Home News यमुना को पुनर्जीवित करने के लिये 1994 के जल समझौते पर दोबारा...

यमुना को पुनर्जीवित करने के लिये 1994 के जल समझौते पर दोबारा काम करने की जरूरत: एनजीटी समिति – Ameta

यमुना को पुनर्जीवित करने के लिये 1994 के जल समझौते पर दोबारा काम करने की जरूरत: एनजीटी समिति

यमुना नदी में सालभर प्रवाह सुनिश्चित करने के लिए ऐसा कहा गया है.

नई दिल्ली:

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) द्वारा गठित यमुना निगरानी समिति ने यमुना नदी में सालभर पर्यावरण प्रवाह सुनिश्चित करने के लिये 1994 में उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और दिल्ली के बीच जल बंटवारे को लेकर हुई संधि पर दोबारा काम करने की सिफारिश की है.

एनजीटी के सेवानिवृत विशेषज्ञ सदस्य बी एस साजवान और दिल्ली की पूर्व मुख्य सचिव शैलजा चंद्रा की सदस्यता वाली इस दो सदस्यीय समिति ने ”नदी के दिल्ली वाले हिस्से में पर्यावरण प्रवाह” पर मसौदा रिपोर्ट के आधार पर यह सिफारिश की.

समिति ने कहा, ”हथिनी कुंड बैराज में अनुशंसित ई-प्रवाह की अनुमति देने के लिये जल शक्ति मंत्रालय, अपर यमुना रिवर बोर्ड और उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश और दिल्ली 1994 के जल समझौते पर दोबारा काम करें.”

 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

अफगानिस्तान से पैकअप

बाइडेन प्रशासन की ताजा घोषणा के अनुसार अमेरिकी फौज इस साल 11 सितंबर यानी ट्विन टावर आतंकी हमले की बीसवीं बरसी तक अफगानिस्तान से...

अब जाकर दिखी तेजी

रेकॉर्ड संख्या में आ रहे कोरोना के नए मामलों के बीच देश के कई हिस्सों में टीकों की तंगी की शिकायतें आने लगी हैं।...

मां, बहन, बेटी से आगे

सिंगल मदर से जुड़े एक हालिया फैसले में ने जो महत्वपूर्ण टिप्पणियां दी हैं, वे न केवल हमारी सरकारों को दिशा दिखाने वाली...

असम में नया क्या हुआ?

असम विधानसभा चुनाव का नतीजा 2 मई को आएगा। वहां पार्टियां अपने उम्मीदवारों की हिफाजत को लेकर अभी से चौकन्ना हो गई हैं। विपक्षी...

Recent Comments