Home News गुरुओं का ‘यज्ञ’, शिष्यों को मौका – Ameta

गुरुओं का ‘यज्ञ’, शिष्यों को मौका – Ameta

अयोध्या में राम मंदिर भूमिपूजन : गुरुओं का 'यज्ञ', शिष्यों को मौका

Ram Mandir Bhumi Pujan: 5 अगस्त को अयोध्या में भूमि पूजन है

खास बातें

  • 5 अगस्त को है भूमि पूजन
  • पीएम मोदी और सीएम योगी होंगे शामिल
  • अयोध्या में की जा रही हैं भव्य तैयारियां

नई दिल्ली :

Ram Mandir Bhumi Pujan:  अयोध्या राम मंदिर भूमि पूजन की भव्य तैयारियां चल रही हैं. उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कल यानी 5 अगस्त को होने वाली अयोध्या यात्रा का विवरण भी जारी कर दिया है. पीएम मोदी सुबह 9:35 बजे दिल्ली से अयोध्या के लिए रवाना होंगे. उनका विशेष विमान करीब एक घंटे के बाद लखनऊ उतरेगा. वहां से वह दूसरे हेलिकॉप्टर से अयोध्या जाएंगे. प्रधानमंत्री लगभग 3 घंटे अयोध्या में रहेंगे. उधर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी अयोध्या पहुंच चुके हैं. सीएम योगी ने अयोध्या में की जा रही तैयारियों का जायजा लिया है. हालांकि इस पूरे कार्यक्रम पर कोरोना संक्रमण का भी साया है. जहां  कार्यक्रम में पहले से ही ज्यादा लोगों के आने से मनाही वहीं आज भी रामलला के एक पुजारी को कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई. इससे पहले भी एक पुजारी और 14 पुलिसकर्मियों की रिपोर्ट पॉजिटिव है. वहीं इसी बीमारी के प्रकोप को देखते हुए आंदोलन के प्रमुख चेहरे लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती और कल्याण सिंह भी भूमि पूजन कार्यक्रम में हिस्सा नहीं ले पाएंगे.  

यह भी पढ़ें

लेकिन कल यानी बुधवार को जब पीएम मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ राम मंदिर के भूमि पूजन में हिस्सा ले रहे होंगे तो यह नजारा देख सबको एक बात जरूर याद आएगी, ‘गुरुओं का ‘यज्ञ’, शिष्यों का मौका’….अयोध्या में राम मंदिर  के लिए पूरे सोमनाथ से अयोध्या तक की यात्रा कर एक बड़ा आंदोलन बनाने का श्रेय अगर किसी को है तो वह बीजेपी के उस समय ‘हिंदू हृदय सम्राट’ लाल कृष्ण आडवाणी को जाता है. उस आंदोलन की पृष्ठभूमि में कई नेता निकले जिसमें नरेंद्र मोदी भी शामिल हैं. लाल कृष्ण आडवाणी एक तरह से मोदी के गुरु भी हैं. जिनको राजनीति में स्थापित करने के लिए आडवाणी ने कोई कसर नहीं छोड़ी. 

63m9a27o

25 सितंबर, 1990 को लालकृष्ण आडवाणी ने गुजरात के सोमनाथ से रथयात्रा शुरू की थी जिसे देश के कई हिस्सों से होते हुए 30 अक्टूबर को अयोध्या पहुंचना था. जहां वे पहुंचक कारसेवा करने वाले थे. लेकिन बिहार पहुंचते हुए उन्हें र 23 अक्तूबर को समस्तीपुर में गिरफ्तार कर लिया गया. बिहार में उस समय लालू प्रसाद यादव की सरकार थी. उनकी गिरफ्तारी के बाद से ही मंदिर आंदोलन ने और जोर पकड़ लिया. अयोध्या में कारसेवकों को रोकने के लिए यूपी की तत्कालीन मुलायम सिंह यादव सरकार ने गोली चलाने का आदेश दे दिया. केंद्र में वीपी सिंह सरकार से बीजेपी ने समर्थन वापस ले लिया और सरकार गिर गई. इस पूरे घटनाक्रम से बीजेपी की ताकत बढ़ती चली गई और यूपी में कल्याण सिंह की अगुवाई में बीजेपी ने सरकार बना ली. यानी आडवाणी के आंदोलन से देश में बीजेपी की ताकत इतनी बढ़ गई कि वह कांग्रेस को चुनौती देने की स्थिति में आ गई.  

89a44vfg

अब बात करें सीएम योगी के गुरु और गोरखधाम पीठ के महंत अवैद्यनाथ की तो उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर के पूरा जीवन खपा दिया. उन्होने इस आंदोलन के लिए पूरे देश का दौरा किया. जब 1986 में विवादित ढांचे का ताला खोला गया तो रामचंद्र परमहंस के साथ-साथ महंत अवैद्यनाथ भी वहां मौजूद थे. अशोक सिंहल और रामचंद्र परमहंस के साथ मिलकर अवैद्यनाथ ने मंदिर के लिए आंदोलन की धार देने में कोई कसर नहीं छोडी. महंत अवैद्यनाथ अब इस दुनिया में नही हैं. लेकिन उनके शिष्य सीएम योगी आदित्यनाथ को भूमि पूजन का मौका मिला है.

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

खाने को चटपटा बनाने वाले इन 8 मसालों के फायदे नहीं जानते होंगे आप! जानें किन गुणों से हैं भरपूर

चटपटे खाने की जान होते हैं, मसाले। मसालेदार और चटपटा खाने के शौकीनों को मसालों से खास लगाव होता है। मसाले पकवानों का स्वाद...

ऑस्ट्रेलियाई संग्रहालय में रखा जाएगा दुनिया के सबसे संरक्षित डायनासोर का जीवाश्म

ऑस्ट्रेलिया के सबसे बड़े विक्टोरिया संग्रहालय में जल्द ही दुनिया के सबसे संरक्षित डायनासौर ट्राइसिरोटोप्टस के जीवाश्म रखे जाएंगे।  म्यूजियम विक्टोरिया ने बुधवार को...

Golgappe Recipe : इस तरीके से बनाएंगे तो मार्केट जैसे बनेंगे गोलगप्पे, जानें आसान रेसिपी

सर्दियां शुरू हो चुकी हैं। ऐसे में इस मौसम में खाने-पीने का एक अपना ही मजा है। आप चटपटे के शौकीन हैं, तो आपको...

फाइजर-बायोएनटेक का टीका 65 से अधिक उम्र वालों के लिए भी सुरक्षित

ब्रिटेन के औषधि नियामक ने बुधवार को कहा कि फाइजर-बायोएनटेक द्वारा विकसित कोरोना टीका 65 वर्ष से अधिक उम्र के रोगियों में उपयोग के...

Recent Comments