Home Bhilwara samachar दिल्ली: डांस के जरिए मरीज़ों के साथ-साथ अपनी भी हिम्मत बढ़ा रहे...

दिल्ली: डांस के जरिए मरीज़ों के साथ-साथ अपनी भी हिम्मत बढ़ा रहे हैं कोरोना वॉरियर्स

दिल्ली: डांस के जरिए मरीज़ों के साथ-साथ अपनी भी हिम्मत बढ़ा रहे हैं कोरोना वॉरियर्स

डांस और योग के जरिए डॉक्टर दूर कर रहे हैं कोरोना का तनाव.

खास बातें

  • डांस के जरिए तनाव दूर
  • डांस का सहारा ले रहे डॉक्टर्स और मरीज
  • दिल्ली के डॉक्टरों का वीडियो वायरल

नई दिल्ली:

पूरे देश बुरी तरह कोरोनावायरस की गिरफ्त में है. ऐसे में मरीजों के बाद इससे सीधी टक्कर ले रहे हैं डॉक्टर. पिछले दिनों दिल्ली के डॉक्टर खुद को तनावरहित करने और अपनी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए योग करते नज़र आए थे, अब कुछ डॉक्टरों का डांस करते हुए वीडियो सामने आया है. अक्षरधाम के एक कोविड केयर सेंटर के डॉक्टरों का एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया जा रहा है, जिसमें वो कोरोना से रिकवर हो रहे मरीजों के साथ डांस कर रहे हैं. इस वीडियो में ये डॉक्टर इंडियन-वेस्टर्न डांस मूव्स करते देखे जा सकते हैं. 

यह भी पढ़ें

इसके पहले भी ऐसे कई वीडियो सामने आए हैं, जिनमें डॉक्टर और मेडिकलकर्मी अलग-अलग तरीकों से कोरोना से लड़ाई के बीच अपना तनाव भगाने की कोशिश कर रहे हैं. दिल्ली, बेंगलुरु, कानपुर और चेन्नई सहित कई जगहों से ऐसे वीडियो सामने आए है, जिसमें डॉक्टर्स तनाव के बीच अपना और मरीजों का मनोबल बढ़ाने के लिए डांस कर रहे हैं. सोशल मीडिया पर इन डॉक्टरों की खूब तारीफ हो रही है. ये कोरोना वॉरियर्स इतनी गर्मी में भारी-भरकम पूरी तरह से बंद PPE किट पहनकर, इतने खतरनाक और जानलेवा बीमारी के बीच घंटों-घंटों तक ओवरटाइम कर रहे हैं.

बता दें कि दिल्ली भारत में सबसे ज्यादा संक्रमण के मामलों के साथ तीसरे नंबर पर है. पहले नंबर महाराष्ट्र और दूसरे नंबर पर चेन्नई है. दिल्ली में बुधवार को संक्रमण के कुल 1,324 नए मामले सामने आए हैं. राजधानी में कुल मरीजों की संख्या 1.25 लाख तक पहुंच गई है. राज्य की लगभग एक चौथाई जनसंख्या को कोरोनावायरस हो चुका है, हालांकि, अब इसके मामले दोगुने होने के बीच के वक्त में 100 दिनों का अंतर आ गया है, वहीं रिकवरी रेट भी 80 फीसदी से कुछ ऊपर चल रहा है. 

National Centre for Disease Control (NCDC) के डायरेक्टर डॉक्टर सुजीत कुमार ने कहा कि ‘महामारी फैलने के लगभग छह महीने हो चुके हैं, अभी तक इसकी चपेट में 22.86 फीसदी जनसंख्या ही आई है, लेकिन बचे हुए 77 फीसदी लोगों को अभी इस संक्रामक बीमारी का खतरा है और इससे बचाव के लिए पूरी सावधानी बरतने की जरूरत है.’

Video: कोविड-19 के बीच नई दुर्लभ बीमारी, मुंबई के वाडिया अस्पताल में दो बच्चों की मौत

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सर्दियों के कारण फट गई हैं एड़ियां? इन आसान हैक्स से रखें अपने पैरों और एड़ी को नरम 

सर्दियों के दौरान फटी एड़ी एक आम समस्या है। इसका कारण है कि हम अपने चेहरे, गर्दन और हाथों को तो मॉइस्चराइज करते...

अनिश्चय का मारा मंच

रविवार को संपन्न हुई जी-20 देशों की दो दिवसीय वर्चुअल शिखर बैठक में कोविड-19 महामारी का मुद्दा छाया रहा, जो स्वाभाविक है। जो बात...

अप्रैल तक सर्वाधिक इस्तेमाल किए गए अंग्रेजी शब्दों में से एक है ‘कोरोना वायरस’

ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी से संबंधित संगठन 'ऑक्सफोर्ड लैंग्वेजेज ने कहा है कि 'कोरोना वायरस शब्द इस साल अप्रैल तक सर्वाधिक इस्तेमाल किए गए अंग्रेजी...

Recent Comments