Home News विद्युत जामवाल की ऐक्शन पैक्ड 'खुदा हाफिज' का ट्रेलर, लापता पत्नी की...

विद्युत जामवाल की ऐक्शन पैक्ड ‘खुदा हाफिज’ का ट्रेलर, लापता पत्नी की तलाश में भटकते पति की कहानी

Edited By Shashikant Mishra | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

फिल्म का एक सीनफिल्म का एक सीन

ऐक्टर विद्युत जामवाल की अकमिंग फिल्म ‘खुदा हाफिज‘ का ट्रेलर रिलीज हो चुका है। उनके फैंस काफी दिनों से अपने पंसदीदा कलाकार की फिल्म के ट्रेलर का इंतजार कर रहे थे। विद्युत जामवाल ने उनकी इच्छा पूरी कर दी है। ट्रेलर में उनका ऐक्शन अवतार देखने को मिल रहा है।

पति के द्वारा पत्नी की खोजने की कहानी

फिल्म का ट्रेलर में दिखाया गया है कि विद्युत जामवाल (समीर) अपनी गुमशुदा पत्नी शिवलीका ओबेरॉय (नरगिस) की तलाश में पति भटक रहा है। उसे पता चलता है कि उनकी पत्नी गलत लोगों के कब्जे में है। इसके बाद वह अपनी पत्नी को उन लोगों से बचाने के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार है।

फिल्म 'खुदा हाफिज' का ट्रेलर रिलीजफिल्म ‘खुदा हाफिज’ का ट्रेलर रिलीज

ट्रेलर में दिखी मंदी, किडनैपिंग, सेक्स रैकेट जैसी चीजें

खुदा हाफिज के करीब ढाई मिनट के ट्रेलर में आपको मंदी, किडनैपिंग, सेक्स रैकेट जैसी चीजें देखने को मिलती हैं। वहीं, एक पति अपनी पत्नी को बचाने के लिए अपनी जान की परवाह किए बिना गुंडों से भिड़ जाता है।

फारुक कबीर के निर्देशन में बनी ‘खुदा हाफिज’

फारुक कबीर के निर्देशन में बनी फिल्म ‘खुदा हाफिज’ में विद्युत जामवाल और शिवलीका ओबेरॉय के अलावा अन्नू कपूर, शिव पंडित महत्वपूर्ण भूमिका में हैं। फिल्म को कुमार मंगत पाठक ने प्रड्यूस किया है। फिल्म 14 अगस्त को डिज्नी प्लस हॉटस्टार पर रिलीज होने जा रही है।

NBT Entertainment अब Telegram पर भी। हमें जॉइन करने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें और मोबाइल पर पाएं हर जरूरी अपडेट।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ब्रेन ड्रेन को रोकना होगा

टाइम्स ऑफ इंडिया ने 17 जून के अंक में 'रेजिडेंट इंडियंस' शीर्षक से संपादकीय में लिखा है कि भारत से इमिग्रेशन भले बढ़ रहा...

टीके पर नासमझी

सरकार ने अपनी तरफ से यह स्पष्टीकरण देकर अच्छा किया है कि की कोवैक्सीन में नवजात बछड़ों का सीरम नहीं होता। सोशल मीडिया...

विरोध और आतंकवाद का फर्क

हाल के कुछ अहम फैसलों पर नजर डालें तो ऐसा लगता है जैसे अदालतें लोकतांत्रिक मूल्यों की पुनर्प्रतिष्ठा में लगी हुई हैं। राजद्रोह से...

महंगाई ने बढ़ाई मुसीबत

पेट्रोलियम गुड्स, कमॉडिटी और लो बेस इफेक्ट के कारण मई में थोक महंगाई दर 12.94 फीसदी और खुदरा महंगाई दर 6.30 फीसदी तक चली...

Recent Comments