Home News 'शकुंतला देवी' ने पकड़ ली थी कंप्यूटर की गलती, यूं मिला था...

‘शकुंतला देवी’ ने पकड़ ली थी कंप्यूटर की गलती, यूं मिला था उन्हें ‘ह्यूमन कंप्यूटर’ का खिताब

'शकुंतला देवी' ने पकड़ ली थी कंप्यूटर की गलती, यूं मिला था उन्हें 'ह्यूमन कंप्यूटर' का खिताब

शकुंतला देवी (Shakuntala Devi) ने कंप्यूटर द्वारा की गई गलती को किया था हाईलाइट

खास बातें

  • शकुंतला देवी ने किया था कंप्यूटर द्वारा की गई गलती को हाईलाइट
  • एक्ट्रेस को मिला था ‘मानव कंप्यूटर’ का खिताब
  • जल्द ही रिलीज होने वाली है शकुंतला देवी के जीवन पर आधारित फिल्म

नई दिल्‍ली:

अनु मेनन द्वारा निर्देशित ‘शकुंतला देवी (Shakuntala Devi)’ की अपकमिंग बायोपिक शुरूआत से ही चर्चा का विषय बनी हुई है. इस फिल्म में विद्या बालन (Vidya Balan) शकुंतला देवी के किरदार में नजर आएंगी और उनके जीवन से अपने फैंस और बाकी दर्शकों को रु-ब-रु करवाएंगी. अपनी फिल्म के जरिए विद्या बालन अपने जादू से एक बार फिर दर्शकों को आश्चर्यचकित करने के लिए तैयार हैं. वहीं, सान्या मल्होत्रा इस फिल्म में शकुंतला देवी की बेटी अनुपमा बनर्जी की भूमिका में हैं. फिल्म 31 जुलाई के दिन अमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज के लिए तैयार है.

यह भी पढ़ें

फिल्म के जरिए लोग शकुंतला देवी (Shakuntala Devi) के जीवन के उतार-चढ़ाव के साक्षी बनने की राह पर हैं. लेकिन शायद कुछ ही लोगों को पता होगा कि शकुंतला देवी को ‘ह्यूमन कंप्यूटर’ का टाइटल किस तरह मिला था? बता दें कि ऐसा इसलिए हुआ कि  बीबीसी लंदन के इंटरव्यू के दौरान, शकुंतला देवी को गणित का एक कठिन सवाल दिया गया था. लेकिन उन्होंने हाईलाइट करते हुए बताया कि कंप्यूटर द्वारा दिया गया प्रश्न गलत था. किसी ने भी उन पर तब तक विश्वास नहीं किया, जब अगले दिन चैनल को पता चला कि शकुंतला सचमुच सही थीं. इसके बाद से ही ‘ह्यूमन कंप्यूटर’ शकुंतला देवी का पर्याय बन गया है. 

बता दें कि शकुंतला देवी (Shakuntala Devi) की शूटिंग के लिए फिल्म के कलाकारों ने वास्तव में बीबीसी स्टूडियो में शूटिंग की है. प्रामाणिकता से जोड़ते हुए और इसे अधिक वास्तविक बनाते हुए विद्या ने साझा किया, “वहां शूटिंग करना अद्भुत था. आप जानते हैं कि अभिनेता वास्तविक स्थान चाहते हैं और जब उसमें इस तरह का इतिहास मौजूद होता है, तो यह उसे अधिक वास्तविक बना देता है.” बता दें कि उस शो के बाद से ही, शकुंतला एक घरेलू नाम बन गई और उनका यह गणितीय उपहार जल्द ही कई लोगों के लिए प्रेरणा बन गया. इस फिल्म के माध्यम से लोगों को न केवल उनका प्रतिभाशाली पक्ष देखने मिलेगा, बल्कि उनकी उपलब्धियों के बीच एक मां होने के संघर्ष से भी रूबरू करवाया जाएगा.


Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कांग्रेस में बगावत

जम्मू में ग्लोबल गांधी फैमिली नाम के एक एनजीओ के बैनर तले असंतुष्ट कांग्रेसी नेताओं के आयोजन ने तिनके की वह आड़ भी खत्म...

फर्क समझे सरकार

सोशल मीडिया को नियमित करने की बहुचर्चित और वास्तविक जरूरत पूरी करने के मकसद से केंद्र सरकार पिछले हफ्ते जो नए कानून लेकर आई...

भारत-पाकिस्तानः LOC पर शांति की उम्मीद

भारत और पाकिस्तान की सेनाओं की ओर से संयुक्त घोषणापत्र के रूप में गुरुवार को आई यह खबर एकबारगी सबको चौंका गई कि दोनों...

टीकाकरणः नए हालात, नई रणनीति

केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि कोरोना के टीकाकरण का दूसरा चरण सोमवार एक मार्च से ही शुरू हो जाएगा और इसके...

Recent Comments