Home News शगुफ्ता रफीक Exclusive: कंगना रनौत को चप्पल मारने की बात झूठी, महेश...

शगुफ्ता रफीक Exclusive: कंगना रनौत को चप्पल मारने की बात झूठी, महेश भट्ट ने मोहित सूरी को भी डांटा था

शगुफ्ता रफीक Exclusive: कंगना रनौत को चप्पल मारने की बात झूठी, महेश भट्ट ने मोहित सूरी को भी डांटा थाशगुफ्ता रफीक Exclusive: कंगना रनौत को चप्पल मारने की बात झूठी, महेश भट्ट ने मोहित सूरी को भी डांटा था

बॉलीवुड की तेज-तर्रार और बेबाक-बिंदास अभिनेत्री कंगना रनौत ने मशहूर प्रड्यूसर-डायरेक्टर महेश भट्ट पर आरोप लगाया था कि महेश भट्ट ने उनकी तरफ जूता फेंका था और उन पर हाथ भी उठाया था। अब महेश भट्ट के बचाव में राइटर शगुफ्ता रफीक सामने आई हैं, जिन्होंने कंगना की 2 फिल्में ‘वो लम्हे’ और ‘राज़ द मिस्ट्री कॉन्टिन्यूज’ लिखी थीं। शगुफ्ता महेश भट्ट के साथ 13 साल से काम कर रही हैं। शगुफ्ता ने इस पूरे मामले में नवभारतटाइम्स डॉट कॉम से एक्सक्लूसिव हुई विशेष बातचीत में विस्तार में बताया कि जब महेश भट्ट और कंगना के बीच यह मामला हुआ, तब वह भी उसी जगह मौजूद थीं।

कंगना की कोई पर्सनल तकलीफ है, वह न जाने क्यों लोगों को घसीट रही हैं

पहले हम लोगों को यह मान लेना चाहिए कि नेपोटिजम वाली पहली बात से ही यह पूरा फसाद शुरू हुआ है। कंगना रनौत की शायद कोई पर्सनल तकलीफ है किसी से और इसकी आड़ में ही वह न जाने किन-किन लोगों को घसीट रही हैं। महेश भट्ट के साथ मैंने एक दशक से ज्यादा समय तक काम किया है, बहुत अच्छी तरह जानती और समझती हूं उनको।

कंगना को जब डांट पड़ रही थी, मैं वहीं मौजूद थी

यह जो कंगना बार-बार झूठी बात कहती हैं कि महेश भट्ट साहब ने उन्हें जूता फेंक कर मारा, यह बात सरासर गलत है। जब यह वाकया हुआ मैं भी वहीं मौजूद थी। वह जगह थी बांद्रा में स्थित केतनव स्टूडियो, जहां हम सभी फिल्म वो लम्हें की पहली स्क्रीनिंग में पहुंचे थे, यह स्क्रीनिंग पूरी टीम के लिए थी, जहां एक निश्चित समय पर फिल्म की पूरी टीम को पहुंचना था क्योंकि फिल्म शुरू करनी थी। लंबे इंतजार के बाद कंगना नहीं पहुंची। काफी समय बाद जब कंगना पहुंची तो भट्ट साहब को गुस्सा आ गया और वह जोर-जोर से कंगना पर चिल्लाने लगे।

कई गलतियां की थीं कंगना ने

कंगना पर भट्ट साहब का यह गुस्सा सिर्फ एक दिन का नहीं था, किसी और फिल्म को लेकर कोई और बातें भी थीं, कुछ गलतियां कंगना ने फिल्म की शूटिंग के दौरान की थीं, या कुछ और हुआ था, जो मुझे ठीक से नहीं पता, लेकिन कुछ पुराना और कुछ आज का गुस्सा एक साथ फूटा था। वह सारा गुस्सा एक साथ, भट्ट साहब निकाल रहे थे।

कंगना के साथ-साथ मोहित सूरी को भी पड़ी थी डांट

मैं वहीं मौजूद थी, लेकिन दूर थी और कंगना सहित कई अन्य लोगों को भी डांट पड़ने की आवाज सुन रही थी। भट्ट साहब ने उस समय कंगना के साथ-साथ मोहित सूरी को भी जमकर फटकारा था। मोहित नहीं चाहते थे कि कंगना को डांट पड़े और इसलिए वह भट्ट साहब को शांत करने की कोशिश कर रहे थे।

