Home News राजस्थान में एक ड्राइवर को ”जय श्री राम” और “मोदी ज़िंदाबाद” नहीं...

राजस्थान में एक ड्राइवर को ”जय श्री राम” और “मोदी ज़िंदाबाद” नहीं बोलने पर पीटा गया

राजस्थान में एक ड्राइवर को ''जय श्री राम'' और

गफ्फार अहमद कच्छवा ने इस मामले की पुलिस से शिकायत की है.

सीकर:

राजस्थान के सीकर में एक 52 वर्षीय ऑटो-रिक्शा चालक को “मोदी जिंदाबाद” और “जय श्री राम” न बोलने पर बेरहमी से पीटा गया. पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी. पीड़ित ने बताया कि उन पर हमला करने वाले दो लोगों ने उनकी दाढ़ी भी खींची और उन्हें “पाकिस्तान जाने” के लिए कहा. पुलिस ने दोनों हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया है. गफ्फार अहमद कच्छवा ने पुलिस से शिकायत की कि आरोपियों ने उनकी कलाई घड़ी और पैसे चुरा लिए. यही नहीं हमलावरों ने उनके दांत तोड़ दिए और एक आंख सुजा दी. पीड़ित के चेहरे पर चोटों के निशान हैं. 

यह भी पढ़ें

एफआईआर के अनुसार, शुक्रवार सुबह करीब 4 बजे पीड़ित पास के एक गांव में यात्रियों को छोड़ने के बाद लौट रहे थे, जब एक कार में सवार दो लोगों ने उन्हें रोका और उनसे तंबाकू मांगा. हालांकि, उन्होंने जो तंबाकू की पेशकश की, उसे हमलावरों ने लेने से इनकार कर दिया और कथित तौर पर “मोदी जिंदाबाद” और “जय श्री राम” कहने के लिए कहा.उनके इनकार करने पर हमलावरों ने उन्हें एक छड़ी से पीटा.

कचावा ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया, ” दो लोग गाड़ी से बाहर आए और मेरी पिटाई शुरू कर दी. उन्होंने मुझे थप्पड़ मारा और मुझे ‘मोदी जिंदाबाद’ कहने के लिए कहा. उन्होंने मेरी दाढ़ी भी खींची.”  सीकर के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी पुष्पेंद्र सिंह ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया, “शिकायत दर्ज होने के बाद हमने शुक्रवार को दो लोगों को गिरफ्तार किया. प्रारंभिक जांच से पता चलता है कि आरोपियों ने शराब के नशे में पीड़ित की पिटाई की. आरोपियों की पहचान शंभू दयाल जाट (35) और राजेंद्र जाट (30) के रूप में हुई है. एक अन्य पुलिस अधिकारी ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया, “दोनों आरोपियों को मामला दर्ज करने के छह घंटे के भीतर पकड़ा गया. पीड़ित के साथ आरोपियों की बहस हुई जो कि नशे में थे. आरोपियों ने ड्राइवर से पैसे भी मांगे.”

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ब्रेन ड्रेन को रोकना होगा

टाइम्स ऑफ इंडिया ने 17 जून के अंक में 'रेजिडेंट इंडियंस' शीर्षक से संपादकीय में लिखा है कि भारत से इमिग्रेशन भले बढ़ रहा...

टीके पर नासमझी

सरकार ने अपनी तरफ से यह स्पष्टीकरण देकर अच्छा किया है कि की कोवैक्सीन में नवजात बछड़ों का सीरम नहीं होता। सोशल मीडिया...

विरोध और आतंकवाद का फर्क

हाल के कुछ अहम फैसलों पर नजर डालें तो ऐसा लगता है जैसे अदालतें लोकतांत्रिक मूल्यों की पुनर्प्रतिष्ठा में लगी हुई हैं। राजद्रोह से...

महंगाई ने बढ़ाई मुसीबत

पेट्रोलियम गुड्स, कमॉडिटी और लो बेस इफेक्ट के कारण मई में थोक महंगाई दर 12.94 फीसदी और खुदरा महंगाई दर 6.30 फीसदी तक चली...

Recent Comments