Home Sport ओलिंपिक चैंपियन ली जुरेई को हराना करियर का टर्निंग पॉइंट : सिंधु

ओलिंपिक चैंपियन ली जुरेई को हराना करियर का टर्निंग पॉइंट : सिंधु

पीवी सिंधुपीवी सिंधु

मुंबई

वर्ल्ड चैंपियन शटलर पीवी सिंधु ने रविवार को कहा कि 2012 में चाइना ओपन में तब ओलिंपिक चैंपियन ली जुरेई को हराने से उनका सीनियर वर्ग में सफलता हासिल करने का भरोसा बढ़ा। सिंधु ने साथ ही कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शुरुआती असफलता निराशाजनक थी। सिंधु ने तब चाइना मास्टर्स के क्वॉर्टर फाइनल में लंदन ओलिंपिक की गोल्ड मेडलिस्ट जुरेई को हराकर बैडमिंटन जगत में अपने नाम से लोगों को परिचित कराया।

इसके एक साल बाद उन्होंने प्रतिष्ठित वर्ल्ड चैंपियनशिप में अपना पहला ब्रॉन्ज मेडल जीता। वर्ल्ड चैंपियनशिप में उन्होंने कुल पांच पदक जीते हैं जिनमें दो ब्रॉन्ज, दो सिल्वर और एक गोल्ड शामिल है। इसके अलावा उन्होंने चार साल पहले रियो में ओलिंपिक सिल्वर मेडल हासिल किया था।

पढ़ें, ‘लॉस एंजिलिस ओलिंपिक में भारत टॉप-10 में रहेगा’

सिंधु ने टेबल टेनिस खिलाड़ी मुदित दानी से उनके ऑनलाइन कार्यक्रम ‘इन द स्पॉटलाइट’ में कहा, ‘जब मैंने खेलना शुरू किया तो मैं अच्छा प्रदर्शन कर रही थी लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर उस तरह का नहीं था। मैं पहले दौर, क्वॉलिफाइंग दौर में हार जाती। मुझे अहसास हुआ कि मुझे बेहतर खेल दिखाना होगा और तब मैंने कड़ी मेहनत शुरू की।’

पीवी सिंधु ने लोगों से की अपील- लॉकडाउन को 100% सफल बनाएंपीवी सिंधु ने लोगों से की अपील- लॉकडाउन को 100% सफल बनाएं

उन्होंने कहा, ‘मुझे हार पर दुख होता और मैं सोचती थी कि मैं क्या गलतियां कर रही हूं। मैं अन्य की तरह कड़ी मेहनत कर रही थी। मेरे करियर का टर्निंग पॉइंट था जब 2012 में मैंने ली जुरेई को हराया। उस समय वह ओलिंपिक चैंपियन थीं। इसके बाद मैंने ज्यादा मेहनत की। मैंने कदम दर कदम, साल दर साल सुधार किया।’

ओलिंपिक 2004 के गोल्ड मेडलिस्ट तौफीक हिदायत के बैकहैंड और दो बार के ओलिंपिक चैंपियन लिन डैन की खेल शैली की प्रशंसक सिंधु ने याद किया किस तरह से उनके रियो से हैदराबाद पहुंचने पर एक फैन ने अपने महीने का वेतन उन्हें दे दिया था।

पीवी सिंधु, मानसी जोशी और गुरु गोपीचंद का सम्मान​

  • पीवी सिंधु, मानसी जोशी और गुरु गोपीचंद का सम्मान​

    तेलगांना के राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हा ने बुधवार को हाल में बैडमिंटन विश्व चैम्पियन बनी पीवी सिंधु और विश्व पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली मानसी जोशी को सम्मानित किया। राज भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में दोनों खिलाड़ियों के अलावा मुख्य राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद और अन्य कोचों को भी सम्मानित किया गया।