गाली-गलौज भी की होगी महेश भट्ट ने, लेकिन जूता-चप्पल नहीं मारा

इस डांट के दौरान महेश भट्ट ने गाली भी दी होगी, मुझे याद नहीं। गाली-गलौज भी हुई होगी, लेकिन जूता-चप्पल फेंक कर भट्ट साहब ने बिल्कुल भी नहीं मारा था। जूता मारा होता तो वह विजुअल मैं कभी नहीं भूल पाती, मैं खुद भी डर जाती और भट्ट साहब के साथ कभी भी काम नहीं करती। भट्ट साहब ने कंगना को इतना डांटा था कि वह स्टूडियो से बाहर निकल कर अपने घर लौट गई थीं। कंगना के जाने के बाद सब चुप थे, फिल्म की स्क्रीनिंग शांति से हुई। वह दिन ऐसा था जब बहुत लोगों को डांट पड़ी थी।

भट्ट साहब सबसे ज्यादा मुझे डांटते थे

अब सच तो यह है कि भट्ट साहब ने मुझे जितना डांटा होगा, शायद ही किसी को इतनी डांट कभी भी पड़ी होगी, अब मुझे तो न जाने कितनी बार यह कहना चाहिए कि मेरे ऊपर चप्पल फेंक कर मारा। भट्ट साहब की डांट और गुस्सा 2 मिनट का होता है, वह पढ़े-लिखे समझदार और बेहद अनुभवी निर्माता-निर्देशक हैं। उनको पता है कब कौन से काम के लिए किसको-कितना डांटना है, वह बड़े हैं, सेट पर मौजूद लोगों को वह परिवार की तरह देखते हैं, हम सबको डांटते हैं, उनकी डांट से सीख भी मिलती है और काम भी फटाफट होता है।

बुरा लगा था तो फिर से क्यों भट्ट कैंप की फिल्म में किया था काम

मेरा सवाल है कि जब कंगना को भट्ट साहब की डांट का इतना बुरा लगा तो बाद में फिर से 2 साल बाद भट्ट की फिल्म राज़ 2 में काम क्यों किया? आखिर महेश भट्ट के प्रॉडक्शन में कंगना, इतना मार और डांट खाने के बाद भी क्यों काम कर रही थीं। कई सक्सेस पार्टियों में वह आती हैं, कई फिल्मों के संगीत लॉन्च में आती हैं, भला क्यों?

बदल गई है कंगना, मैं इस कंगना को नहीं जानती हूं

मुझे नहीं पता कि आखिर कंगना रनौत ऐसा क्यों कर रही हैं। अगर कंगना को महेश भट्ट के साथ कोई दिक्कत है तो आपस में बात करिए और मामला खत्म कर दीजिए। मैंने कभी भी इस मामले में कंगना से बात नहीं की। मैंने जिस कंगना के साथ काम किया था, वह अलग कंगना थी। कंगना अगर फिल्म इंडस्ट्री को बदलना चाहती हैं तो इस तरह हर एक से दुश्मनी मोल लेकर इंडस्ट्री का बदलाव नहीं होगा।

बॉलिवुड कोई आश्रम, मंदिर या दरगाह तो है नहीं

अब बॉलिवुड कोई आश्रम तो है नहीं, यह नाच-गाने वाली इंडस्ट्री है, मैं साफ कहती हूं, शायद कंगना सोच रही हैं कि बॉलिवुड में लोग उनके साथ ऐसा व्यवहार करेंगे जैसा एक मंदिर या आश्रम में होता है, तो ऐसा नहीं है। यह पाक-साफ दरगाह नहीं है, यहां लोग अपनी जरूरतों के हिसाब से काम करते हैं।

भट्ट साहब प्रड्यूसर हैं तो अनुराग बासु कैसे लॉन्च कर सकते हैं कंगना को

मैं यह समझती हूं कि फिल्म इंडस्ट्री में स्ट्रगल करना पड़ता है और कंगना ने स्ट्रगल किया है। कंगना कहती हैं कि भट्ट साहब ने नहीं, बल्कि अनुराग बासु ने उन्हें सिलेक्ट किया था और लॉन्च किया था। अब जब भला प्रड्यूसर महेश भट्ट हों तो कोई भी लड़का-लड़की या निर्देशक हो, लॉन्च करने का निर्णय भट्ट साहब ही करते हैं। अनुराग बासु कंगना को ब्रेक दे ही नहीं सकते थे, जब तक मुकेश भट्ट और महेश भट्ट की मर्जी न हो।

