Home News भारतवंशी राजनेता प्रीतम सिंह सिंगापुर की संसद में विपक्ष के नेता नियुक्त,...

भारतवंशी राजनेता प्रीतम सिंह सिंगापुर की संसद में विपक्ष के नेता नियुक्त, हासिल की यह उपलब्धि

भारतवंशी राजनेता प्रीतम सिंह सिंगापुर की संसद में विपक्ष के नेता नियुक्त, हासिल की यह उपलब्धि

प्रीतम सिंह वर्कर्स पार्टी के महासचिव हैं.

सिंगापुर:

भारतीय मूल के राजनीतिक नेता प्रीतम सिंह को सिंगापुर की संसद में मंगलवार को विपक्ष का नेता नामित किया गया. यह देश के इतिहास में पहली ऐसी नियुक्ति है. सिंह की वर्कर्स पार्टी ने 10 जुलाई को हुए आम चुनाव में 10 सीटें जीती थीं और यह सिंगापुर की संसद में सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी बन गई थी. 43 वर्षीय सिंह की पार्टी ने 93 सीटों पर चुनाव लड़ा था. प्रीतम सिंह पार्टी के महासचिव हैं. संसदीय कार्यालय ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि सिंगापुर की संसद में कभी भी विपक्ष के नेता का आधिकारिक पद नहीं रहा और न ही संविधान या संसद के स्थायी आदेशों (स्टैंडिंग ऑर्डर्स ऑफ पार्लियामेंट) में ऐसे पद की व्यवस्था है.

यह भी पढ़ें

चैनल ‘न्यूज एशिया’ ने बयान के हवाले से खबर दी है कि संसद में 1950 और 1960 के दशक में भी विपक्ष का नेता नहीं रहा जब संसद में अच्छी संख्या में विपक्षी सदस्य थे. प्रधानमंत्री ली सियान लुआंग की सत्ताधारी पीपुल्स ऐक्शन पार्टी ने आम चुनाव में 83 सीटें जीती थीं और सरकार ने सोमवार को शपथ ली. खबर में बयान के हवाले से बताया गया है कि सिंह और जिम्मेदारियां संभालेंगे और उन्हें विपक्ष के नेता की भूमिका के तौर पर अतिरिक्त विशेषाधिकार दिए जाएंगे.

संसद के अध्यक्ष (स्पीकर) के कार्यालय और सदन में विपक्ष के नेता के दफ्तर ने एक संयुक्त बयान में बताया कि प्रीतम सिंह नीतियों, विधेयकों और प्रस्तावों पर संसदीय बहसों में वैकल्पिक विचार प्रस्तुत करने वाले विपक्ष का नेतृत्व करेंगे. सिंह से प्रवर समिति, लोक लेखा समिति में विपक्षी सदस्यों की नियुक्ति में सलाह-मशविरा लिया जाएगा. सिंह पेशे से वकील हैं. उन्हें अपनी नई भूमिका के लिए भत्ते के तौर पर सालाना 385,000 सिंगापुर डॉलर का पैकेज मिलेगा. प्रधानमंत्री ली ने 11 जुलाई को कहा था कि सिंह को विपक्ष का नेता नामित किया जाएगा.

सोमवार को शपथ लेने के बाद, ली ने कहा कि चुनाव परिणामों ने सिंगापुर के लोगों की राजनीति में विचारों में विविधता के लिए मजबूत इच्छा प्रकट की है. संसद के बयान में कहा गया है कि किसी भी नई नियुक्ति के साथ, विपक्ष के नेता की भूमिका विकसित होगी जैसे हमारी राजनीतिक व्यवस्था विकसित होती है. बयान में कहा गया है कि हम मजबूत हैं, लेकिन स्थिर राजनीतिक व्यवस्था में विपक्ष के नेता के साथ काम करने को उत्सुक हैं जो सिंगापुर और सिंगापुर के हितों की सेवा करे. सिंगापुर के 14वीं संसद की पहली बैठक 24 अगस्त को होगी.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वेट कंट्रोल करने के लिए रोजाना पिएं तीन चीजों से मिलाकर बना आयुर्वेदिक काढ़ा, थकावट भी होगी दूर

वजन कम करने के लिए हम क्या-क्या जतन नहीं करते लेकिन कई बार ऐसा होता है कि वजन कम करने के लिए डाइटिंग और...

खादी उत्पादों की बढ़ रही है मांग, खादी मेले में लौटी रौनक

राजस्थान के उदयपुर में राज्य कायार्लय खादी एवं ग्रामोद्योग भारत सरकार के संयोजन में अम्बेडकर विकास समिति चोमूं द्वारा टाउनहॉल में आयोजित किये जा...

Raj Kachori Recipe : घर पर इस हेल्दी तरीके से बना सकते हैं राज कचौड़ी, जानें रेसिपी

कचौड़ी किसी पसंद नहीं है। वहीं चाय के साथ कचौड़ी का साथ मिल जाए, तो टी टाइम और भी स्पेशल बन जाता है। आज...

ठंड में गले की खराश से मुक्ति दिलाएंगे ये पांच आयुर्वेदिक उपाय, खांसी-जुकाम से भी मिलेगी राहत 

सर्दियों में गले की खराश होना आम बात है लेकिन लम्बे समय तक ऐसी स्थिति रहने पर गले में चोट भी आ सकती है...

Recent Comments