Home Gadgets OnePlus Nord की बॉडी में नहीं है 'दम', प्रेशर में टूटा

OnePlus Nord की बॉडी में नहीं है ‘दम’, प्रेशर में टूटा

OnePlus Nord को JerryRigEverything ने टेस्ट किया है, जो स्मार्टफोन को स्क्रैच और बैंड टेस्ट करने के लिए प्रसिद्ध है। टेस्टिंग में वनप्लस नॉर्ड स्क्रैच टेस्ट में तो पास हो गया, लेकिन बैंड टेस्ट और फायर टेस्ट में स्मार्टफोन ने टिके रहने के लिए काफी संघर्ष किया। टेस्टिंग के दौरान फोन पर दवाब डालने से उसकी बाहरी बॉडी तो सुरक्षित रही, लेकिन अंदर से टूटने की अवाज़ आई और थोड़ा अधिक दवाब डालने से डिस्प्ले के अंदर की स्क्रीन भी पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई। OnePlus Nord इस तिमाही के सबसे लोकप्रिय स्मार्टफोन के तौर पर उभर के आया है, क्योंकि कंपनी ने इस स्मार्टफोन को कुछ अच्छे स्पेसिफिकेशन और आक्रामक कीमत के साथ मार्केट में उतारा है। हालांकि कीमत को कम करने के लिए कंपनी ने कुछ हिस्सो में समझौते किए हैं, जो फोन की टेस्टिंग वीडियो में सामने आए हैं।

JerryRgEverything नाम का यूट्यूब चैनल चलाने वाले ज़ैक नेल्सन ने विभिन्न स्तरों पर सतह को खरोंच कर OnePlus Nord के डिस्प्ले का टेस्ट किया। वीडियो पाया गया कि फोन के डिस्प्ले पर Moh लेवल 6 पर खरोंचें दिखाई देनी शुरू हो गई और 7वें लेवल पर गहरी खरोंचों का सामना करना पड़ा। वनप्लस नॉर्ड में गोरिल्ला ग्लास 5 प्रोटेक्शन शामिल है। टेस्टिंग में सामने आया कि कंपनी ने फोन को गिरने से सुरक्षित करने के लिए ग्लास और फ्रेम के बीच एक प्लास्टिक बफर लेयर दी है।

दिलचस्प बात यह है कि टेस्टिंग में यह पता चला कि OnePlus Nord में एक मेटल फ्रेम नहीं है। इसके बजाय कंपनी ने इसमें एक सिलवर कोटिंग जोड़ी है, जो पूरी तरह से एक मेटल फ्रेम महसूस कराती है। यह फ्रेम वास्तव में प्लास्टिक है। पावर बटन और स्विच को मेटल से बनाया गया है और फोन का पिछला हिस्सा ग्लास से बना है। देखा गया है कि सिम ट्रे में अतिरिक्त सुरक्षा के लिए एक रबर कोटिंग है।

डिस्प्ले को आग से भी टेस्ट किया गया, जिसके दौरान पता चला कि वनप्लस नॉर्ड के पिक्सल लगभग 20 सेकंड की निरंतर आग के बाद सफेद होने लगते हैं। नेल्सन कहते हैं कि ये पिक्सल पूरी तरह से रिकवर नहीं कर पाए। खरोंच ऑप्टिकल फिंगरप्रिंट स्कैनर की कार्यक्षमता को प्रभावित नहीं करते हैं, जो एक अच्छी बात है।

बेंड टेस्ट के दौरान, OnePlus Nord की बिल्ड क्वालिटी का पता चला, जिसमें पहली बार दबाव डालने पर ही एक हल्की अवाज़ आई। नेल्सन के द्वारा और अधिक दबाव डालने के बाद, एक क्रैक की आवाज़ सुनाई दी और वॉल्यूम बटन के पास फ्रेम फटा हुआ प्रतीत हुआ। इसके बाद जल्द ही, डिस्प्ले बेकार हो जाता है और इस्तेमाल करने याग्य नहीं बचता। हालांकि आगे और पीछे के बाहरी कांच में कोई दरार नहीं आती, लेकिन दबाव में कांच के नीचे की स्क्रीन बर्बाद हो जाती है।

नेल्सन कहते हैं कि उन्होंने वनप्लस नॉर्ड पर जो दबाव डाला वो ‘सामान्य नहीं है’ और हर रोज इस्तेमाल के दौरान फोन इस तरह के दबाव नहीं झेलता है। हालांकि, वह OnePlus Nord के यूज़र्स को सलाह देते हैं कि फोन को पीछे की जेब में रखने से हमेशा बचें।
 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

फाइजर-बायोएनटेक का टीका 65 से अधिक उम्र वालों के लिए भी सुरक्षित

ब्रिटेन के औषधि नियामक ने बुधवार को कहा कि फाइजर-बायोएनटेक द्वारा विकसित कोरोना टीका 65 वर्ष से अधिक उम्र के रोगियों में उपयोग के...

Covid-19:साल 2024 तक लगातार करनी होगी कोविड पर सर्जिकल स्ट्राइक, वैज्ञानिकों की सलाह

आने वाले तीन से चार साल तक कोरोना महामारी के खिलाफ सरकार को सर्जिकल स्ट्राइक करनी होगी तब ही यह महामारी जड़ से...

प्रेगनेंसी के दौरान शीर्षासन करना कितना सेफ? जानें गर्भावस्था के दौरान योग करने के फायदे और सावधानियां 

हाल ही में अनुष्का शर्मा ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से एक तस्वीर शेयर की है , सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। फोटो...

आयुर्वेद में सनबाथ को कहते हैं ‘आतप सेवन’, जानें धूप सेंकने के ये जबर्दस्त फायदे

सर्दी में धूप सेंकने का अलग ही मजा है। धूप सेंकने से शरीर को आराम ही नहीं मिलता बल्कि इससे शरीर के अंग...

Recent Comments