Home News ‘क्या 2014 में कांग्रेस की हार के लिए UPA जिम्मेदार’ कांग्रेस नेता...

‘क्या 2014 में कांग्रेस की हार के लिए UPA जिम्मेदार’ कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने पूछे सवाल

'क्या 2014 में कांग्रेस की हार के लिए UPA जिम्मेदार' कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने पूछे सवाल

2019 में मिली हार के विश्लेषण की जरूरत: मनीष तिवारी

नई दिल्ली:

राजनीति के हर पड़ाव पर कांग्रेस (Congress) को पिछड़ते हुए देखने के बाद अब कांग्रेस के नेता खुलकर बोलने से गुरेज नहीं कर रहे हैं. इसी कड़ी में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी (Manish Tewari) ने 2014 (2014 Lok Sabha Election Result) में कांग्रेस को मिली हार के लिए UPA की भूमिका पर सवाल खड़े किए हैं. उन्होंने कांग्रेस सांसद राजीव सातव (Rajeev Satav) के सवालों का समर्थन करते हुए अपने ट्विटर अकाउंट पर चार सवाल पूछे. तिवारी (Manish Tewari) ने पूछा कि क्या 2014 में कांग्रेस की हार के लिए UPA जिम्मेदार है, इस वाजिब सवाल का जवाब दिया जाना चाहिए. यह भी उतना ही वाजिब है कि क्या UPA को भितरघात का नुकसान उठाना पड़ा, उन्होंने कहा कि 2019 में मिली हार पर भी आत्ममंथन की जरूरत है. उन्होंने कहा पिछले 6 सालों के दौरान यूपीएस पर सवाल नहीं उठाए गए. 

यह भी पढ़ें

सोनिया गांधी की कांग्रेस के RS सांसदों के साथ बैठक में उठी राहुल को फिर अध्‍यक्ष बनाने की मांग

दरअसल कांग्रेस की वर्चुअल बैठक में कांग्रेस सांसद राजीव सातव (Rajeev Satav) ने कई सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि आप सभी कह रहे हैं कि हमें आत्म निरिक्षण की जरूरत है, इसकी शुरुआत घर से होनी चाहिए. 2009 में 200 से ज्यादा थे लेकिन 44 पर कैसे आए, आप सभी उस वक्त मंत्री थे. उन्होंने कहा यह भी देखा जाना चाहिए कि आप कहां असफल रहे. 

दिग्विजय सिंह ने किया राहुल गांधी का समर्थन, कहा- ‘आप ऐसे ही बेबाक़ टिप्पणी करते रहें…’

बता दें कि UPA (संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन) कई राजनीतिक दलों का एक गठबंधन है. कांग्रेस इन दलों की अगुवाई करती आई है. साल 2004 से लेकर 2014 तक यूपीए की सरकार ही थी. वर्तमान में यूपीए में कांग्रेस के अलावा DMK, (राष्ट्रीय जनता) RJD, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP),  जम्मू-कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस और इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग शामिल है. साल 2012 तक TMC और AIMIM भी संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन का हिस्सा थी. 

 

Video: महाराष्ट्र में सियासी फेरबदल पर मनीष तिवारी ने कहा- राष्ट्रपति की भूमिका भी सवालों के घेरे में आई

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कांग्रेस में बगावत

जम्मू में ग्लोबल गांधी फैमिली नाम के एक एनजीओ के बैनर तले असंतुष्ट कांग्रेसी नेताओं के आयोजन ने तिनके की वह आड़ भी खत्म...

फर्क समझे सरकार

सोशल मीडिया को नियमित करने की बहुचर्चित और वास्तविक जरूरत पूरी करने के मकसद से केंद्र सरकार पिछले हफ्ते जो नए कानून लेकर आई...

भारत-पाकिस्तानः LOC पर शांति की उम्मीद

भारत और पाकिस्तान की सेनाओं की ओर से संयुक्त घोषणापत्र के रूप में गुरुवार को आई यह खबर एकबारगी सबको चौंका गई कि दोनों...

टीकाकरणः नए हालात, नई रणनीति

केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि कोरोना के टीकाकरण का दूसरा चरण सोमवार एक मार्च से ही शुरू हो जाएगा और इसके...

Recent Comments