Home News सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच अब कौन करेगी, पटना पुलिस या...

सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच अब कौन करेगी, पटना पुलिस या मुंबई पुलिस?

Sushant Singh RajputSushant Singh Rajput



मुंबई



बॉलिवुड ऐक्‍टर सुशांत सिंह राजपूत के केस की जांच अब तक सिर्फ मुंबई पुलिस कर रही थी। अब इस मामले में पटना में भी एफआईआर दर्ज हुई है। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि क्या इस केस की जांच अब दो अलग-अलग शहरों की पुलिस एक साथ करेगी या यह केस सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया जाएगा।

कानूनी नियमों को लेकर पूर्व आईपीएस अधिकारी और एडवोकेट वाई पी सिंह ने नवभारत टाइम्‍स से खास बातचीत की। उन्होंने कहा कि पटना और मुंबई, दोनों में से एक ही जगह अब इस केस का इन्‍वेस्टिगेशन हो सकता है। चूंकि मुंबई पुलिस में यह केस पहले दर्ज, इसलिए मुंबई पुलिस को यह केस ट्रांसफर होना चाहिए। सिंह के मुताबिक, सीबीआई को केस तभी ट्रांसफर हो सकता है जब यह साबित हो जाए कि पुलिस ठीक से काम नहीं कर रही है।

जहां मौत हुई, वहीं की पुलिस को ट्रांसफर होगा केस

वहीं, 26/11 मुंबई हमले केस के मुख्य जांच अधिकारी रमेश महाले कहते हैं, ‘चूंकि सुशांत सिंह की मौत मुंबई में हुई है, इसलिए जहां गुनाह हुआ है वह केस उसी शहर की पुलिस को ट्रांसफर होगा। ऐसे में सुशांत के पिता ने पटना में जो एफआईआर दर्ज कराई है, वह केस मुंबई पुलिस को ट्रांसफर कर दिया जाएगा।’

केंद्र चाहे तो सुशांत का केस सीबीआई को कर दे ट्रांसफर

सुशांत के केस को सीबीआई को ट्रांसफर करने पर रमेश महाले की राय वाई पी सिंह से थोड़ी अलग है। महाले के अनुसार, ‘मुंबई पुलिस बॉम्बे पुलिस ऐक्ट के तहत जबकि सीबीआई दिल्ली पुलिस ऐक्ट के तहत काम करती है। दिल्ली पुलिस केंद्र सरकार के अंडर में काम करती है और सीबीआई भी केंद्र सरकार की एजेंसी है। इसलिए केंद्र सरकार चाहे तो दिल्ली पुलिस ऐक्ट के तहत महाराष्ट्र सरकार से पूछे बगैर सुशांत सिंह के केस को सीबीआई को ट्रांसफर कर सकती है।’

शुरू से हो रहा था अपमान

  • शुरू से हो रहा था अपमान

    अंकिता लोखंडे कंगना के साथ ‘मणिकर्णिका’ में काम कर चुकी हैं। अपने इंटरव्यू में कंगना ने बताया कि जानकारी लेने के लिए उन्होंने अंकिता को पर्सनली फोन किया था। वह बताती हैं, ‘जब मैंने अंकिता से बात की तो उसने बताया कि शुरुआत से ही बहुत अपमान हो रहा था, जिसे वह बर्दाश्त नहीं कर पाए।’

  • संवेदनशील थे सुशांत

    इसी इंटरव्यू में कंगना ने दावा किया कि अंकिता ने उनसे कहा है कि वह (सुशांत) ‘मोटी चमड़ीवाले’ नहीं थे। लोग उनके बारे में क्या सोचते हैं इसको लेकर काफी संवेदनशील थे। गलत पीआर, गैंगबाजी, सबके सामने अपमान, वह ये सब नहीं बर्दाश्त कर पाए। उन्होंने बहुत झेल लिया था। कंगना के मुताबिक ये सब उनको अंकिता ने बताया।

  • अंकिता ने सुशांत के लिए लिखा था मेसेज

    सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद अंकिता उनके पिता से मिलने पटना गई थीं। सुशांत को गुजरे 1 महीना पूरा होने के बाद उन्होंने भगवान के सामने दीया भी जलाया था। साथ ही कैप्शन में लिखा- ईश्वर का बच्चा।

  • खुश रहने की दुआ

    सुशांत के लिए उनके फैन और समर्थकों ने मोमबत्ती और दिया जलाया था। देशभर ही नहीं विदेशों में भी सुशांत के लिए मोमबत्तियां जलाई गई थीं। अंकिता लोखंडे ने भी भगवान के पास दीया रखकर तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट की थी। साथ में लिखा था- जहां भी हो, खुश रहो।NBT Entertainment अब Telegram पर भी। हमें जॉइन करने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें और मोबाइल पर पाएं हर जरूरी अपडेट।

बांद्रा पुलिस एडीआर पर कर रही है जांच

बता दें, सुशांत के केस का इन्‍वेस्टिगेशन बांद्रा पुलिस एडीआर (ऐक्सिडेंटल डेथ रजिस्टर्ड) पर कर रही है जबकि सुशांत के पिता के के सिंह ने रविवार को पटना के राजीव नगर थाने में आईपीसी की धारा 341, 342, 280, 420, 406, 420 और 306 के तहत मामला दर्ज कराया है। इसमें ऐक्ट्रेस और सुशांत सिंह की खास दोस्‍त रिया चक्रवर्ती और उनके परिजनों को आरोपी बनाया है। सुशांत के पिता ने रिया पर सुशांत को प्यार में फंसाकर उनके पैसे निकालने का आरोप लगाया है।

NBT Entertainment अब Telegram पर भी। हमें जॉइन करने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें और मोबाइल पर पाएं हर जरूरी अपडेट।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

दिशा रविः विवेकशीलता के पक्ष में

बहुचर्चित टूलकिट मामले में गिरफ्तार युवा पर्यावरण कार्यकर्ता को आखिर मंगलवार को दिल्ली की एक अदालत से जमानत मिल गई। पहले दिन से...

जंग बन गए हैं चुनाव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने असम में एक रैली को संबोधित करते हुए संकेत दिया कि मार्च के पहले हफ्ते में चुनाव आयोग वहां चुनाव...

भारत-चीनः सुधर रहे हैं हालात

राहत की बात है कि भारत-चीन सीमा पर आमने-सामने तैनात टुकड़ियों की वापसी को लेकर शुरुआती सहमति बनने के बाद एलएसी पर तनाव में...

ग्रीनकार्ड की गुंजाइश

बाइडन प्रशासन की ओर से पिछले हफ्ते अमेरिकी संसद में पेश किया गया नागरिकता बिल 2021 इस बात की एक और स्पष्ट घोषणा है...

Recent Comments