Home News बीजेपी महिला मोर्चा प्रमुख ने ‘कमल’ वाली साड़ी डिजाइन की, पार्टी में...

बीजेपी महिला मोर्चा प्रमुख ने ‘कमल’ वाली साड़ी डिजाइन की, पार्टी में घमासान – Ameta

पश्चिम बंगाल : बीजेपी महिला मोर्चा प्रमुख ने 'कमल' वाली साड़ी डिजाइन की, पार्टी में घमासान

प्रतीकात्मक तस्वीर

कोलकाता:

फैशन डिजाइनर और पश्चिम बंगाल की भाजपा महिला मोर्चा की प्रमुख अग्निमित्रा पॉल ने कमल के चिन्ह वाली साड़ी तैयार की और पार्टी के कार्यकर्ताओं से इसे खरीदने को कहा. हालांकि उनका यह सुझाव पार्टी के भीतर ही कई नेताओं को पंसद नहीं आया. व्हाट्सऐप पर महिला मोर्चा के विभिन्न ग्रुपों पर एक ऑडियो संदेश में पॉल ने कहा कि उन्होंने कमल चिन्ह के साथ दो साड़ियां डिजाइन की हैं. एक साड़ी की कीमत 280 रुपये है. इच्छुक कार्यकर्ता भाजपा कार्यालय से इसे खरीद सकते हैं.

यह भी पढ़ें

उन्होंने संदेश में कहा, ‘‘महिला कार्यकर्ताओं को पार्टी के कार्यक्रम के दौरान ये साड़ियां पहननी चाहिए.” हालांकि पार्टी के भीतर बहुतों को उनकी सलाह पसंद नहीं आई. प्रदेश भाजपा के एक नेता ने पहचान जाहिर नहीं करने का अनुरोध करते हुए कहा, ‘‘किसी व्यक्ति को भाजपा प्रकोष्ठ का प्रमुख नियुक्त किया जाता है तो उन्हें कार्यकर्ताओं से कुछ भी कहते समय सावधानी बरतना चाहिए. इस तरह के पद पर रहने के दौरान कुछ कहने से उसका अलग मतलब निकाला जाता है. ”

महिला मोर्चा की एक पूर्व नेता ने पॉल के अनुरोध को ‘‘अस्वीकार्य” बताया. उन्होंने कहा, ‘‘हम लंबे समय से भाजपा से जुड़े हैं लेकिन कभी ऐसा नहीं लगा कि कमल चिन्ह वाली साड़ी पहनने की जरूरत है. यह राजनीति है कोई फैशन शो नहीं. यहां अलग कायदे होते हैं. ”

पॉल ने इन बयानों को खारिज कर दिया और कहा कि उन्होंने प्रदेश भाजपा प्रमुख दिलीप घोष से पहले ही इसकी अनुमति ली थी. पॉल ने कहा कि उन्होंने कमल चिन्ह वाली कुछ साड़ियां तैयार की थीं. पसंद आने पर पार्टी के कुछ कार्यकर्ताओं ने कहा था कि बड़े स्तर पर इसे तैयार करना चाहिए. एक एनजीओ इसे तैयार कर रहा है.

उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘मैंने निशुल्क इसे तैयार किया और साड़ी की बिक्री से मिलने वाला धन एनजीओ को जाएगा. ” पॉल मार्च 2019 में भाजपा में शामिल हुईं और जून 2020 में वह प्रदेश महिला मोर्चा की अध्यक्ष बनाई गईं. उन्होंने कहा कि फैशन डिजाइनर के तौर पर 23 साल काम करने के बाद उन्हें अपना उत्पाद बेचने के लिए किसी ‘सस्ते हथकंडे’ की जरूरत नहीं है.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वैक्सीन में कितना अंतर हो

भारत में कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड के दो डोज के बीच अंतर को बढ़ाकर 12 से 16 सप्ताह किए जाने के फैसले पर सवाल-जवाब का...

रजिस्ट्रेशन आसान हो, वैक्सीन के सुरक्षा घेरे में सब लाए जाएं

देश में 18 साल से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण के दायरे में लाने की शुरुआत इस महीने की पहली तारीख से हुई,...

केंद्र ही खरीदे टीका

दिल्ली सरकार ने कोवैक्सीन की कमी की बात कहते हुए 18-44 साल आयुवर्ग के लिए चल रहे 100 टीकाकरण केंद्र बंद कर दिए हैं।...

गांवों में फैला कोरोना

जहां एक ओर बुरी तरह प्रभावित राज्यों और बड़े शहरों में कोरोना संक्रमण की स्थिति में हल्का सुधार दिखने से राहत महसूस की जा...

Recent Comments