है।’ भारत 2022 फीफा विश्व कप की दौड़ से पहले ही बाहर हो चुका है, लेकिन 2023 एशियन कप के लिए स्टिमाक की टीम के पास मौका है। टीम का संयुक्त क्वॉलिफिकेशन (फीफा और एशियन कप) अभियान आठ अक्टूबर को भुवनेश्वर में एशियाई चैंपियन कतर के खिलाफ मैच के साथ फिर से शुरू होगा।

दोहा 2011 एशियन कप में शानदार प्रदर्शन के बाद पॉल को एशियाई मीडिया ने ‘स्पाइडरमैन’ की उपाधि दी थी। उन्होंने स्वीकार किया कि टीम ने जगह नहीं बना पाने से वह ‘परेशान’ रहे। उन्होंने कहा, ‘मैं आर्थिक रूप से स्थिर होने के लिए शुक्रगुजार हूं कि मेरे पास पहले से ही एक क्लब का अनुबंध है लेकिन मुझमें कुछ ऐसा है जो परेशान कर रहा है। मुझे पता है कि मैं वहां (भारतीय टीम में) हो सकता हूं। मैंने खुद के लिए यह चुनौती स्वीकार की है।’

पढ़ें, 100 साल का हुआ ईस्ट बंगाल, भूटिया ने बताए सबसे खास पल

उन्होंने कहा, ‘टीम में फिर से जगह बनाने की चुनौती के कारण मैच खेल रहा हूं। कोच स्टिमाक के लिए मेरे मन में पूरा सम्मान है। अगर उन्हें लगता है कि मैं काफी अच्छा हूं तो वह मुझे वापस बुलाएंगे। मैं अहंकारी नहीं हूं। मैंने भारत के लिए 74 मैच खेले हैं।’

उन्होंने कहा कि अगर उन्हें लगा कि उनके पास राष्ट्रीय टीम को देने के लिए कुछ नहीं है तो वह संन्यास ले लेंगे। उन्होंने कहा कि वह पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान और वर्तमान बीसीसीआई प्रमुख सौरभ गांगुली से प्रेरणा लेते है। जिन्होंने कुछ समय के लिए इससे बाहर रहने के बाद राष्ट्रीय टीम में वापसी की थी।

उन्होंने कहा, ‘गांगुली मेरे लिए सबसे बड़े प्रेरणास्रोत है। जब उन्हें भारतीय टीम से बाहर कर दिया गया, तो उन्होंने संघर्ष किया। लेकिन उन्होंने मजबूज चरित्र और मानसिकता दिखाई। जिस तरह से उन्होंने संघर्ष किया, वह सभी को पता है और वापसी के बाद वह अपने चरम पर थे।’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

गांवों में फैला कोरोना

जहां एक ओर बुरी तरह प्रभावित राज्यों और बड़े शहरों में कोरोना संक्रमण की स्थिति में हल्का सुधार दिखने से राहत महसूस की जा...

तालमेल से बनेगी बात

केंद्र सरकार ने सोमवार को में वैक्सीन पॉलिसी पर अपने रुख का बचाव करते हुए कहा कि महामारी से कैसे निपटना है, यह...

Recent Comments