  • सिंधु जीतेंगी ओलिंपिक गोल्ड

    राज्यपाल ने दोनों के प्रदर्शन की प्रशंसा करते हुए कहा कि सिंधु अगले साल होने वाले तोक्यो ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के बाद ही आराम करेंगी। उन्होंने कहा, ‘मैं आप सभी को आश्वस्त करता हूं कि सिंधु ओलिंपिक का स्वर्ण पदक लेकर इसी राज भवन में आएंगी। मैं यहां रहूंगा या नहीं, लेकिन राज भवन अगले साल उन्हें सम्मानित करेगा।’

  • मानसी को सराहा, कहा- युवाओं की आदर्श हैं

    मानसी की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि वह सभी के लिए आदर्श हैं। उन्होंने कहा- मानसी युवाओं के लिए आदर्श हैं। उनका जैसे संघर्ष है, उससे युवाओं को सीख मिलेगी। 2011 में एक दुर्घटना में अपना बायां पैर गंवाने वाली मानसी जोशी ने बासेल में विश्व पैरा बैडमिंटन चैंपियनशिप के महिला एकल एसएल-3 फाइनल में हमवतन पारुल परमार को 21-12, 21-7 से हराकर खिताब जीता था।

  • गुरु गोपीचंद का भी सम्मान

    इस मौके पर नैशनल कोच पुलेला गोपीचंद का भी सम्मान किया गया। भारत के लिए खेल चुके गोपीचंद के कोच बनने के बाद से भारतीय शटलरों ने दुनियाभर में तिरंगा लहराया है। साइना नहेवाल हों या पीवी सिंधु सभी उनकी की शिष्य हैं।

  • सीएम से की मुलाकात

    सिंधु ने गुरु गोपीचंद और अपने माता-पिता के साथ तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव से मुलाकात की। गोपीचंद ने कहा कि कोचों और सहयोगी स्टाफ की मदद से ही यह संभव हो सका।

विश्व में सातवें नंबर की खिलाड़ी ने कहा, ‘यह दिल छूने वाली घटना थी और मुझे आज भी यह अच्छी तरह से याद है। मैंने उन्हें पत्र लिखा और कुछ पैसे भी भेजे।’

कोविड-19 महामारी के दौरान सिंधु घर पर ही प्रैक्टिस कर रही हैं। वह पेटिंग जैसी कुछ नई चीजें भी सीख रही हैं। उन्होंने कहा, ‘मैं खाना भी बना रही हूं। यह वास्तव में दिलचस्प है क्योंकि पहले सिर्फ बैडमिंटन होता था लेकिन अब आप अलग चीजें सीख रहे हो जो रचनात्मक हैं।’

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वेट कंट्रोल करने के लिए रोजाना पिएं तीन चीजों से मिलाकर बना आयुर्वेदिक काढ़ा, थकावट भी होगी दूर

वजन कम करने के लिए हम क्या-क्या जतन नहीं करते लेकिन कई बार ऐसा होता है कि वजन कम करने के लिए डाइटिंग और...

खादी उत्पादों की बढ़ रही है मांग, खादी मेले में लौटी रौनक

राजस्थान के उदयपुर में राज्य कायार्लय खादी एवं ग्रामोद्योग भारत सरकार के संयोजन में अम्बेडकर विकास समिति चोमूं द्वारा टाउनहॉल में आयोजित किये जा...

Raj Kachori Recipe : घर पर इस हेल्दी तरीके से बना सकते हैं राज कचौड़ी, जानें रेसिपी

कचौड़ी किसी पसंद नहीं है। वहीं चाय के साथ कचौड़ी का साथ मिल जाए, तो टी टाइम और भी स्पेशल बन जाता है। आज...

ठंड में गले की खराश से मुक्ति दिलाएंगे ये पांच आयुर्वेदिक उपाय, खांसी-जुकाम से भी मिलेगी राहत 

सर्दियों में गले की खराश होना आम बात है लेकिन लम्बे समय तक ऐसी स्थिति रहने पर गले में चोट भी आ सकती है...

Recent Comments