Home News सुशांत और रिया के ब्रोकर का खुलासा, ऐक्ट्रेस ने फाइनल किया था...

सुशांत और रिया के ब्रोकर का खुलासा, ऐक्ट्रेस ने फाइनल किया था बांद्रा अपार्टमेंट और कहा दोनों जल्द करेंगे शादी

Edited By Shashikant Mishra | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

सुशांत सिंह राजपूत और रिया चक्रवर्तीसुशांत सिंह राजपूत और रिया चक्रवर्ती

सुशांत सिंह राजपूत की मौत को एक महीने से ऊपर हो गया है और मुंबई इस मामले की जांच कर रही है। और अब बिहार पुलिस भी इस मामले में शामिल हो गई क्योंकि सुशांत के पिता केके सिंह ने पटना में रिया चक्रवर्ती के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। हाल ही में हमारे सहयोग टाइम्स नाउ ने रिया और सुशांत के ब्रोकर से बात की। उसने खुलासा किया कि रिया के फैसले के बाद बांद्रा अपार्टमेंट को फाइनल किया गया था, जहां दोनों रह रहे थे।

ब्रोकर ने यह भी खुलासा किया कि रिया चक्रवर्ती ने उनसे यह कहते हुए संपर्क किया था कि वह सुशांत सिंह राजपूत के साथ एक 3BHK या 4BHK अपार्टमेंट की तलाश कर रही थी और उन्होंने यह भी कहा था कि वे जल्द ही शादी करेंगे। ब्रोकर ने आगे कहा कि रिया सोसाइटी में कोई प्रतिबंध नहीं चाहती, जबकि सुशांत पॉश सोसाइटी में अपार्टमेंट चाहते थे। ब्रोकर ने आश्चर्य भी व्यक्त किया था क्योंकि दोनों बांद्रा अपार्टमेंट के लिए 4 लाख रुपये से अधिक किराया दे रहे थे।

सुशांत सिंह राजपूत के पिता ने रिया चक्रवर्ती के खिलाफ दर्ज की गई सात पेज एफआईआर में आरोप लगाया था कि रिया और उनके परिवार ने सुशांत से उस घर को यह कहकर छुड़वा दिया कि इस घर में भूत-प्रेत है। इस बात का प्रभाव मेरे बेटे के दिमाग पर हो गया और वहां से मुंबई एयरपोर्ट के पास एक रिजॉर्ट में उसे ठहरा दिया गया।

सुशांत सिंह राजपूत मामला: बिहार पुलिस 2 कंपनियों, रिया चक्रवर्ती और मनी ट्रेल की जांच में जुटीसुशांत सिंह राजपूत मामला: बिहार पुलिस 2 कंपनियों, रिया चक्रवर्ती और मनी ट्रेल की जांच में जुटी

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ब्रेन ड्रेन को रोकना होगा

टाइम्स ऑफ इंडिया ने 17 जून के अंक में 'रेजिडेंट इंडियंस' शीर्षक से संपादकीय में लिखा है कि भारत से इमिग्रेशन भले बढ़ रहा...

टीके पर नासमझी

सरकार ने अपनी तरफ से यह स्पष्टीकरण देकर अच्छा किया है कि की कोवैक्सीन में नवजात बछड़ों का सीरम नहीं होता। सोशल मीडिया...

विरोध और आतंकवाद का फर्क

हाल के कुछ अहम फैसलों पर नजर डालें तो ऐसा लगता है जैसे अदालतें लोकतांत्रिक मूल्यों की पुनर्प्रतिष्ठा में लगी हुई हैं। राजद्रोह से...

महंगाई ने बढ़ाई मुसीबत

पेट्रोलियम गुड्स, कमॉडिटी और लो बेस इफेक्ट के कारण मई में थोक महंगाई दर 12.94 फीसदी और खुदरा महंगाई दर 6.30 फीसदी तक चली...

Recent Comments