सबको मौका देते हैं महेश भट्ट, अच्छे घर की कंगना हों या बियर बार की शगुफ्ता

कंगना रनौत एक अच्छे घर की अच्छी लड़की हैं और महेश भट्ट ने ही उन्हें एक बेहतरीन फिल्म में कास्ट कर लॉन्च किया है। ठीक इसी तरह मैं बियर बार में गाना गाने वाली लड़की थी, बदनामी की लाइन से आई हुई लड़की मुझे भी महेश भट्ट ने मौका दिया। महेश भट्ट कहते हैं कि उनका काम सिर्फ फिल्म बनाना नहीं है, बल्कि उनकी जिम्मेदारी है कि वह ह्यूमन कैपिटल भी बनाएं, यही वजह है कि वह नए लोगों के साथ काम करते हैं। कहने का मतलब है कि वह एक अच्छे घर से आई कंगना के साथ भी काम करते हैं और बियर बार में गानें वाली शगुफ्ता रफीक के साथ भी काम कर सकते हैं। महेश भट्ट डिफरेंटशिएट नहीं करते हैं, तमाम नए लोगों को उनकी हर फिल्म में मौका मिलता है।

मैं तो पहले से ही गिरी हुई औरत हूं

कंगना रनौत अपने लफ्जों से महेश भट्ट साहब को गिराने के बारे में सोचती हैं, तभी तो कभी वह भट्ट साहब तो कभी आलिया भट्ट तो कभी पूजा भट्ट से भिड़ जाती हैं। मैं तो पहले से ही गिरी हुई औरत हूं, मुझे भला कंगना क्या गिराएंगी, मेरे पास कुछ भी गंवाने के लिए नहीं है। मैंने तो अपने आप को खुद बदनाम किया है, यह बताकर कि मैं आई कहां से हूं। अब मुझे इससे ज्यादा कंगना नहीं गिरा सकती हैं।

औरतें अपना डार्क पास्ट छिपा लेती हैं

यह जो सब बातें होती हैं, जैसे बियर बार में काम करना, यह बातें औरतें छिपा लेती हैं। औरतें अपना डार्क पास्ट छिपा लेती हैं। महेश भट्ट रिऐक्ट नहीं कर रहे हैं, क्योंकि उनको कोई इंट्रेस्ट नहीं है इस मामले में। मुझे बहुत बुरा लगा है, इसलिए मैं बोल रही हूं। महेश भट्ट कहते हैं कि जिसको जो बोलना है बोले, मुझे लोग प्यार भी करते हैं।

मुझ पर भट्ट परिवार का बड़ा एहसान है

मैंने भट्ट साहब को कहा था कि आप कुछ नहीं बोलेंगे तो मैं बोलूंगी। हजारों लोगों के साथ महेश भट्ट ने काम किया है, नए लोगों को मौका दिया है, लेकिन आज कोई भी भट्ट साहब के बारे में नहीं बोल रहा है, यह ठीक नहीं है। मुझ पर भट्ट परिवार का बड़ा एहसान है, कोई उस परिवार पर कंगना की तरह झूठा आरोप लगाता है तो मुझे बड़ी तकलीफ होती है।

Kangana Ranaut से पूछताछ के लिए पुलिस ने भेजा था नोटिस लेकिन...Kangana Ranaut से पूछताछ के लिए पुलिस ने भेजा था नोटिस लेकिन…

NBT Entertainment अब Telegram पर भी। हमें जॉइन करने के लिए यहां क्लिक करें और मोबाइल पर पाएं हर जरूरी अपडेट।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कोविड-19: रूस में टीकाकरण के लिए पंजीकरण शुरू

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन द्वारा बड़े पैमाने पर टीकाकरण का ऐलान करने के दो दिन बाद शुक्रवार को स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं जैसे उच्च जोखिम...

तेजी से वजन घटाने के लिए ट्राई करें खीरा-पुदीना सूप, बनाने का तरीका भी बेहद आसान

जो लोग अपना वजन घटाना चाहते हैं या मोटापा कंट्रोल करना चाहते हैं, उनके लिए खीरे-पुदीने का यह सूप किसी वरदान से कम नहीं...

घर आए मेहमानों को शाम के नाश्ते में खिलाएं ये क्रंची चाइनीज भेल, सेहत के साथ स्वाद भी मिलेगा

Chinese Bhel Recipe: चाइनीज भेल मुंबई की एक लोकप्रिय स्ट्रीट फूड रेसिपी है। जिसे लोग अक्सर शाम के नाश्ते में बनाकर खाना पसंद करते...

HTLS 2020 : क्या बढ़ती उम्र को रोका जा सकता है? डॉ डेविड सिनक्लेयर ने बताए लम्बे समय तक जवान रहने के तरीके 

बढ़ती उम्र को कौन नहीं थामना चाहता लेकिन हम सभी जानते हैं कि एक दिन उम्र के इस पड़ाव से सभी को गुजरना...

Recent Comments