Home भीलवाड़ा मांडलगढ़ COVID-19 से लड़ने के लिए वैश्विक सहयोग की जरूरत - Smart Halchal

COVID-19 से लड़ने के लिए वैश्विक सहयोग की जरूरत – Smart Halchal

बीजिंग। दुनिया भर कोविड-19 महामारी से जूझ रही है। कई देशों में वायरस का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है। इस दौरान वैश्विक सहयोग की भावना कमजोर होती दिख रही है। क्योंकि अमेरिका जैसे राष्ट्र अपने देश के हितों को सर्वोपरि रखने पर जोर दे रहे हैं।

जैसा कि हम जानते हैं कि अमेरिका पहले ही विश्व स्वास्थ्य संगठन से अलग होने का ऐलान कर चुका है। इस तरह कोरोना वायरस को नियंत्रण में करने के प्रयासों को झटका लगा है। खासकर ऐसे वक्त में जब छोटे और गरीब देशों में यह महामारी तेजी से अपने पैर पसार रही है।

हालांकि कुछ अंतर्राष्ट्रीय संगठन इस खतरनाक महामारी से निपटने के लिए विश्व को मिल-जुल कर कोशिश करने की वकालत करते रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र हो या फिर अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष, इन संगठनों को ग्लोबल सहयोग की जरूरत महसूस हो रही है। क्योंकि इन संगठनों के प्रतिनिधि इस बात से अच्छी तरह वाकिफ हैं कि कोरोना वायरस का संक्रमण दुनिया में किस कदर खौफ पैदा कर चुका है। क्योंकि वायरस किसी देश की सीमा को नहीं मानता है। इसके खात्मे के लिए सभी राष्ट्रों को एकजुट होकर सहयोग करने की आवश्यकता है।

इस संदर्भ में आईएमएफ की महानिदेशक क्रिस्टालिना जार्जिवा ने भी समूचे विश्व समुदाय से अपील की है कि वह विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग करे। उनका मानना है कि इससे न केवल कोविड-19 महामारी के संकट को कम से कम समय में काबू में किया जा सकेगा, बल्कि यह वैश्विक पुनरुत्थान के लिए भी जरूरी है।

आईएमएफ की इस अपील का महत्व समझा जा सकता है, क्योंकि आज पूरी दुनिया में वायरस ने हाहाकार मचा कर रखा है। इसका सीधा असर लोगों की दिनचर्या के साथ-साथ व्यापार और अर्थव्यवस्था पर भी पड़ा है। इसे देखते हुए इंटरनेशनल कम्युनिटी को हेल्थ, एजुकेशन आदि क्षेत्रों में विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। इसके लिए इन क्षेत्रों में निवेश बढ़ाने की भी जरूरत है, ताकि वायरस के चलते जो संकट खड़ा हुआ है, उसे कुछ हद तक कम किया जा सके।

कोविड-19 की वजह से विश्व तमाम चुनौतियों का सामना कर रहा है। आईएमएफ की हालिया रिपोर्ट से भी इसका पता चलता है। जिसमें कहा है कि इस साल वैश्विक उत्पादन में 4.9 फीसदी की कमी दर्ज की जाएगी। इसके साथ ही आर्थिक दबाव के चलते गरीबी और असमानता की स्थिति और चिंताजनक होने वाली है।

इन सब चिंताओं और चुनौतियों के मद्देनजर सभी देशों और प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय संगठनों को एकजुट होकर काम करना चाहिए, ताकि सदी के सबसे बड़े संकट से मुकाबला किया जा सके।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

आयुर्वेद के अनुसार सर्दियों में हर व्यक्ति को करना चाहिए इन पांच चीजों का सेवन

सर्दियों का मौसम खान-पान के लिहाज से काफी अहम होता है। इस सीजन में कुछ खास फल और सब्जियां ऐसी हैं, जिन्हें खाने से...

कोरोना ने हमें दादी-नानी की रेसिपीज को फिर से याद दिलाया : शेफ गगन आनंद

आपने ‘ओल्ड इज गोल्ड’ की कहावत तो सुनी ही होगी! कोरोना महामारी ने हमें पुरानी चीजों का महत्व एक बार फिर से बता दिया।...

कोरोना महामारी ने रेस्टोरेंट और खाने की दुनिया पर क्या-क्या असर डाला, जानें दुनिया के दो मशहूर शेफ के नजरिए से

कोरोना महामारी ने हम सभी को कुछ न कुछ सिखाया। क्वारंटीन पीरियड ने हमें पहले से कहीं ज्यादा अपने दोस्तों और परिवारवालों के...

सर्दियों में सूप से ज्यादा हेल्दी है काजू-मखाने की खीर, यह है 20 मिनट रेसिपी

मीठा खाने के शौकीनों को खीर भी बेहद पसंद होती है। खीर बनाने के कई तरीके होते हैं। आज हम आपको ट्रेडिशनल चावल और...

Recent Comments