Home Gadgets भारतीय मार्केट में चीनी स्मार्टफोन ब्रांड्स को हुआ नुकसानः रिपोर्ट

भारतीय मार्केट में चीनी स्मार्टफोन ब्रांड्स को हुआ नुकसानः रिपोर्ट

भारत में स्मार्टफोन शिपमेंट में 2020 के दूसरी तिमाही में 51 प्रतिशत की दर से साल-दर-साल (YoY) की गिरावट आई है। इस बात की जानकारी शुक्रवार को सामने आई Counterpoint Research की एक रिपोर्ट में मिली है। हालांकि COVID-19 महामारी के कारण आपूर्ति की बाधाओं का सामना करने और बढ़ती चीन विरोधी भावनाओं के बावजूद Xiaomi ने इस तिमाही में अपना नेतृत्व जारी रखा है। इसके अलावा यह जानकारी भी दी गई है कि सैमसंग ने महामारी में सबसे तेजी से रिकवरी देखी और देश में प्री-कोविड ​​के स्तर के 94 प्रतिशत स्तर तक पहुंच गई। मार्च तिमाही के दौरान दक्षिण कोरियाई कंपनी ने 16 प्रतिशत मार्केट शेयर से बढ़त बना कर 26 प्रतिशत मार्केट शेयर हासिल कर लिया है।

Counterpoint Research की एक रिपोर्ट के अनुसार, अप्रैल में राष्ट्रीय लॉकडाउन के कारण बिल्कुल ठप पड़े शिपमेंट का झटका झेलने के बाद और जून में 0.3 प्रतिशत साल-दर-साल की मामूली गिरावट दर्ज करने के बाद अब स्मार्टफोन बाज़ार सामान्य होने लगा है। Xiaomi ने 29 प्रतिशत मार्केट शेयर के साथ साल की दूसरी तिमाही में भी अपना वर्चस्व बना कर रखा है। यह पिछले साल की समान तिमाही में हासिल की गई 28 प्रतिशत मार्केट से ज्यादा है। हालांकि मार्च तिमाही की 30 प्रतिशत मार्केट से कम है।

Xiaomi के बाद, Samsung बाज़ार में दूसरे स्थान पर कायम है। पिछले साल की समान तिमाही में 25 प्रतिशत मार्केट हासिल कर चुकी सैमसंग इस तिमाही में बढ़त के साथ 26 प्रतिशत हिस्सेदारी हासिल करने में कामयाब रही है। यह इस साल की पहली तिमाही से 10 प्रतिशत ज्यादा हिस्सेदारी है।

जून में खत्म होने वाली तिमाही में 17 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ तीसरे नंबर पर Vivo रही है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कंपनी ने प्री-कोविड मार्केट की 60 प्रतिशत रिकवरी कर ली है। Realme, जो शाओमी के खिलाफ कड़ी प्रतिसर्धा में है, 11 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ चौथे स्थान पर है। यह पिछले साल की दूसरी तिमाही की नौ प्रतिशत हिस्सेदारी से तीन प्रतिशत ज्यादा है। हालांकि मार्च तिमाही से तीन प्रतिशत कम है।

रियलमी की मूल कंपनी Oppo ने सप्लाई में बधाओं के चलते काफी संघर्ष किया है। फिर भी कंपनी 9 प्रतिशत मार्केट शेयर के साथ पांचवा स्थान हासिल करने में कामयाब रही है।
 

smartphone

इन पांच बड़े खिलाड़ियों के अलावा, Counterpoint Research की रिपोर्ट बताती है कि OnePlus ने 30,000 से ऊपर के प्राइस सेगमेंट की प्रीमियम मार्केट में अपने स्थान को वापस हासिल किया है। उम्मीद की जा रही है कि कंपनी OnePlus Nord के साथ इस मार्केट पर और अधिक पकड़ बनाएगी। इसके अलावा अल्ट्रा-प्रीमियम सेगमेंट, जो 45,000 रुपये से ऊपर होता है, में Apple ने अपना वर्चस्व बनाए रखा है।

काउंटरपॉइन्ट रिसर्च की विश्लेषक शिल्पी जैन ने कहा है कि भारतीय मार्केट में चीनी ब्रांड्स की भागीदारी इस साल की पहली तिमाही में 81 प्रतिशत से घट कर तीसरी तिमाही में 72 प्रतिशत पर आ गई है। रिपोर्ट का कहना है कि इस गिरावट की वजहों में ओप्पो, वीवो और रियलमी जैसे बड़े ब्राड्स की सप्लाई में आने वाली बाधाएं और भारत में तेज़ी से बढ़ रही चीन विरोधी भावनाएं हैं। ये भावनाएं खासतौर पर भारत सरकार द्वारा 50 से अधिक चीनी ऐप्स को बैन करने के बाद बढ़ गई। भारत-चीन सीमा विवाद के बाद से ही चीनी ब्रांड्स के शेयर में गिरावट भी आई है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

अफगानिस्तान से पैकअप

बाइडेन प्रशासन की ताजा घोषणा के अनुसार अमेरिकी फौज इस साल 11 सितंबर यानी ट्विन टावर आतंकी हमले की बीसवीं बरसी तक अफगानिस्तान से...

अब जाकर दिखी तेजी

रेकॉर्ड संख्या में आ रहे कोरोना के नए मामलों के बीच देश के कई हिस्सों में टीकों की तंगी की शिकायतें आने लगी हैं।...

मां, बहन, बेटी से आगे

सिंगल मदर से जुड़े एक हालिया फैसले में ने जो महत्वपूर्ण टिप्पणियां दी हैं, वे न केवल हमारी सरकारों को दिशा दिखाने वाली...

असम में नया क्या हुआ?

असम विधानसभा चुनाव का नतीजा 2 मई को आएगा। वहां पार्टियां अपने उम्मीदवारों की हिफाजत को लेकर अभी से चौकन्ना हो गई हैं। विपक्षी...

Recent Comments